--Advertisement--

यहां मां पूछती है- बेटा आज खेले या नहीं...स्कूल से ही धनवर्षा, 6 करोड़ तक का इनाम

हरियाणा एक ऐसा राज्य है जहां खेल हर घर की शीर्ष प्राथमिकता में है। यहां अभिभावक बच्चों की तैयारी साथ खेलकर भी कराते हैं।

Danik Bhaskar | Jan 01, 2018, 07:15 AM IST

पानीपत. ‘वो दिन सबसे बड़ा होगा जब माता-पिता बच्चे से पूछेंगे कि तूने आज खेला या नहीं’ देश के पैरेंट्स से यह उम्मीद क्रिकेट के भगवान सचिन तेंडुलकर ने हाल ही में की है। मगर हरियाणा एक ऐसा राज्य है जहां खेल हर घर की शीर्ष प्राथमिकता में है। यहां अभिभावक बच्चों की तैयारी साथ खेलकर भी कराते हैं।

गांव, गली, मैदान, खेत खलिहान और बड़े-बड़े स्टेडियम में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक खेल में हाथ आजमाते नजर आ जाएंगे। सोनीपत के रिंढाना, पानीपत के बुढ़शाम में ऐसा नजारा आम है। प्रो कबड्‌डी में सर्वाधिक आठ खिलाड़ी इन्हीं दो गांवों से हैं। 100 से अधिक खिलाड़ी सरकारी नौकरी में हैं। ये दो गांव तो महज नजीर हैं, अब हर गांव में खेल जिंदगी का अहम हिस्सा हो गया है। सरकार गांव-गांव खेल नर्सरी खोल रही है।

स्कूल से ही धनवर्षा, 6 करोड़ तक का इनाम, यहां क्लास वन अफसर बनने का भी अवसर देता है खेल

यूथ कॉमनवेल्थ, नेशनल गेम्स, नेशनल स्कूल गेम्स, इंटर यूनिवर्सिटी, नेशनल वूमेन स्पोर्ट्स, आॅल इंडिया रूरल स्पोर्ट्स, इंटरनेशनल/नेशनल वेटर्न चैंपियनशिप, स्पेशल ओलिंपिक वर्ल्ड गेम्स, वर्ल्ड मैराथन फॉर फिजकली एंड मेंटली चैलेंज्ड स्पोर्ट्स पर्सन के लिए भी 20 हजार से लेकर 5 लाख रुपए तक का पुरस्कार है।

42 खेलों में मिलती है नौकरी

ओलिंपिक और वर्ल्ड चैंपियनशिप, एशियन गेम्स, कॉमनवेल्थ व अन्य इंटरनेशनल चैंपियनशिप के मेडल विजेता यहां क्लास वन अफसर बन सकते हैं। राज्य की खेल पॉलिसी के तहत सरकारी नौकरियों में खिलाड़ियों के लिए 3 प्रतिशत कोटा है। इसमें अब खिलाड़ियों को लिखित परीक्षा और मैरिट के दौर से गुजरना होगा। इसके साथ ही नए नियमों में अब सभी तरह के खेलों को 13 कैटेगरी में विभाजित किया गया है। दूसरे राज्य के ऐसे खिलाड़ी भी नौकरी पा सकते हैं जो हरियाणा से खेलते हों।

हरियाणा पॉलिसी में शामिल ओलंपिक के ये खेल

आर्चरी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बास्केटबॉल, बॉक्सिंग, केनोइंग, साइक्लिंग, इक्वेस्ट्रियन, फेंसिंग, फुटबॉल, गोल्फ, जिम्नास्टिक, हैंडबॉल, हॉकी, जूडो, ट्राइथलॉन, रोइंग, स्विमिंग, सेलिंग, शूटिंग, टेबल-टेनिस, ताइक्वांडो, टेनिस, वॉलीबॉल, वेटलिफ्टिंग और रेसलिंग।
नॉन ओलंपिक में शामिल हैं ये खेल: बेसबॉल, बिलिय‌र्ड्स, चेस, क्रिकेट, कबड्डी (हरियाणा स्टाइल), कबड्डी (नेशनल स्टाइल), कराटे, खो-खो, कॉर्फ बॉल, नेटबॉल, स्केटिंग, स्नूकर, सॉफ्टबॉल, स्क्वॉश , थ्रो-बॉल और योगा।