--Advertisement--

सदन के बाहर इनेलो विधायकों ने की नारेबाजी, विधानसभा सत्र में दोबारा मिली एंट्री

मंगलवार को निलंबित कर दिए गए थे इनेलो के विधायक।

Danik Bhaskar | Mar 14, 2018, 12:22 PM IST
विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करते हुए इनेलो विधायक। विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करते हुए इनेलो विधायक।

चंडीगढ़। हरियाणा विधानसभा के बाहर बुधवार को एक बार फिर इनेलो विधायकों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। मंगलवार को सदन से निलंबित होने के बाद इनेलो विधायकों ने सदन के बाहर समानांतर सदन चलाने की घोषणा की थी लेकिन निलंबन से बचे 4 विधायकों ने सदन में दोबारा इनेलो विधायकों को शामिल किए जाने की मांग की। उनका कहना था कि वे भी अपने हल्कों की आवाज उठाने के लिए सदन में आए हैं। इस पर विधानसभा स्पीकर कंवर पाल गुज्जर ने सदन से उन्हें बुलाने के लिए पूछा। सदन की अनुमति के बाद इनेलो विधायकों को सदन में शामिल होने के लिए दोबारा एंट्री दे दी। बता दें कि विधानसभा सत्र 15 मार्च तक चलेगा। यमुना के पानी को गंदा करने का उठा मुद्दा...

- सदन के अंदर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ने दिल्ली द्वारा गंदा पानी यमुना में डालकर उसे प्रदूषित करने का मामला उठा। विधायकों ने कहा कि इस वजह से गुड़गांव, फरीदाबाद और मेवात के लोगों को पीने के लिए गंदा पानी मिल रहा है।
- इस पर सीएम मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि उन्होंने इस समस्या के लिए कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ के नेतृत्व में एक कमेटी गठित करने का निर्णय लिया है। कमेटी में गुड़गांव, मेवात, फरीदबाद और पलवल के विधायक भी शामिल होंगे। जो इस समस्या का समाधान तलाशेगी।
- उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार से मांग की जाएगी कि हरियाणा से पहले यमुना में किसी भी तरह का गंदा पानी न डाला जाए। इस कमेटी में दिल्ली सरकार को भी शामिल किए जाने की योजना बनाई जाएगी। यमुना के साथ लगते इलाकों में नया नाला बनाए जाने का भी विचार है।
- सीएम ने कहा कि इनेलो, कांग्रेस और बीजेपी के विधायकों ने मिलकर कहा था कि इन जिलों में गंदे पानी के कारण कैंसर रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

सभी सदस्यों की सहमति के बाद इनेलो विधायकों को मिली सदन में दोबारा एंट्री। सभी सदस्यों की सहमति के बाद इनेलो विधायकों को मिली सदन में दोबारा एंट्री।
सीएम मनोहर लाल खट्टर सदन में बोलते हुए। सीएम मनोहर लाल खट्टर सदन में बोलते हुए।