--Advertisement--

हत्या कर नाबालिग दाेस्त का शव नहर में बहाने वाले चार दोषियों को उम्रकैद

मामले में दोषी धर्मबीर, प्रवीण, सोनू व आशीष को उम्रकैद की सजा सुनाई है, जबकि सचिन को बरी कर दिया।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 05:15 AM IST

सोनीपत . नाबालिग दोस्त की हत्या कर शव नहर में फेंकने के मामले में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश डॉ. सुशील कुमार गर्ग की कोर्ट ने सोमवार को फैसला सुनाया। मामले में दोषी धर्मबीर, प्रवीण, सोनू व आशीष को उम्रकैद की सजा सुनाई है, जबकि सचिन को बरी कर दिया। दोषियों पर 35-35 हजार रुपए जुर्माना भी किया है। जुर्माना न देने पर दोषियों काे एक साल की अतिरिक्त कैद काटनी होगी।


बता दें कि दो फरवरी, 2015 को गांव हलालपुर निवासी तेज सिंह ने थाना खरखौदा में शिकायत देकर बताया था कि उसके नाबालिग बेटे रोहित को 27 जनवरी 2015 को गांव के ही युवक आशीष उर्फ पकोड़ा, सोनू उर्फ गप्पड और सन्नी उर्फ सचिन व अन्य दो से तीन युवक घर से बुलाकर ले गए थे। बेटा देर रात तक घर नहीं लौटा। पुलिस ने इस संदर्भ में मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी। घटना के दिन आरोपी आशीष, सन्नी, कर्मबीर और धर्मबीर की सोनीपत कोर्ट में पेशी थी। 2014 में इन चारों पर बारोटा के पास बाइक लूटने का आरोप लगा था।