--Advertisement--

वाहनों के बीच दौड़े 500 युवा व बच्चे, फाइल में 100 रुपए पर सिग्नेचर कराकर दिए 60 रु

शहर में मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया। इसमें प्रदेशभर के करीब 500 युवाओं ने हिस्सा लिया। इ

Danik Bhaskar | Jan 23, 2018, 06:27 AM IST

जींद/ नरवाना. जिला खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग की ओर से सोमवार को वसंत पंचमी व सर छोटूराम जयंती के मौके पर शहर में मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया। इसमें प्रदेशभर के करीब 500 युवाओं ने हिस्सा लिया। इस दौरान एसडीएम डाॅ. किरण सिंह ने मैराथन को झंडी दिखाकर महज खानापूर्ति कर दी। मैराथन में युवाओं को सड़क पर दौड़ लगाते समय दिक्कत न हो, इसके लिए प्रशासन द्वारा कोई भी प्रबंध नहीं किए गए थे। इस कारण छोटे बच्चों से लेकर युवाओं तक ने वाहनों के बीच में व भीड़ में ही दौड़ लगाई।

गनीमत यह रही कि इस दौरान कोई हादसा नहीं हुआ। इसके अलावा मैराथन में हिस्सा लेने वाले धावकों को बांटी जाने वाली राशि में भी आयोजकों ने घपला किया। धावकों के किराया राशि के लिए फार्म में 100 रुपए भरकर हस्ताक्षर करवाए गए लेकिन उन्हें इस दौरान महज 60 रुपए ही दिए गए। इस पर युवाओं ने आपत्ति जताई। इसी तरह रिफ्रेशमेंट भी काफी धावकों को नहीं मिल पाई।

300 बच्चों का ही आया था बजट
जिला खेल अधिकारी विनोद बाला ने बताया कि सरकार की तरफ से जो बजट आया था उसे बच्चों में प्रशिक्षकों के माध्यम से बांट दिया गया है। बाहर से आए बच्चों को 100 रुपए किराया दिया गया। इसके अलावा सभी को रिफ्रेशमेंट दी गई। सरकार की तरफ से सिर्फ 300 बच्चों के लिए बजट भेजा गया था। घोटाले जैसा कोई मामला नहीं है।