--Advertisement--

कमीशनखोरी

हरियाणा विकास प्राधिकरण के पंचकूला स्थित मुख्यालय पर कमीशनखोरी का बड़ा खेल चल रहा है।

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 06:12 AM IST

पंचकूला/ पानीपत. हरियाणा विकास प्राधिकरण के पंचकूला स्थित मुख्यालय पर कमीशनखोरी का बड़ा खेल चल रहा है। यहां अगर किसी भी प्रॉपर्टी की फाइल नहीं मिल रही तो बाबूओं और प्रॉपर्टी डीलर्स का एक गिरोह सब कुछ मुहैया करवा देता है। अधिकारियों की मिलीभगत से बड़े एरिया के नक्शे की फीस भरने की बजाय कम फीस के हिसाब से उसे फाइलों में छोटा दिखा दिया जाता है। वहीं जो प्रॉपर्टी लीटिगेशन में है। उन केसों को सॉल्व करवाने से लेकर बिकवाने का काम यहीं इस्टेट ऑफिस में बैठकर किया जाता है। इन सारी बातोें का खुलासा पिछले दिनों सीएम फ्लाइंग स्क्वायड की छापेमारी के दौरान हुआ।


अब सीएम फ्लाइंग स्क्वायड ने इस पूरे गिरोह के मुख्य आरोपी विकास सैनी को भी गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार को उसे कोर्ट में पेश किया गया। टीम का दावा है कि विकास से कई बाबुओं, अफसरों और प्रॉपर्टी डीलरों के नाम के खुलासे होंगे जो हुडा में कमीशनखोरी का कालाबाजार चला रहे थे। विकास को 5 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। विकास ही सभी अधिकारियों से मिलकर हुडा स्टेट ऑफिस से लेकर एडमिनिस्ट्रेटर, हरियाणा के कई जिलों में सेटिंग करता था। विकास के पास आई फाइलें बिना चेकिंग ही अप्रूव होती थीं। बड़ी बात यह है कि पंचकूला ही नहीं प्रदेश के किसी भी जिले की फाइल यहीं से बैठे-बैठे अप्रूव करवा दी जाती थी। इसके अलावा हुडा के प्लॉट आवंटन में भी खेल किया जाता था।

सीएम फ्लाइंग का दावा: बाबुओं से लेकर अधिकारियों तक के नाम आएंगे सामने

विकास सैनी इस सेटिंग गिरोह का मास्टरमाइंड है। उसके ही इशारे पर यहां आईटी विंग, इस्टेट ऑफिस, एडमिनिस्ट्रेटर ऑफिस से फाइलों को अप्रूव किया जाता था। विकास ही किसी भी फाइल की कीमत तय करता था। प्रॉपर्टी डीलर की अफसरों से मीटिंग भी फिक्स कराता था। विकास को रिमांड पर लेने का मकसद है, कि हुडा के बाबुओं का नाम सामने आ सके। क्यों कि सभी बाबू उसके ही थे। उसकी ही सेटिंग आईटी विंग और हरियाणा के कई इस्टेट ऑफिसों में थी। सीएम फ्लाइंग स्क्वायड टीम की ओर से ली गई मोबाइल रिकॉर्डिंग में विकास का नाम सामने आया था। जिसमें कई बाबुओं और अधिकारियों का भी जिक्र किया गया था।


पिता की मौत के बाद क्लर्क की नौकरी से दलाल बना विकास
24 नवंबर से विकास फरार चल रहा था। विकास के पिता यहां हुडा में ही एसडीओ की पोस्ट पर थे, उनकी मौत के बाद उसे क्लर्क की नौकरी मिली थी। जिसके बाद वो यहां दलाली का ही काम करता था। विकास सैनी सबसे अहम आरोपी है, वो राकेश कुमार के साथ मिलकर ही डीलिंग करता था। पंचकूला हेड ऑफिस है, लिहाजा ये लोग यहां से पूरे हरियाणा में अधिकारियों और बाबुओं से मिलकर ये खेल करते थे।

ये पहले ही पकड़े जा चुके हैं

प्रॉपर्टी डीलर राकेश कुमार ढाडा, हुडा ऑफिस अस्सिटेंट विजय सांगा, आईटी विंग के कर्मचारी हरनीत सिंह और ज्ञान डॉक्यूमेंट सेंटर के मालिक ज्ञान को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसके बाद अब विकास को गिरफ्तार किया गया है। वहीं इसके बाद हुडा के जेई, एसडीओ, अस्सिटेंट, शहर के नामी प्रॉपर्टी डीलर्स का नाम सामने आ रहा है। जिन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है।

हुडा की लॉगइन, ईमेल्स पासवर्ड भी थे दलालों के पास
इस्टेट ऑफिस के फर्स्ट फ्लोर पर बैठने वाले अस्सिटेंट और बाबुओं, क्लर्क, जेई सहित कई लोगों के पासवर्ड और ईमेल्स के पासवर्ड दलालों के पास होते थे। ये सब राकेश कुमार और विकास सैणी के पास था। इस दौरान यहां लोगों से डीलिंग होने के बाद उन्हें तुरंत डॉक्यूमेंट्स भी दिखा दिए जाते थे, जिसमें बताया जाता था, कि ऐसे काम होगा। जिसके बाद लोगों से मोटी रकम ली जाती थी। इस मामलें में सेक्टर 8 की एक डॉक्यूमेंट्स सेंटर का मालिक भी शामिल है।

होमसेक्रेट्री की परमिशन से रिकॉर्डिंग, जिसके बाद आया था रैकेट सामने
असल में सीएम फ्लाइंग स्क्वायड टीम को इस बारे में सोर्स रिपोर्ट मिली। जिसमें दो प्रॉपर्टी डीलर्स राकेश कुमार और विकास सैणी का नाम आया था। जिसके बाद सितंबर माह में दो मोबाइल नंबर (9888383520, 9872042125) को सर्विलांस पर लगाकर रिकॉर्ड किया गया। जिसमें कई ऐसे चौकाने वाले खुलासे हुए थे। इन दोनों ने हुडा के बाबुओं से लेकर कई नामी प्रॉपर्टी डीलर्स से प्रॉपर्टी की डीलिंग की थी। करोड़ों की कमाई की बात सामने आई थी। इसके बाद ही यह कार्रवाई की गई थी।