--Advertisement--

दूषित पानी पर सदन में एकजुट हुए विपक्ष और सत्ता पक्ष, कहा- दिल्ली के 37 नालों से यमुना में छोड़ा जा रहा गंदा पानी

विधानसभा के चालू सत्र में पहली बार दक्षिणी हरियाणा के चार जिलों के सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायक एकजुट हुए।

Dainik Bhaskar

Mar 15, 2018, 03:20 AM IST
opposition and ruling party mla s closely-knit in house on contaminated water

चंडीगढ़/ पानीपत. विधानसभा के चालू सत्र में पहली बार दक्षिणी हरियाणा के चार जिलों के सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायक एकजुट हुए। मामला इन जिलों में गहराते जल संकट और यमुना में दिल्ली से छोड़े जा रहे दूषित पानी का था। विधायकों ने कहा कि दूषित पानी की वजह से क्षेत्र में कैंसर समेत अनेक रोग हो रहे हैं। पीने के पानी का भी संकट बना है। खेती बर्बाद हो रही है। दिल्ली से 37 नालों के जरिए यमुना में फैक्ट्रियों और अन्य वजहों से गंदा हो रहा पानी छोड़ा जा रहा है। आगरा कैनाल में यह गंदा पानी आ रहा है। इसका समाधान जरूरी है। विधायकों की एकजुटता के आगे सरकार को इनकी बात माननी पड़ी। सीएम मनोहर लाल ने इस पूरे मसले पर कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ की अध्यक्षता में प्रभावित फरीदाबाद, गुड़गांव, पलवल और नूंह जिलों के विधायकों की कमेटी का गठन किया। यह कमेटी इस पूरे मामले पर जल्द बैठक कर अध्ययन करेगी। इसके बाद दिल्ली और केंद्र सरकार के सामने अपना पक्ष रखेगी। प्रश्नकाल के बाद विधायक टेकचंद ने शून्यकाल में यह मसला उठाया। इसके बाद भाजपा विधायक मूलचंद शर्मा, सीमा त्रिखा, इनेलो विधायक जाकिर हुसैन, कांग्रेसी विधायक कर्ण दलाल के अलावा ललित नागर और उदयभान ने एकजुटता दिखाते हुए पूरे क्षेत्र की समस्या रखी।

दिल्ली ने यमुना में अमोनिया बढ़ी तो हरियाणा को ठहराया था जिम्मेदार

इनेलो विधायक जाकिर हुसैन ने कहा कि दिल्ली में यमुना के पानी में थोड़ा अमाेनिया बढ़ गया तो इसका ठीकरा हरियाणा पर फोड़ा गया, जबकि दिल्ली ही यमुना को दूषित कर रही है। इसे हमें उठाना चाहिए। इसके अलावा 1991 के समझौते के तहत हुए बंटवारे के तहत हरियाणा के हिस्से का पानी मिलना चाहिए। एमएलए की कमेटी बनाई जाए।

पानी अहम मुद्दा, सत्र के बाद कमेटी की जल्द होगी मीटिंग : मुख्यमंत्री

सीएम मनोहर लाल ने कहा कि पानी का मुद्दा महत्वपूर्ण है। जो जिले प्रभावित हैं, उनके विधायकों की कृषि मंत्री ओपी धनखड़ की अध्यक्षता में कमेटी गठित की जाएगी। यह अंतरराज्यीय मुद्दा है। मीटिंग कर केंद्र व दिल्ली सरकार से बात करेंगे। सुझाव दिया कि यमुना के साथ नाला बनाकर यह पानी उसमें छोड़ा जा सकता है। इस पानी को साफ कर ओखला बैराज से आगरा कैनाल में भेजा जा सकता है।

X
opposition and ruling party mla s closely-knit in house on contaminated water
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..