--Advertisement--

पद्मावत विरोध: स्कूल बस पर पथराव, बच्चों को आंचल में छिपा संभालती रहीं टीचर्स

पथराव में सभी बच्चों ने बस की फर्श की ओट में अपनी जान बचाई। इस घटना में दो बच्चों को मामूली चोटें आई हैं।

Danik Bhaskar | Jan 25, 2018, 08:01 AM IST
बच्चे को आंचल में छिपाती स्कूल की टीचर। बच्चे को आंचल में छिपाती स्कूल की टीचर।

गुड़गांव. प्रदेश में फिल्म पद्मावत के विरोध में कई जगह प्रदर्शन हुआ। वहीं कई जगह इसके प्रीमियर शो चलाए गये। इसका विरोध कर रही करणी सेना ने गुड़गांव में बुधवार को उग्र प्रदर्शन किया। पुलिस ने बस जलाने व ट्रैफिक रोकने को लेकर 50 पर केस दर्ज किए जाएंगे। गुड़गांव में बुधवार को कुछ उपद्रवियों ने प्राइवेट स्कूलों की बसों को भी नहीं बख्शा। कुछ उपद्रवियों ने मारुति कुंज के नजदीक प्राइवेट स्कूल की बस पर पथराव कर दिया, जिससे स्कूल बस के शीशे टूट गए और दो बच्चों को भी मामूली चोट लग गई।

बच्चों ने फर्श की ओट में बचाई जान

जीडी गोयनका वर्ल्ड स्कूल की बस जब सड़क से गुजरी तो उस पर पत्थर फेंकने शुरू कर दिए। बस में 22 बच्चे व तीन महिला टीचर बैठी थीं। पथराव में सभी बच्चों ने बस की फर्श की ओट में अपनी जान बचाई। इस घटना में दो बच्चों को मामूली चोटें आई हैं। बताया जा रहा है कि उपद्रवियों ने पेट्रोल बम का भी इस्तेमाल किया। स्कूल बस चल रही थी और बस की खिड़कियों के शीशे चटक-चटक कर टूट रहे थे। इससे घबराकर बच्चे चीखने और रोने लगे। इतने में टीचर्स ने सभी बच्चों को बस की सीटों के नीचे छिपने को कहा। कई बच्चे एक-दूसरे से लिपटते दिखाई दिए। इतने में ड्राइवर बोला कि एक और कांच फोड़ दिया है। इस दौरान बस में सवार महिला टीचर्स ने भी बच्चों को संभाला।

हिसार-रोहतक में प्रीमियर शो हाउस फुल

हिसार में बुधवार को सनसिटी और एमजी क्लब के थियेटर पर पद्मावत मूवी का प्रीमियर चलाया गया। दोनों शो हाउस फुल रहे। शुक्रवार को इन दो थियेटरों के अलावा इलाइट सिनेमा में भी मूवी दिखाई जाएगी। सिरसा में ओएचएम सिने गार्डन के कल होने वाले 12 शो में 70 फीसदी सीटें फुल हो चुकी हैं। रोहतक में भी 4 सिनेमाघरों में प्रीमियर शो दिखाया गया। इसमें 30 फीसदी ही टिकट बुक हो पाई। हालांकि कल से सभी 6 सिनेमाघर में फिल्म चलाई जाएगी। हालांकि अभी तक 30 फीसदी टिकट ही बुक हुई है। सिनेमा हाल के मालिकों का कहना है कि राजपूत महासभा से बात हो चुकी है, आपत्तिजनक सीन हटा दिया जाएगा।

धारा-144, पुलिस पहरे में स्क्रीनिंग

राजपूत समाज समेत तमाम संगठनों के विरोध को देखते हुए प्रदेशभर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। जिला उपायुक्तों को सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के तहत प्रदर्शनकारियों पर मुकदमे दर्ज करने और सरकारी एवं प्राइवेट संपत्ति को हुए नुकसान की भरपाई के लिए उनकी संपत्तियां अटैच करने को भी कहा गया है। गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एसएस प्रसाद की अध्यक्षता में कानून-व्यवस्था की समीक्षा के लिए बुधवार को चंडीगढ़ में एक उच्च स्तरीय बैठक में यह फैसला किया गया। डीजीपी बीएस संधू ने बताया कि प्रदर्शनकारियों ने गुड़गांव में 23 लोग राउंड अप किए हैं। फरीदाबाद में अखिल भारतीय क्षत्रिय समाज के प्रदेशाध्यक्ष उमेश भाटी समेत 30 लोगों को चार घंटे तक पुलिस हिरासत में रखने के बाद शाम 5 बजे रिहा कर दिया गया।

झज्जर में फूंका भंसाली का पुतला

झज्जर के फर्स्ट चॉइस मॉल में पद्मावत तभी रिलीज होगी, जब मॉल की सुरक्षा के प्रति पुलिस आश्वस्त करेगी। इस बीच कुलाना चौक पर हिंदू सेना संगठनों ने पंचायत कर फिल्म रिलीज नहीं होने की धमकी देते हुए निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला फूंका। फरीदाबाद में फिल्म के विरोध में राजपूत समाज सड़कों पर उतर आया। अखिल भारतीय क्षत्रिय समाज के प्रदेशाध्यक्ष उमेश भाटी सहित 30 लोगों को चार घंटे तक पुलिस हिरासत में रखने के बाद शाम 5 बजे रिहा कर दिया गया।

पानीपत, कैथल, रेवाड़ी, कुरुक्षेत्र यमुनानगर में नहीं होगी स्क्रीनिंग

कैथल-कुरुक्षेत्र में फिल्म नहीं चलेगी। यमुनानगर में 150 टिकट एडवांस में बुक हो चुके थे, इनके पैसे भी लौटा दिए गये। पानीपत में यह फिल्म नहीं दिखाई जाएगी। एक दो सिनेमा हाल में ऑनलाइन बुकिंग हुई थी, उनके पैसे रिफंड हो रहे हैं। फिल्म करनाल में नहीं दिखाई जाएगी। राजपूत सभा के पदाधिकारियों ने एलान किया कि गुरुवार सुबह 10 बजे शांतिपूर्वक प्रदर्शन करते हुए लघु सचिवालय में प्रशासन को ज्ञापन सौंपेंगे। फतेहाबाद के टोहाना में एकमात्र मिनी प्लेक्स संचालक फिल्म पद्मावत को लेकर पसोपेश में हैं। सिरसा में बुधवार को सोशल मीडिया पर पहली बार एक छात्र संगठन ने फिल्म 'पद्मावत' को सिनेमा घर में दिखाने के विरोध में चेतावनी भरा संदेश डाला गया। भिवानी में पद्मावत का एक भी शो नहीं चलेगा।

टोहाना जिले के इकलौते मिनी प्लेक्स के संचालक फिल्म की स्क्रीनिंग पर अभी फैसला नहीं कर सके हैं। नारनौल, महेंद्रगढ़ और रेवाड़ी में फिल्म पद्मावत के प्रदर्शन का भारी विरोध देखा गया। नारनौल के मंडी अटेली क्षेत्र में राजपूत सभा के युवाओं ने रोड जाम कर दिया। नारनौल में सड़कों पर बाइक जुलूस निकाला गया। महेंद्रगढ़ में भी करणी सेना के सदस्यों ने स्टेट हाईवे पर जाम लगाया। नारनौल और रेवाड़ी के थियेटरों में यह फिल्म नहीं दिखाई जाएगी। बहादुरगढ़ में करोना सिनेमा में पहले दिन के लिए 3 शो में 483 टिकटों में से 20 फीसदी की बुकिंग हो चुकी है। पहले दिन 15 शो चलेंगे। राजपूतों ने रोहतक में शाम को प्रदर्शन कर फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला जलाया और नारेबाजी की।


सीएम निवास पर देखी पदमावत
इससे पहले छविगृह संचालकों के अनुरोध पर बुधवार को फिल्म पदमावत देखी गई। फिल्म के सहायक निर्देशक की मौजूदगी में हुए विशेष शो के दौरान गृह विभाग, पुलिस, सीआईडी और मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारी मौजूद रहे। जबकि सीएम मनोहर लाल अस्वस्थ होने के कारण यह फिल्म नहीं देख पाए। फिल्म देखने के बाद अधिकारियों की यही राय थी कि इस फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है जिसका विरोध किया जा रहा है।

टीचर डरे- सहमे बच्चों से कहती रहीं कि बेटा बैठे रहो। टीचर डरे- सहमे बच्चों से कहती रहीं कि बेटा बैठे रहो।
एक टीचर ड्राइवर से बोली -भैया बस चलाते रहो। एक बच्ची फफक-फफक कर रो रही थी। एक टीचर ड्राइवर से बोली -भैया बस चलाते रहो। एक बच्ची फफक-फफक कर रो रही थी।
स्कूल बस में डर सहमे बच्चे और टीचर्स। स्कूल बस में डर सहमे बच्चे और टीचर्स।