--Advertisement--

प्रिंसिपल का किया था मर्डर, जेल में पिता से पूछा- पापा यहां से मैं कब बाहर जाऊंगा

रिमांड पूरा होने के बाद मंगवार को कोर्ट के आदेश पर जब शिवांस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया।

Dainik Bhaskar

Jan 25, 2018, 08:22 AM IST
मंगवार को कोर्ट के आदेश पर जब शिवांस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया। मंगवार को कोर्ट के आदेश पर जब शिवांस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया।

यमुनानगर. विवेकानंद स्कूल की प्रिंसिपल रितू छाबड़ा की चार गोलियां मारकर हत्या करने के आरोपी 12वीं के छात्र शिवांश व उसके पिता रणजीत गुंबर को जेल की एक ही बैरक में रखा गया है। रिमांड पूरा होने के बाद मंगवार को कोर्ट के आदेश पर जब शिवांस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया तो जेल की बैरक में अपने पिता को देखकर वह फूट-फूटकर रोने लगा। पिता भी उससे लिपटकर खूब रोया। जेल अधिकारियों के अनुसार दोनों रात तक आपस में बातचीत करते रहे। इस दौरान उन्होंने दूसरे बंदियों से दूरी बनाकर रखी। दूसरों से ज्यादा बात नहीं की।

रोते हुए शिवांश ने अपने पिता से पूछा कि वह जेल से बाहर कितने दिनों में जाएगा। पिता रणजीत ने उसे धैर्य बंधाते हुए कहा कि जमानत मिलने के बाद वह उसे जल्दी जमानत मिल सके इसके लिए कोशिश करेंगे। इसके बाद दोनों पिता पुत्र देर तक बातचीत करते रहे और पास में ही लेटे। उन्हें जेल के मैनुअल के हिसाब से ही बिस्तर दिए गए हैं। इन पर शिवांश को दिक्कत हो रही थी। वह रातभर करवटें बदलता रहा।
आर्म्स एक्ट में पकड़े गए फाइनेंसर गुंबर की जमानत पर आज सुनवाई
जेल अधिकारियों ने कहा नार्मल है व्यवहार
शिवांश का जेल में पहली रात व्यवहार पूरी तरह से नार्मल रहा। जेल अधिकारियों ने बताया कि दोनों पिता पुत्र को वही खाना दिया गया जो दूसरे बंदियों को दिया गया। शिवांश को यह खाना कम ही अच्छा लगा। उसने दो चपातियां ही खाईं। वहीं रणजीत ज्यादा नार्मल दिखा।
शिवांश व उसके पिता रणजीत गुंबर को एक ही बैरक में रखा गया है। दोनों पिता-पुत्र पहले एक दूसरे से लिपटकर रोए। बेटा ने पूछा कि वह बाहर कब तक जाएगा। इसके बाद जेल के हिसाब से उन्हें खाना दिया गया जो उन्होंने नार्मल तरीके से खाया। जेल में किसी के साथ भेदभाव नहीं किया जाता सभी समान हैं। रतन सिंह, जेल अधीक्षक
पुलिस ने दी चाबियां, 27 को खुलेगा स्कूल
प्रिंसिपल की हत्या के बाद से बंद चल रहा विवेकानंद स्कूल को पुलिस ने अपनी निगरानी ले रखा था। स्कूल से कोई साक्ष्य नष्ट न हो जाए इसके लिए प्रिंसिपल के कमरे समेत पूरे कैंपस की चाबियां पुलिस के पास ही थीं। अब जांच पूरी होने के बाद पुलिस ने चाबियां स्कूल प्रबंधन को सौंप दी। स्कूल चेयरमैन विमल कंबोज ने बताया कि बच्चों की पढ़ाई का नुकसान न हो इसके लिए 27 जनवरी से स्कूल खोला जाएगा। कक्षाएं पहले की तरह ही लगेंगी। इस बारे में पेरेंट्स को मैसेज किया जा रहा है।
गोली लगने के बाद कमरे से बाहर आई प्रिंसिपल ने कर्मचारी से कुछ कहा था
शहर की थापर काॅलोनी के स्वामी विवेकानंद स्कूल में हुई घटना की सीसीटीवी फुटेज पुलिस भले ही अभी सार्वजनिक नहीं कर रही है पर इस फुटेज के बारे में कुछ-कुछ जानकारी अब बाहर आने लगी है। मामले की जांच से जुड़े एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कमरे के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में दिख रहा है कि छात्र द्वारा गोली मारने के बाद घायल अवस्था में प्रिंसीपल अपने कमरे से बाहर निकली। उसने कर्मचारी से कुछ कहा और जमीन पर गिर गई। फिर नहीं उठ सकी। इसके बाद स्कूल में भगदड़ मच गई और प्रिंसिपल को अस्पताल ले जाया गया। वहीं प्रिंसिपल के परिजन बुधवार को स्कूल प्रबंधन से मिले। स्कूल प्रबंधन ने उन्हें घटना के बाद कमरे में रह गया प्रिंसिपल का पर्स व अन्य सामान सौंपा।

शिवांश की मां। शिवांश की मां।
शिवांश की फाइल फोटो। शिवांश की फाइल फोटो।
शिवांश की फाइल फोटो। शिवांश की फाइल फोटो।
शिवांश के पापा और मम्मी। शिवांश के पापा और मम्मी।
X
मंगवार को कोर्ट के आदेश पर जब शिवांस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया।मंगवार को कोर्ट के आदेश पर जब शिवांस को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया।
शिवांश की मां।शिवांश की मां।
शिवांश की फाइल फोटो।शिवांश की फाइल फोटो।
शिवांश की फाइल फोटो।शिवांश की फाइल फोटो।
शिवांश के पापा और मम्मी।शिवांश के पापा और मम्मी।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..