Hindi News »Haryana »Panipat» School Children Create Fake ID

फ्रैंडशिप से लेकर रिश्ते तुड़वाने के लिए स्कूली बच्चे कर रहे पर्सनल फुटेज शेयर क्रिमिनल प्रोग्रामर साधारण पासवर्ड हैक कर बैंक ट्रांजेक्शन तक कर रहे

फ्रैंडशिप से लेकर रिश्ते तुड़वाने के लिए बच्चे शरारत करने लगे हैं। फर्जी आईडी बनाकर लोगों की पर्सनल फुटेज शेयर कर रहे हैं

अनिल भारद्वाज | Last Modified - Dec 14, 2017, 07:23 AM IST

फ्रैंडशिप से लेकर रिश्ते तुड़वाने के लिए स्कूली बच्चे कर रहे पर्सनल फुटेज शेयर क्रिमिनल प्रोग्रामर साधारण पासवर्ड हैक कर बैंक ट्रांजेक्शन तक कर रहे

करनाल.फ्रैंडशिप से लेकर रिश्ते तुड़वाने के लिए बच्चे शरारत करने लगे हैं। फर्जी आईडी बनाकर लोगों की पर्सनल फुटेज शेयर कर रहे हैं। इनमें किसी और की नहीं बल्कि पड़ोसी, रिश्तेदारों की अहम भूमिका पाई जा रही है। यह स्थिति पुलिस के साइबर सेल की जांच में सामने आई है। तीन माह में साइबर सेल टीम ने एेसे 90 केसों की जांच की है। तकनीकी पहलुओंं पर आरोपियों तक पहुंचे पर उनके कारण ज्यादा खास नहीं मिले। जिसमें फ्रेंडशिप न करने, किसी बात की रंजिश एक दूसरे को बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा ले रहे हैं,
लेकिन साइबर सेल की एक्सपर्ट टीम तकनीकी पहलुओं पर केस का हल कर रही है। साइबर एक्सपर्ट बताते हैं कि बैंकिंग संबंधित फ्रॉड में भी बैंक की तरफ से किसी प्रकार की कॉल नहीं आती। पढ़े-लिखे लोग भी लालच में आकर अपने पर्सनल ओटीपी नंबर तक सार्वजनिक कर देते हैं। साइबर क्राइम को कंप्यूटर क्राइम या इंटरनेट क्राइम के नाम से भी जाना जाता है। कंप्यूटर्स और इंटरनेट द्वारा की गई किसी भी तरह की आपराधिक गतिविधियां साइबर क्राइम की श्रेणी में आती हैं।

स्पेशलिस्ट की सलाह- आठ कैरेक्टर से कम न हो पासवर्ड, कठिन शब्द चुनें

क्राइम सेल इंचार्ज कर्मबीर सिंह बताते हैं कि हमेशा बहुत स्ट्रांग पासवर्ड का प्रयोग करें। इससे आसनी से किसी को पता न चले, क्योंकि साइबर क्रिमिनल प्रोग्रामर ऐसे सॉफ्टवेयर प्रोग्राम का निर्माण करते हैं जो कि आपके साधारण से पासवर्ड को आसानी से कैच कर सकते हैं। ऐसे में अपने आपको बचाने के लिए आप ऐसा पासवर्ड सेट करें, जिसका कोई दूसरा अनुमान न लगा सके। पासवर्ड कम से कम आठ केरेक्टर का हो।

पर्सनल फुटेज कर दी सोशल मीडिया पर शेयर
11वीं कक्षा के एक बच्चे ने उसी कक्षा की लड़की को सबक सिखाने के लिए एक फर्जी आईडी बनाई। उसके पर्सनल फुटेज सोशल मीडिया पर शेयर कर दिए। इससे लड़की मानसिक रूप से परेशान रहने लगी तो उसके परिवार के लोगों ने पूछताछ की। इस दौरान लड़की को उसके सहपाठी पर भी शक नहीं था। पुलिस की साइबर सेल में जांच की गई तो छात्र को पकड़ लिया गया। उसने बताया कि फ्रेंडशिप नहीं करने के कारण उसने उसको बदनाम करने की नियत से ऐसा किया था।

रिश्ते को तुड़वाने को पड़ोसी युवक ने किया रफ लैंग्वेज
एक लड़की का रिश्ता तुड़वाने की नियत से पड़ोस के युवक ने उसके रिश्तेदार और ससुराल के लोगों की आईडी पर रफ लैंग्वेज यूज कर दी। उसकी शादी की फोटो भी शेयर कर दी गई। लड़की से पूछताछ की गई तो उसने इस आईडी से मना कर दिया। तकनीकी पहलुओं पर की गई जांच में आरोपी तक पहुंच गए, क्योंकि पड़ोसी ही उनके रिश्तेदारों सहित उनकी पर्सनल फुटेज से कहीं न कहीं अटैच मिल जाते हैं। यह केस रंजिशन किया गया।

एटीएम बदलकर किया फ्रॉड, नंबर भी पूछते हैं
बुजुर्ग ने एक अनजान युवक को एटीएम कार्ड यह कहकर दे दिया कि उसके दो हजार रुपए निकाल दें। उसने दो हजार रुपए निकालकर हूबहू दूसरा एटीएम पकड़ा लिया। युवक ने तुरंत एटीएम कार्ड का यूज करते हुए 10 हजार रुपए निकाल लिए। एक दूसरे मामले में झारखंड का गिरोह बैंक की हूबहू आईडी बनाकर बैंक कर्मी बनकर उनके एटीएम नंबर पूछते हुए फ्रॉड करता रहा। इसमें बैंक की तरफ क्लियर किया कि बैंक की तरफ से किसी प्रकार की अकाउंट्स संबंधित पूछताछ नहीं की जाती।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×