• Hindi News
  • Haryana
  • Panipat
  • मैं खुश नसीब हूं मुझसे मिल लोग खुश हो जाते हैं, दौलत प्यार की मुझे मुफ्त में दे जाते हैं...
--Advertisement--

मैं खुश नसीब हूं मुझसे मिल लोग खुश हो जाते हैं, दौलत प्यार की मुझे मुफ्त में दे जाते हैं...

गंगा पुरी रोड स्थित हाली किताब घर में महक साहित्यिक सभा की की ओर से मासिक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी की...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 03:40 AM IST
गंगा पुरी रोड स्थित हाली किताब घर में महक साहित्यिक सभा की की ओर से मासिक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। गोष्ठी की अध्यक्षता सुभाष भाटिया ने की। जबकि, कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में देवेंद्र शर्मा तूफान मौजूद रहे।

कार्यक्रम में सुभाष भाटिया ने मैं खुश नसीब हूं मुझसे मिल लोग खुश हो जाते हैं, बेहिसाब दौलत प्यार की मुझे मुफ्त में दे जाते हैं... पढ़ा। वहीं देवेन्द्र दत्त तूफान ने अपनी कविता दोस्तों बेहाल होती जा रही है जिंदगी, अब मगर कंगाल होती जा रही है जिंदगी, गोटियां शतरंज की है हो गया हर आदमी, एक टेढ़ी चाल होती जा रही है जिंदगी पढ़कर खूब ताली बटोरी। कार्यक्रम में धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफिर, चंद्रशेखर आजाद और सुनील कुमार वत्स ने भी अपनी कविताएं पेश की।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..