--Advertisement--

डेरा चेयरपर्सन विपसना अरेस्ट होगी, राम रहीम की मां नसीब कौर से करेंगे पूछताछ

20 साल की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा चीफ गुरमीत राम रहीम की मां नसीब से पुलिस पूछताछ की तैयारी में है।

Dainik Bhaskar

Nov 30, 2017, 05:01 AM IST
डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपसना इंसां की इस पूरे केस में रोल है। फाइल फोटो डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपसना इंसां की इस पूरे केस में रोल है। फाइल फोटो

पंचकूला | साध्वी रेप केस में 20 साल की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा चीफ गुरमीत राम रहीम की मां नसीब से पुलिस पूछताछ की तैयारी में है। साथ ही डेरे की चेयरपर्सन विपसना को अरेस्ट किया जाएगा। पुलिस का दावा है कि वह पंचकूला में हुई हिंसा की साजिश में शामिल थी, जबकि नसीब कौर को इस बारे में पता था। इसलिए उनसे फिलहाल पूछताछ होगी। पुलिस ने कोर्ट को बताया है कि डेरे में 17 अगस्त को मीटिंग कर पंचकूला हिंसा की साजिश रची गई। यह सारी बातें हनीप्रीत के कबूलनामे में सामने आई हैं। पुलिस ने चालान में किया यह दावा

- पुलिस ने अपने चालान में बताया है कि डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपसना इंसां की इस पूरे मामलें में भूमिका पाई गई है। वहीं कहा गया है कि गुरमीत की मां नसीब कौर, जो महिला आश्रम सिरसा में रहती हैं, को भी इस पूरे मामले की जानकारी थी।
- सारी प्लानिंग डेरे से ही 17 अगस्त को चली है। लिहाजा इन लोगों को भी आरोपी बनाया गया है, पुलिस इनसे पूछताछ कर सकती है।
- इसके अलावा पानीपत से रणबीर सिंह, कैथल के रहने वाले हरीकेश, सिरसा से हरदम सिंह और अमरीक सिंह , उमेद इंसां, पूर्ण सिंह,फूल कुमार, मोहिंदर इंसा, को गिरफ्तार किया जाना बाकी है।

गुरमीत का पीए राकेश भी बन गया था नपुंसक ...

बेमेंट में भी रखे थे 25 लाख
- पुलिस का दावा है कि हिंसा के लिए आदित्य इंसां, पवन इंसां और गोबी राम को 25-25 लाख रु. मिले थे। 18 लाख रु. राम सिंह नाम के एक शख्स को दिए गए। 7 लाख रु. डेरे के मेन पदाधिकारियों को दिए गए। 25 लाख पंचकूला की एक बिल्डिंग की बेसमेंट में रखे गए थे।

पढ़िए…हनीप्रीत का वह कबूलनामा, जो एसआईटी ने कोर्ट में पेश किया
मेरे पापा जी ने डेरा से नाम दान ले रखा था। माता जी कमर दर्द से परेशान रहती थीं। डेरे में आने के बाद वह बिना ऑपरेशन ठीक हो गईं। इसके बाद मैंने भी 1995 में संत गुरमीत राम रहीम से नाम दान ले लिया। उन्होंने मुझे बेटी बना लिया। डेरे में रहने के कारण मेरी पिताजी और उनके परिवार के साथ नजदीकियां बढ़ गई थीं। मैंने पिताजी के साथ मिलकर कई फिल्में बनवाईं।

- डेरे से जुड़े सभी कामों में पिता जी के बाद मेरे द्वारा तैयार की गई योजना चलने लगी। डेरा सच्चा के लिए अच्छा काम काम करने वाले को हम राज्य अनुसार 45 सदस्य कमेटी या डिस्ट्रिक्ट अनुसार 25 सदस्य कमेटी में शामिल कर देते थे। जिससे डेरा सच्चा सौदा द्वारा राज्यों में जुड़ी नाम चर्चा घरों से भी डेरा को अच्छी इनकम हो जाती थी।"

- पिताजी के खिलाफ रेप केस का मामला पंचकूला सीबीआई में चल रहा था, जिसका दिनांक 25-8-2017 को सीबीआई कोर्ट, पंचकूला से फैसला आना था। पिताजी के विरुद्ध आने वाले फैसले के संबंध में 17-8-2017 को मैंने व आदित्य इंसा ने डेरा की तरफ से बनाई गई पदाधिकारियों/जिम्मेवारों के साथ डेरा में एक मीटिंग की थी।
- इस मीटिंग में डेरा के प्रवक्ता दिलावर सिंह, पंवन इंसा, महिंद्र सिंह व गोबिन जसबीर सिबीर सिंह, गोपाल, सुरेंद्र धीमान, गोबीराम, राकेश इंसां, रामसिंह चेयरमैन और अर्श अरोड़ा आईटी विंग, बलराज सिंह तथा दान सिंह जोकि पिताजी के डेरा के सभी केसों की पैरवी करता है और डेरा के अन्य काफी पदाधिकारी शामिल हुए थे।
- उस मीटिंग में यह योजना बनाई थी कि फैसला बाबा जी के हक में करवाने की नीयत से सरकार पर दबाव बनाया जाएगा। इसके लिए लिए डेरा से बनाए गए जिम्मेदार व्यक्तियों के माध्यम से हरियाणा, राजस्थान, उत्तरप्रदेश, पंजाब से संगत डेरा प्रेमियों को इकट्‌ठा करके पंचकूला लाया जाएगा। अगर फिर भी फैसला पिताजी के विरूद्ध आता है तो पंचकूला और अन्य जगह पर इकट्‌ठा लोगों को उत्साहित करके/तोड़ फोड़ करवाई जाएगी और पिता जी को कोर्ट कांम्प्लैक्स से ही फरार करवा लिया जाएगा। चमकौर सिंह की ड्यूटी संगत इकट्‌ठा करवाने तथा आगजनी, तोड़फोड़ करवाने के लिए लगाई थी।

- पिताजी को भगाने की जिम्मेवारी राकेश पीए, ड्राइवर फूल सिंह, प्राइवेट पीएसओ प्रीत सिंह और पंजाब पुलिस के पीएसओ कर्मजीत की लगाई गई थी। पंचकूला के इंतजाम के लिए डेरा की तरफ से सवा करोड़ रुपए मैंने बेअंत कौर कैशियर से राकेश पीए के माध्यम से चमकौर को भी दिलवाए थे। तय योजना के अनुसार सभी सदस्यों ने सक्रिय होकर अपना-अपना कार्य करना शुरू कर दिया था। इसी बीच पंचकूला में बढ़ती भीड़ को देखकर किसी व्यक्ति ने हाईकोर्ट में पीआईएल डाल दी थी।

- हाईकोर्ट ने मामले पर सुनवाई शुरू करने के कारण हमारे ऊपर दबाव बनने लगा था। जिसके चलते हमने पिताजी से संगत को वापस जाने के लिए एक अपील वॉट्सऐप पर डलवाकर वायरल करवा दिया था। लेकिन डेरा के जिम्मेदार व्यक्तियों के माध्यम से उन्हें मौखिक संदेश दिलवा दिया था कि आप डटे रहो आपने कहीं नहीं जाना। पिताजी को सजा होने के बाद मेरे खिलाफ भी केस होने के कारण पुलिस मुझे तलाश करने लग गई थी। जिस कारण मैं अपनी डेरा सेवादार सुखदीप कौर उफ्र जींदु पत्नी बगड़ सिंह के घर बठिंडा, में रही थी।

- इसी दौरान मैंने वकील के कहने पर संगत को दोबारा अपने साथ जोड़ने की नीयत से भावुक होकर एक्टिंग करते हुए एक वीडियो वायरल किया था। वो वीडियो बठिंडा में सुखदीप के घर पर बनाई थी। जिस मोबाइल से वह वीडियो बनाई थी, वह मैने सुखदीप को दिया था। 25-8-2017 के बाद मैं अपनी साथियों आदित्य इंसां, पवन इंसां, नवीन नागपाल उर्फ गोबीराम के साथ यूपी चचीया नगरी, चंबा हिमाचल प्रदेश, कोटा राजस्थान, श्री मुक्तसर साहिब पंजाब में अलग-अलग ठिकानों पर छिप कर रही हूं।

हनीप्रीत ने अपने कबूलनामे में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। - फाइल फोटो। हनीप्रीत ने अपने कबूलनामे में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। - फाइल फोटो।
राम रहीम की मां नसीब कौर से पुलिस कभी भी पूछताछ कर सकती है। राम रहीम की मां नसीब कौर से पुलिस कभी भी पूछताछ कर सकती है।
X
डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपसना इंसां की इस पूरे केस में रोल है। फाइल फोटोडेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपसना इंसां की इस पूरे केस में रोल है। फाइल फोटो
हनीप्रीत ने अपने कबूलनामे में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। - फाइल फोटो।हनीप्रीत ने अपने कबूलनामे में कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। - फाइल फोटो।
राम रहीम की मां नसीब कौर से पुलिस कभी भी पूछताछ कर सकती है।राम रहीम की मां नसीब कौर से पुलिस कभी भी पूछताछ कर सकती है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..