Hindi News »Haryana »Panipat» Surendra Rewari Arrives At SP S House To Withdraw Compliance

कंप्लेन वापस लेने को एसपी के घर पहुंचे सुरेंद्र रेवड़ी, दबाव में SP ने SHO को जांच से हटाया

पिस्तौल छीनने के प्रयास के मामले की जांच से चांदनी बाग थाना एसएचओ संदीप सिंह को हटा दिया गया।

Bhaskar news | Last Modified - Nov 07, 2017, 05:54 AM IST

  • कंप्लेन वापस लेने को एसपी के घर पहुंचे सुरेंद्र रेवड़ी, दबाव में SP ने SHO को जांच से हटाया
    +1और स्लाइड देखें
    पानीपत। शहरी विधायक रोहिता रेवड़ी की गाड़ी रोककर पीए से चेन लूटने और गनमैन से पिस्तौल छीनने के प्रयास के मामले की जांच से चांदनी बाग थाना एसएचओ संदीप सिंह को हटा दिया गया। एसएचओ ने लूट को झूठा बताया। इस पर विधायक का गनमैन लौटाने और शिकायत वापस लेने सुरेंद्र रेवड़ी रविवार रात 12 बजे एसपी के घर पहुंच गए। रेवड़ी ने एसएचओ पर जांच में गड़बड़ी करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि अगर पुलिस का रवैया ऐसा है कि बिना जांच के ही आरोपी को क्लीनचिट दे देती है तो ऐसे में शिकायत और गनमैन की क्या जरूरत है। इस पर एसपी राहुल शर्मा ने जांच का भरोसा दिया और डीएसपी मुख्यालय जगदीप दूहन के नेतृत्व में एसआईटी बना दी।
    सोमवार शाम एसआईटी ने विधायक के पीए सर्वजीत सिंह और गनमैन प्रवीण कुमार के साथ मौका मुआयना किया। इससे पहले एसआईटी, विधायक के सेक्टर-12 स्थित घर पहुंची। लुधियाना में रहने वाले जीजा डेंगू पीड़ित हैं, इसलिए विधायक रोहिता रेवड़ी लुधियाना में हैं। पीए और गनमैन के साथ एसआईटी वारदात स्थल पर गई। पीए सर्वजीत ने बताया कि रात में किस तरह से पहले बाबा बंदा बहादुर गुरुद्वारा के पास एक बाइक विधायक की इनोवा के आगे रुकी। गनमैन के उतरते ही बाइक आगे बढ़ी और 30 कदम बाद ही भीमगौड़ा चौक पर फिर रुक गई। इसके बाद विवाद हुआ।
    इस तरह जांच करेगी एसआईटी
    एसपी राहुल शर्मा ने कहा कि कंट्रोल रूम ने फोन नहीं उठाया, इसकी जांच होनी है। इसके बाद मौके पर किस नेता के नारे लगे या नहीं लगे उसकी जांच होगी। लूट की सूचना सच है या नहीं ये पता किया जाएगा। एसपी ने कहा कि आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद ली जाएगी। फिलहाल, पांच आरोपी रिमांड पर हैं। छठे को भी जल्द ही पकड़ लिया जाएगा। जल्दी ही लोगों के सामने सच उजागर होगा।
    एसआईटी में कौन- कौन शामिल
    डीएसपी मुख्यालय जगदीप दूहन, दो इंस्पेक्टरों में (डिस्ट्रिक्ट इंस्पेक्टर) डीआई सुल्तान सिंह सीआईए-2 के प्रभारी विकास कुमार, महिला सेल इंचार्ज रेखा और साइबर सेल से होशियार सिंह। दूहन टीम का नेतृत्व करेंगे। सोमवार की जांच में सीआईए-2 प्रभारी नहीं थे।
    सीधी बात, एसपी राहुल शर्मा
    -जब विधायकखुद ही कह रही हैं कि मारपीट में पीए की चेन गुम हुई, तो लूट की एफआईआर क्यों लगा दी?
    एसपी: लूट है या नहीं, यह कहने की स्थिति में अभी नहीं हूं।
    -एसएचओ नेभी कहा है और विधायक भी मान रही हैं कि चेन लूटी नहीं गई।
    एसपी: इसी की जांच के लिए तो एसआईटी बनाई है। ताकि सच सामने आए।
    - क्याराजनीतिक दबाव में एसएचओ को हटाकर एसआईटी बना दी?
    एसपी: दबाव की बात नहीं है। एसएचओ पर आरोप लगे इसलिए जांच ले ली। जिस पर आरोप हो उससे जांच नहीं करा सकते। अब एसआईटी जांच कर सच बताएगी।
    इस केस को लेकर शहर वासियों के मन में सवाल उठ रहे हैं। लोग जानना चाह रहे हैं कि विधायक रेवड़ी को शिकायत देने की क्या जरूरत थी, जब वह इनोवा से उतरीं ही नहीं। मारपीट या लूटपाट की घटना तो गनमैन पीए से हुई। फिर, पीए सर्वजीत सिंह से भी शिकायत दिलाई जा सकती थी।आइए जानते हैं, इस केस को लेकर किसने क्या कहा-
    केस का वजन बढ़ाने के लिए विधायक रोहिता रेवड़ी ने शिकायत दी, क्योंकि हमें सिस्टम ठीक कराना है। चूंकि पुलिस ठीक से कार्रवाई नहीं कर रही है। आरोपी को पकड़कर दिया, उसे भी छोड़ दिया और अब बिना जांच के ही केस को झूठा बता रहे हैं। विधायक के शिकायत देने कोई गलत नहीं है। क्योंकि, उनकी ही गाड़ी रोकी गई।’ -सुरेंद्ररेवड़ी, विधायक के पति।

    मैं तो पहले ही कह चुका हूं कि ये ऐसे लोग हैं, जिनके बारे में बात करना भी ठीक नहीं समझता। जिसे पद की गरिमा का पता नहीं, उसके बारे में क्या बात करें। विधायक ने एफआईआर दर्ज कराई है, बयान देने कोर्ट भी जाना पड़ता है ये भी नहीं पता इन लोगों को। इनके बारे में बोलने का मतलब है, अपने आप का वैल्यू कम करना।’ -बुल्लेशाह, कांग्रेस नेता।
    अगर वजन बढ़ाने के लिए विधायक ने खुद शिकायत दी है तो फिर इससे वजन बढ़ता नहीं, घटता है। असल में लोगों में भय है और ही राजकाज ठीक से चल रहा। जिसका ये परिणाम है। अगर भय हो तो वारदात नहीं होगी और राज ठीक हो तो झूठी शिकायत नहीं होगी, क्योंकि सच सामने आएंगे। सच समाने आना चाहिए कि आखिर हुआ क्या।’-सतबीर कादियान,पूर्व स्पीकर, हरियाणा विधानसभा।
    25 साल विधायक रहा, कभी इस तरह तो नहीं हुआ। वैसे भी विधायक को इस तरह की कंट्रोवर्सी में पड़ने की जरूरत नहीं है। ये समाज के लिए और विधायक की सेहत दोनों के लिए भी ठीक नहीं है। हम भी पांच बार विधायक रहे, कभी ऐसी परिस्थितियों का सामना नहीं करना पड़ा। कुछ कुछ तो है। जो भी सच है, सबके सामने आए तो बेहतर होगा।’ -बलबीरपाल शाह, पूर्व विधायक।
  • कंप्लेन वापस लेने को एसपी के घर पहुंचे सुरेंद्र रेवड़ी, दबाव में SP ने SHO को जांच से हटाया
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×