--Advertisement--

स्नक्च पर शादीशुदा से दोस्ती, अवैध संबंध नहीं बनाए तो कर दिया था मर्डर

स्नक्च पर शादीशुदा से दोस्ती, अवैध संबंध नहीं बनाए तो कर दिया था मर्डर

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 05:34 PM IST
मृतका निशा (बायें)। दोषी मुकेश मृतका निशा (बायें)। दोषी मुकेश

पानीपत। फेसबुक पर शादीशुदा से दोस्ती के बाद अवैध संबंध नहीं बनाने पर महिला की हत्या करने के दोषी 21 वर्षीय मुकेश को कोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। दोषी पर 34 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया है। इसमें से 30 हजार रुपए मृतका के दो बच्चों को दिए जाएंगे। जुर्माना नहीं देने पर आरोपी को एक साल की जेल अतिरिक्त काटनी होगी। यह महत्वपूर्ण फैसला अतिरिक्त जिला एवं सेशन न्यायाधीश शशिबाला चौहान ने सुनाया है। पढ़िए पूरा मामला...

- मूलतः: बिहार के बेगूसराय जिले के बरोनी गांव निवासी मुकेश पुत्र सुरेश दास यहां पर राजीव कॉलोनी शिव मंदिर वाली गली में किराए पर रहता था। वह अमर भवन चौक के पास एक फैक्ट्री में काम सीख रहा था।
- वर्ष 2015 में फेसबुक के जरिए उसकी कुटानी रोड पर चावला कॉलोनी निवासी 30 वर्षीय निशा से दोस्ती हो गई। दोनों की फोन पर बातचीत होने लगी।
- आरोपी मुकेश विवाहिता के साथ शारीरिक संबंध बनाना चाहता था, लेकिन वो तैयार नहीं थी। एक बार विवाहिता ने उसकी बेइज्जती कर दी थी। इसको लेकर वह रंजिश रखने लगा।
- 3 फरवरी 2016 की दोपहर को आरोपी विवाहिता के घर पर चाकू लेकर पहुंचा। निशा उसके साथ जाने को तैयार नहीं हुई तो मुकेश ने घर के अंदर चाकू से गला काटकर निशा की हत्या कर दी थी।

एकतरफा प्रेम करता था मुकेश
- 7 दिसंबर 2015 को निशा घर से लापता हो गई थी। फरीदाबाद में मुकेश उससे मिला और महिला को एक कमरे में बंद कर दिया। निशा ने घर पर फोन किया। चार दिन बाद निशा के पति और कॉलोनी के लोग उसे फरीदाबाद से छुड़ाकर लाए।
- बाद में पंचायती तौर पर युवक को समझा दिया गया। लेकिन उसका एक तरफा प्रेम बढ़ता चला गया। आरोपी ने एक बार निशा के मोबाइल पर मैसेज किया कि वह 24 दिसंबर को निशा के जन्मदिन पर उससे मिलने आएगा।
- निशा ने परिजनों को इस बारे में बता दिया। इस पर परिजनों ने उसको मायके दिल्ली भेज दिया था। आरोपी दिल्ली भी उससे मिलने के लिए पहुंच गया, लेकिन संपर्क नहीं हुआ।
- हत्या से तीन दिन पहले ही निशा ससुराल चावला कॉलोनी में आई थी। घटना के समय निशा के दो बेटे 9 वर्षीय आदित्य और 6 वर्षीय वंश स्कूल गए थे।