--Advertisement--

हरियाणा पहुंचे अन्ना, मोदी किसानों का भला चाहते हैं तो दिलाएं मासिक पैंशन

हरियाणा पहुंचे अन्ना, मोदी किसानों का भला चाहते हैं तो दिलाएं मासिक पैंशन

Danik Bhaskar | Feb 13, 2018, 06:05 PM IST
कार्यक्रम में अन्ना हजारे को प कार्यक्रम में अन्ना हजारे को प

बहादुरगढ़। बहादुरगढ़ में मंगलवार को अन्ना हजारे एक जनसभा में पहुंचे। यहां मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने पीएम मोदी से किसानों के लिए 5 हजार रुपए मासिक पैंशन की मांग की। समाजसेवी वीरेंद्र पहलवान ने अन्ना का सत्याग्रह नाम से जनसभा का आयोजन किया था। अन्ना ने कहा कि देश और प्रदेश में किसानों का शोषण हो रहा है। 23 मार्च से दिल्ली के रामलीला मैदान में किसानों के हक के लिए सत्याग्रह करेंगे। उन्होंने इसके लिए किसानों को न्योता दिया है।

- उन्होंने कहा कि किसानों के लिए ही वो 23 मार्च से रामलीला मैदान में बैठने वाले हैं। किसान पेंशन बिल भी संसद में पेंडिंग पड़ा है। किसान उम्रभर खेत और खेती से जुड़ा रहता है और एक वक्त ऐसा आता है कि किसान के पास कुछ नहीं बचता है, इसलिए जरूरी है कि किसान को पेंशन मिलनी ही चाहिए।
- सरकारों की किसान हितैषी सोच नहीं थी और उसका खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ा। हजारे ने कहा कि बेशक आज केन्द्र सरकार नए बजट में किसानों के हित में कदम उठाए जाने की बात कह रही हो लेकिन यह भी सच्चाई है कि यह केवल मात्र ढकोसला है।
- किसानों को उनकी फसल पर हुए खर्च का डेढ़ गुणा भाव मिलना ही चाहिए। उन्होंने हर पार्टी की सरकार पर अपने फायदे के लिए ही काम करने का आरोप लगाया और कहा कि किसी भी सरकार को किसान की चिंता अभी तक नहीं रही है। अन्ना हजारे ने कहा कि अभी भी संसद में किसान पेंशन बिल पेंडिंग है।

पेट्रोल और डीजल भी हो जीएसटी के दायरे में
- अन्ना ने कहा कि यदि पीएम मोदी वास्तविक रूप में किसानों का भला करना चाहते हैं तो जल्द से जल्द किसानों के लिए इस बिल को पहले संसद व बाद में राज्यसभा में पास कराने का प्रयास करना चाहिए।
- उन्होंने इस मौके पर केन्द्र सरकार के जीएसटी व नोटबंदी पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि यदि केन्द्र की सोच ठीक थी तो उन्हें पैट्रोल व डीजल को भी जीएसटी के दायरे में लाना चाहिए था।
- ऐसा यदि होता तो न सिर्फ किसान को बल्कि आमजन को बहुत फायदा होता और महंगाई भी काफी हद तक कम हो गई होती।

सभी फोटोः आशीष गुप्ता