--Advertisement--

हरियाणा में बनेगा रेपिस्टों के लिए कानून, १२ साल से कम की बच्चियों से रेप करने में होगी फांसी

हरियाणा में बनेगा रेपिस्टों के लिए कानून, १२ साल से कम की बच्चियों से रेप करने में होगी फांसी

Danik Bhaskar | Jan 20, 2018, 06:08 PM IST

करनाल। प्रदेश में पिछले दिनों बलात्कार की कई घटनाएं सामने आने पर चारों तरफ से घिरी सरकार ने सख्त मूड में सामने आई है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि 12 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ बलात्कार करने वालों को फांसी की सजा का कानून बनाने जा रहे हैं। कोर्ट से अपील की जाएगी कि इस तरह के मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट में हो और एक-डेढ़ साल में न्यायालय फैसला सुना दें, ताकि ऐसी प्रवृति वाले व्यक्तियों में भय का वातावरण बना रहे। सीएम बोले-3 साल में कुछ केस बढ़े तो कुछ घटे भी...

- मुख्यमंत्री शनिवार को करनाल में नई चीनी मिल का शिलान्यास करने के बाद उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

- मुख्यमंत्री ने कहा कि बलात्कार जैसे अपराधों में पुलिस अनुसंधान व अध्ययन में सामने आया है कि 75 प्रतिशत से अधिक मामले पड़ोसी या एक दूसरे के पहले से जानकार वालों में होते हैं।
- इस दौरान सीएम ने कहा कि तीन वर्षो में कुछ केस बढ़े हैं तो कुछ कम भी हुए हैं। इसका कारण है कि पहले एफआईआर दर्ज करवाने के लिए पुलिस थानों में लोग फरियाद लगाते रहते थे और सुनवाई नहीं होती थी। अब हर कोई कहीं से भी एफआईआर दर्ज करवा सकता है।
- इसके अलावा सीएम ने यह भी कहा कि रेप की 25 प्रतिशत शिकायतें झूठी मिलती हैं। इनका असल घटना से कोई वास्ता नहीं होता। इस तरह की घटनाओं से बहुत दुख पहुंचता है। ऐसे में जब तक किसी घटना की पुष्टि नहीं हो जाए, सनसनी न फैलाई जाए।

पिंजौर की घटना का उदाहरण दिया सीएम ने
- मुख्यमंत्री ने पिंजौर में हुई घटना उदाहरण के तौर पर बताई कि जिस युवक को गिरफ्तार किया था, उसके बयान व होश आने पर लड़की के बयान एक समान थे। लड़की ने कहा था कि वह मैदान में साइकल सीख रही थी और हैंडल से उसे चोट लग गई। युवक तो केवल उसको घर तक छोड़ कर आया था।
- मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी हमारी बहनें हैं और ऐसी घिनौनी हरकत करने वालों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए। भाई-बहन का पवित्र रिश्ता है। उन्होंने गुजरात का उदाहरण देते हुए कहा कि हर पुरुष के नाम के साथ भाई व महिला के साथ बहन शब्द लगाते है, यह एक अच्छे संस्कारों की परंपरा है। हमें भी अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देने चाहिए।