--Advertisement--

ीिहरहीरजहर िजलद हरजिहीइजिहिीज िहरजिहर जल

ीिहरहीरजहर िजलद हरजिहीइजिहिीज िहरजिहर जल

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 12:58 PM IST
आरोपी नरेश धनखड़, जिसने सनक के च आरोपी नरेश धनखड़, जिसने सनक के च

पलवल। एक के बाद एक छह हत्या कर पलवल को दहला देने वाले साइको किलर नरेश धनखड़ (कृषि विभाग के एडीओ) पुलिस ने छह दिन की रिमांड खत्म होने के बाद सोमवार को सीजेएम मोना सिंह की अदालत में पेश किया। अदालत से साइको किलर को 14 दिन के न्यायिक हिरासत में नीमका जेल भेज दिया है। रिमांड के दौरान पुलिस केवल आरोपी से हत्या में प्रयोग की गई रॉड को ही बरामद कर पाई है और इस बात का पता नहीं लगा पाई कि आखिर उसने इन हत्याओं को क्यों अंजाम दिया। सारे घटनाक्रम पर पुलिस का छोटे से लेकर बड़े अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है और चुप्पी साधे हुए है। हां इतना जरूर बताया जाता है कि नरेश ने मर्डर किए जाने की बात को कबूल किया है। ये है पूरा मामला...

- उल्लेखनीय है कि भिवानी में सब डिविजनल एग्रीकल्चर ऑफिसर (SDAO) के पद पर तैनात नरेश धनखड़ ने दो जनवरी की सुबह एक के बाद एक छह हत्याओं को अंजाम दिया था और सारी हत्याएं शहर थाना क्षेत्र के अंतर्गत 500 मीटर के दायरे में की थी।
- इसके बाद आरोपी लगभग सात दिन तक दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उपचारधीन रहा था और 9 जनवरी को अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद पलवल पुलिस उसे पलवल ले आई और सीजेएम मोना सिंह की अदालत में पेश किया और पांच दिन का रिमांड मांगा था।
- वरिष्ठ अधिवक्ता नवीन रावत ने बताया कि अदालत से पहले पुलिस को दो दिन का तो फिर चार दिन का रिमांड मिला था। रिमांड खत्म होने के बाद सोमवार को आरोपी फिर अदालत में पेश किया गया, जहां पुलिस ने इस बार आरोपी के रिमांड की मांग नहीं की और कोर्ट ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में नीमका जेल भेज दिया गया है और अब उसे 29 जनवरी को फिर से अदालत मे पेश किया जाएगा।
- उन्होंने बताया कि पुलिस आरोपी से यह पता नहीं लगा पाई है कि इन हत्याओं को उसने क्यों अंजाम दिया। उनके अनुसार नरेश के दिमागी हालत के जो सैंपल कर्नाटक लैब भेजे गए हैं, जब उसकी रिपोर्ट आने के बाद ही पता लग पाएगा की नरेश की मानसिक स्थिति कैसी थी।
- उधर एसआईटी के सदस्य व शहर थाना प्रभारी अश्वनी कुमार ने यह दावा किया है। उनके अनुसार रविवार को नरेश धनखड़ ने सभी स्थानों की पहचान करने के साथ-साथ हत्या करने बात भी स्वीकार कर ली है। आरोपी ने पहली हत्या पलवल अस्पताल में की थी। उसके बाद उसने अन्य लोगों को लोहे की रॉड से मौते के घाट उतारा था। हत्या के कारणों के बारे में अभी नरेश कुछ नहीं बता पाया है।