--Advertisement--

घर में गमलों को स्टंप बनाकर करता था बॉलिंग, अब रणजी ट्रॉफी में ली ७ विकेट

घर में गमलों को स्टंप बनाकर करता था बॉलिंग, अब रणजी ट्रॉफी में ली ७ विकेट

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 03:47 PM IST
भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान व भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान व

करनाल। पिता घर पर गमलों में पौधे लगाते थे और बेटा आए दिन बॉलिंग प्रैक्टिस के उठाकर इधर से उधर कर देता था। दरअसल बेटा इन गमलों को स्टंप बनाकर प्रैक्टिस करता था। शाम को जैसे ही उसके पिता ड्यूटी से घर आते तो गमलों की हालत देखकर समझ जाते कि ये किसने किया है। वे उसे हररोज डांटते और गमलों को व्यवस्थित करते लेकिन अगले दिन फिर ऐसा ही मिलता। ये कहानी हरियाणा के करनाल जिले के तरावड़ी में रहने वाले क्रिकेटर नवदीप सैनी की है। नवदीप रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल में छाए हुए हैं। उन्होंने दिल्ली की ओर से खेलते हुए दोनों पारियों में 7 विकेट लिए। बने मैन अॉफ द मैच...

- नवदीप ने 143.7 किलोमीटर प्रति घंटा से अधिक गति से गेंद फेंकी। उन्होंने दोनों पारियों में 7 विकेट लिए।
- नवदीप सैनी को मैन ऑफ मैच चुना गया। मंगलवार को मैच के दौरान दिल्ली की टीम के कप्तान गौतम गंभीर ने स्टेटमेंट दी थी, जिसे नवदीप ने मोटिवेशन के तौर पर लिया। गंभीर ने कहा था कि आज ही बंगाल की टीम को आउट करना है।
- नवदीप ने चारों खिलाड़ियों को बोल्ड किया। इस सीजन में वे सात मैचों में 236 ओवर में 29 विकेट ले चुके हैं।

ये है नवदीप का रिकॉर्ड

- करनाल प्रीमियर लीग से करिअर शुरू करने वाले नवदीप सैनी दिल्ली की ओर से रणजी खेलते हैं। जुलाई तक नवदीप सैनी ने 18 मैचों में 54 विकेट लिए थे।
- रणजी में महाराष्ट्र के खिलाफ अब तक उनका 80 रन देकर छह विकेट लेने का रिकॉर्ड रहा है। इसी साल ऑस्ट्रेलिया की टीम इंडिया के दौरे पर आई थी। तब उसने तीन विकेट लिए थे।
- नवदीप बॉलिंग में और भी निखार लाने के लिए मेहनत कर रहा है।

बॉलिंग का शौक बचपन से

- नवदीप सैनी को शुरू से ही बॉलिंग करने का शौक था। वे छठी कक्षा से क्रिकेट खेल रहे हैं।
- पिता अमरजीत सैनी उसे इंजीनियर बनाना चाहते थे लेकिन वह कंप्यूटर साइंस से बीएससी करने के बाद भी क्रिकेटर बन गया।

जुलाई में हुआ था इंडिया-ए में चयन

- नवदीप सैनी का जुलाई में इंडिया-ए में चयन हुआ था। वह इंडिया-ए की ओर से दक्षिण अफ्रीका में टीम के साथ भी खेलने गए थे। जहां उसका खेल काफी सराहनीय रहा।