--Advertisement--

अइदबिहद जहबर दद४लीा नज५उला उज५दि

अइदबिहद जहबर दद४लीा नज५उला उज५दि

Danik Bhaskar | Dec 21, 2017, 11:08 AM IST
अपनी बड़ी बहन गीतांजली के साथ अपनी बड़ी बहन गीतांजली के साथ

जींद। भारत ने कटक में बुधवार रात हुए टी20 सीरीज के पहले मैच में श्रीलंका को 93 रन से हरा दिया। ये टी20 फॉर्मेट में रनों के मामले में भारत की सबसे बड़ी जीत रही। मैच में टॉस हारकर पहले बैटिंग करते हुए भारत ने 180/3 रन बनाए थे, जवाब में श्रीलंकाई टीम 87 रन पर ऑलआउट हो गई। स्पिनर चहल ने मैच में जबरदस्त बॉलिंग करते हुए 4 ओवर में 23 रन देकर 4 विकेट झटके। चहल को उनकी शानदार बॉलिंग की वजह से 'प्लेयर ऑफ द मैच' भी चुना गया। चहल के प्रदर्शन से उनके माता-पिता को बेहद खुश हैं। विदेश में रह रही उसकी बहनें भी भाई के इस प्रदर्शन से खुश हैं। पिता हैं एडवोकेट तो बहनें रहती हैं ऑस्ट्रेलिया में...

- युजवेंद्र मूल रूप से हरियाणा के जींद जिले के दरियावाल गांव के रहने वाले हैं लेकिन अब वे जींद की पटियाला चौक के पास रहते हैं। युजवेंद्र के पिता केके चहल जींद कोर्ट में एडवोकेट हैं और माता सुनीता देवी गृहिणी हैं। परिवार में युजवेंद्र सबसे छोटे हैं और उनकी बड़ी बहन नील और छोटी गीतांजली ऑस्ट्रेलिया में रह रही हैं। बड़ी बहन की शादी हो चुकी है।

बेटा क्रिकेटर बना लेकिन पिता का शैड्यूल आज भी वही
- यजुवेंद्र चहल भले ही क्रिकेटर बन गए हो लेकिन उनके पिता केके चहल का शैड्यूल अभी तक नहीं बदला है। वे आज भी रूटीन में कोर्ट जाते हैं और पहले की तरह कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे हैं।

पढ़ाई में कम खेल में ज्यादा मन लगता था युजवेंद्र का

- युजवेंद्र के पिता केके चहल बताते हैं कि उसके बेटे का मन 'पढ़ाई में कम और खेल में ज्यादा लगता था। ''2004 में मैंने अपने डेढ़ एकड़ खेत में युजवेंद्र के लिए स्पेशल पिच तैयार करवाई। वहां उसने प्रैक्टिस शुरू की। ''2011 तक उसने खेत में ही प्रैक्टिस की। जब उसका अंडर-19 में सलेक्शन हुआ तो मुझे पहली बार लगा कि एक दिन हमारा सपना जरूर सच होगा।''

- ''इसके बाद रणजी ट्राफी, आईपीएल और अब भारतीय क्रिकेट टीम में उसका चयन हुआ।''