पानीपत

--Advertisement--

रेलवे स्टेशन के पास ओएचई पर गिरा गर्डर, दिल्ली-मथुरा रेल लाइन ४ घंटे ठप

रेलवे स्टेशन के पास ओएचई पर गिरा गर्डर, दिल्ली-मथुरा रेल लाइन ४ घंटे ठप

Danik Bhaskar

Dec 26, 2017, 08:14 PM IST
पलवल में असावटा गांव के पास कु पलवल में असावटा गांव के पास कु

पलवल। पलवल में असावटा गांव के पास कुंडली-गाजियाबाद-पलवल एक्सप्रेस-वे (केजीपी) के ओवरब्रिज पर मंगलवार को नेशनल हाईवे अथॉरिटी आफ इंडिया (एनएचएआई) द्वारा गर्डर रखने के दौरान हादसा हो गया। लोहे का गर्डर ओवर हेड इक्यूपमेंट (ओएचई) यानि ट्रेन को चलाने वाली इलेक्ट्रिक सप्लाई (ओएचई) पर गिर गया। इससे धमाके के साथ सप्लाई बंद हो गई। इससे मथुरा से नई दिल्ली और नई दिल्ली से मथुरा की ओर आने-जाने वाली दर्जनभर से अधिक ट्रेनें जहां की तहां खड़ी हो गईं। करीब चार घंटे तक विभिन्न ट्रेनों में हजारों यात्री फंसे रहे। रेलवे ने मांगा था 1 घंटे का ब्लॉक...

- हादसा दोपहर करीब 2.40 बजे हुआ। घटना की सूचना मिलते ही मौके पर उत्तर मध्य रेलवे के उच्चाधिकारी पहुंचे और मरम्मत का काम शुरू कराया।

- इसके चलते शाम करीब 5.15 बजे नई दिल्ली की ओर और 5.45 बजे मथुरा की ओर ट्रेनों का परिचालन शुरू हो पाया।

- दरअसल मंगलवार को एनएचएआई ने ओवरब्रिज पर गर्डर लॉन्च करने के लिए रेलवे से एक घंटे का ब्लॉक मांगा था। रेलवे ने दोपहर 1.25 से 2.25 बजे तक का ब्लाॅक दिया था। इस दौरान दिल्ली और मथुरा की ओर ट्रेनों का परिचालन रोक दिया गया था। उत्तर मध्य रेलवे के अधिकारी वहां मौजूद थे।

- दोपहर करीब 2.40 बजे गर्डर रखने के दौरान वह ओएचई पर जा गिरा। इससे धमाका होने के साथ इलेक्ट्रिक सप्लाई बंद हो गई। गर्डर तीनों लाइन पर लटक गया और वहां अफरा-तफरी मच गई।

- मौके पर मौजूद रेल अधिकारियों की घटना की सूचना मथुरा में उच्चाधिकारियों काे दी। इसके बाद मरम्मत का काम शुरू किया गया।

रेलवे अफसर बता रहे हैं एनएचएआई की लापरवाही

- उत्तर मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी गौरव कृष्ण बंसल के अनुसार इस पूरे मामले में एनएचएआई की लापरवाही है। रेलवे उससे जवाब तलब करेगा। साथ ही पूरी घटना की जांच की जाएगी। उन्होंने रेलवे की कोई लापरवाही होने से इंकार किया है।

Click to listen..