--Advertisement--

विपासना इंसां के खिलाफ अरेस्ट वारंट इशू, डेरे में छापेमारी हुई तो मिली गायब

विपासना इंसां के खिलाफ अरेस्ट वारंट इशू, डेरे में छापेमारी हुई तो मिली गायब

Danik Bhaskar | Jan 09, 2018, 09:57 AM IST
डेरा सच्चा सौदा में रविवार को डेरा सच्चा सौदा में रविवार को

सिरसा. डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख रहे गुरमीत राम रहीम इंसां की बड़ी राजदार विपासना इंसां के खिलाफ पुलिस ने अरेस्ट वारंट जारी किया है। दरअसल, वो सिरसा डेरे से फरार चल रही है। पिछले दिनों डेरे में पंचकूला एसआईटी ने कई बार छापेमारी की, लेकिन विपासना इंसां वहां नहीं मिली। विपासना के खिलाफ समन भी जारी किया गया था, लेकिन वह पेश नहीं हुई।

अनुयायियों को नपुंसक बनाने का आरोपी डॉक्टर गिरफ्तार

- पंचकूला एसआईटी ने इनपुट के आधार पर बीते रविवार की शाम करीब 4.30 बजे सिरसा डेरे में छापा मारा था।

- तलाशी के दौरान डॉक्टर महिंदर इंसा को गिरफ्तार कर लिया गया। वह एक कमरे में छिपा था। उस पर बाबा के अनुयायियों को नपुंसक बनाने और देशद्रोह का आरोप है। इस दौरान विपासना इंसां वहां नहीं मिली।

- एसीपी मुकेश मल्होत्रा की अगुआई में एसआईटी ने महिंदर इंसां को पंचकूला कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने उसे तीन दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

आदित्य इंसां के कॉन्टैक्ट में था डॉ. महिंदर
- सूत्रों के मुताबिक, महिंदर आदित्य इंसां के कॉन्टैक्ट में था। कहा जा रहा है कि उसे आदित्य का नया मोबाइल नंबर पता है।
- पंचकूला हिंसा की जांच के दौरान डॉ. महिंदर इंसां का नाम भी सामने गया था। वह तभी से फरार था।

हिंसा के लिए हुई बैठक में शामिल होने का आरोप
- कहा जाता है कि पंचकूला हिंसा से पहले 17 अगस्त को डेरा सच्चा सौदा में एक बैठक हुई थी। जिसमें हिंसा की साजिश रची गई थी। आरोप है कि इस बैठक में हनीप्रीत और विपासना भी मौजूद थीं।

पहले बुलाने पर नहीं आई थी विपासना इंसां
- इससे पहले अक्टूबर 2017 में एसआईटी ने विपासना को पूछताछ के लिए बुलाया था। तब वह कई बार सेहत ठीक न होने का हवाला देकर बचती रही थी।

- इसके बाद जब वह जांच में शामिल हुई तो पुलिस ने विपासना और हनीप्रीत को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की थी।

कौन है विपासना इंसां?
- 35 साल की विपासना इंसां डेरा सच्चा सौदे आश्रम की एक साध्वी और डेरे की मैनेजमेंट मेंबर है।
- उसे गुरु ब्रह्मचारी विपासना के नाम से जाना जाता है। वो राम रहीम के बाद डेरा में दूसरे नंबर पर है। राम रहीम की तरफ से सभी फैसले लेने की जिम्मेदारी विपासना को ही दी गई थी।

- वह पिछले सात साल से डेरा चीफ के सबसे करीबी लोगों में शामिल है।
- 25 तारीख को पंचकूला में हुई हिंसा के बाद विपासना ने ट्विटर के जरिए लोगों से हिंसा रोकने की अपील भी की थी।

क्या हुआ था पंचकूला हिंसा में?
- दो साध्वियों से रेप के मामले में 25 अगस्त को राम रहीम को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने दोषी करार दिया था। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा के फॉलोअर्स ने हरियाणा और पंजाब समेत कई राज्यों में हिंसा शुरू कर दी थी।

- पंचकूला में फॉलोअर्स ने गाड़ियां फूंकी, पेट्रोल पंप जलाया, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों में आगजनी की। सिरसा का भी यही हाल था। हिंसा में 41 लोगों की जान गई, इनमें 36 की जान केवल पंचकूला में ही गई थी।

रेप केस में राम रहीम को कितनी सजा, कोर्ट ने क्या कहा था?
- 28 अगस्त को डेरा सच्चा सौदा चीफ राम रहीम को दो साध्वियों से रेप के जुर्म में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने 10-10 साल की सजा सुनाई थी।
- अपने 9 पेज के ऑर्डर में जज ने कहा, "जिसने अपनी साध्वियों को ही नहीं छोड़ा और जो जंगली जानवर की तरह पेश आया, वह किसी रहम का हकदार नहीं है।"