--Advertisement--

ठंड के कारण महम की गौशाला में मरी १४ गाय, बिना शैड खुले में गुजर रही रात

ठंड के कारण महम की गौशाला में मरी १४ गाय, बिना शैड खुले में गुजर रही रात

Danik Bhaskar | Dec 17, 2017, 12:07 PM IST
ठंड के कारण गोशाला में मृत पड़ ठंड के कारण गोशाला में मृत पड़

रोहतक (महम)। महम के फरमाणा रोड पर स्थित गोशाला में ठंड के कारण तीन दिन के अंदर 14 गायों ने दम तोड़ दिया। हालात यही रहे तो आगामी दिनों मरने वाली गायों की संख्या में बढ़ोतरी हो सकती है। वहीं प्रधान का कहना है कि गोशाला में संख्या अधिक है इसलिए गोवंश की मौत हो रही है। गायों के इस तरह मरने से क्षेत्र के गोभक्त नाराज हैं। उन्होंने प्रधान की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि प्रधान गोशाला का सही तरीके से संचालन नहीं कर रहा। बिना शैड के ठंड में हुई गोवंश की मौत...

- बता दें कि फरमाणा रोड पर स्थित गोशाला में फिलहाल 1600 के लगभग गोवंश हैं। इनके रहने के लिए शैड की कमी है। ठंड में आधे से ज्यादा गाय बाहर खुले में रहती हैं।
- साफ सफाई की उचित व्यवस्था होने से बाहर ये गोबर, कीचड़ गीली मिट्टी में ही रात गुजारती हैं। आपसी लड़ाई में इनके घायल होने की बात भी सामने आई है। सरकारी चिकित्सक की यहां कोई सुविधा नहीं है।
- समय पर इलाज व देखभाल न होने के कारण ठंड में घायल गाय दम तोड़ रही हैं।

प्रधान पर लग रहे आरोप
- देवीराम ढाका का कहना है कि शुगर मिल मुफ्त में गोशाला के लिए हरा चारा देता है लेकिन उसे लेकर प्रधान बाहर 90 रुपए प्रति क्विंटल की दर से गन्ने के गोले खरीद रहा है जो एक जांच का विषय है।
- उन्होंने गोशाला में खल रही कमियों यहां निरंतर मर रही गायों बारे प्रशासनिक अधिकारियों से संज्ञान लेने की बात कही है।

प्रधान बोले गोशाला को बदनाम कर रहे कुछ लोग
- गोशाला प्रधान धज्जा राम का कहना है कि कुछ लोग गोशाला को बदनाम करना चाहते हैं। एकाध गाय तो मर ही जाती है। सरकार उनकी कोई सहायता नहीं कर रही।
- शुगर मिल का चारा महंगा पड़ता है, जबकि बाहर से लिया गया गन्ने का चारा सस्ता है। वे पूरी निष्ठा लगन से गायों की सेवा कर रहे हैं।

आगे की स्लाइड्स में देखें अन्य फोटो.....