--Advertisement--

ग्रामीणों के साथ एडीसी ने उठाए पॉलीथिन, जिले के नाम जुड़ी ये उपलब्धि

ग्रामीणों के साथ एडीसी ने उठाए पॉलीथिन, जिले के नाम जुड़ी ये उपलब्धि

Danik Bhaskar | Jan 21, 2018, 07:08 PM IST

फतेहाबाद। पाॅलीथीन के खिलाफ देश के विभिन्न राज्यों में लंबे वक्त से अभियान चल रहा है, वहीं रविवार को हरियाणा के फतेहाबाद जिले ने यह जंग जीत ली। आज फतेहाबाद जिले को प्रदेश के पहले जिले के रूप में उपलब्धि हासिल हो गई, जहां अब आपको पाॅलीथीन इस्तेमाल नहीं होता दिखाई देगा। इससे पहले खुद एडीसी डॉ. जेके आभीर भी ग्रामीणों के साथ पाॅलीथीन उठाते नजर आए और फिर डीसी ने इसकी आधिकारिक घोषणा की। जिले के 257 गांव हुए प्लास्टिक व पाॅलीथीन रहित...

- प्रेस कॉन्फ्रेंस में डॉ. हरदीप सिंह, एडीसी डॉ. जेके आभीर और पुलिस अधीक्षक दीपक सहारण ने जिलावासियों के साथ मीडियाकर्मियों को इस अभियान में सहयोग देने पर बधाई दी।
डीसी ने बताया कि जिले के 257 गांव 20 जनवरी को प्लास्टिक और पाॅलीथीन वाले कचरे से मुक्त हो गए हैं। इसी के साथ फतेहाबाद हरियाणा प्रदेश का पहला ऐसा जिला बन गया है।
- उन्होंने कहा कि म्हारो सूथरो फतेहाबाद एवं स्वच्छता अभियान में एबीपीओ, सक्षम टीम, ओडीएफ टीम, पंच, सरपंच व सभी ग्रामवासियों, आंगनवाड़ी वर्कर, सहायक, आशा वर्कर, महिलाओंं, छात्र-छात्राएं व अध्यापक वर्ग, एनजीओ और इस जागृति के सूत्रधार मीडियाकर्मियों, सामाजिक-धार्मिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने बढ़-चढ़कर सहयोग किया।
- साथ ही डॉ. हरदीप सिंह ने कहा कि सभी के सहयोग से जिले को हर क्षेत्र में पहली लाइन में लेकर आना है। इसके लिए हम सभी को नि:स्वार्थ भाव से पूरे जोश के साथ कार्य करना होगा।

ऐसे हुई शुरुआत
- डीसी ने इस अभियान के बारे में विस्तार से बात करते हुए बताया कि एडीसी डॉ. जेके आभीर ने प्लास्टिक व पाॅलीथीन के कचरे से मुक्ति दिलाने के लिए सरकार के दिशा-निर्देशानुसार दिसंबर 2017 में बैठकें कर रूपरेखा बनाई। फिर नए साल की नई उमंग के साथ इस अभियान को सफल बनाने के लिए लगातार प्रयास किए गए। इस दौरान नागरिकों को पॉलिथीन प्रयोग न करने की शपथ भी दिलाई गई।

गणतंत्र दिवस था टारगेट
- उन्होंने कहा कि जिला को पाॅलीथीन कूड़ा मुक्त करने का लक्ष्य 26 जनवरी तक रखा गया था, लेकिन सभी के सहयोग से इस लक्ष्य को निर्धारित समय से पहले ही प्राप्त किया गया।
- एडीसी ने कहा कि म्हारो सूथरो फतेहाबाद अभियान के तहत जिला के सभी गांवों में वॉल पेंटिंग करवाई गई है, जिसमें गांव व आसपास के क्षेत्र को स्वच्छ रखने की अपील करने के साथ-साथ नागरिकों को स्वच्छता बारे विस्तार से जानकारी भी दी गई है।