Hindi News »Haryana »Panipat» Haryana Granth Academy Director Professor Virendra Singh Chauhan Seen The Stall At Delhi

विश्व पुस्तक मेले में पुस्तकप्रेमियाें को लुभा रही है हरियाणा ग्रंथ अकादमी

हरियाणा ग्रंथ अकादमी के डिप्टी चेयरमैन और डायरेक्टर प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान रविवार को प्रगति मैदान में पहुंचे।

Balraj Singh | Last Modified - Jan 07, 2018, 04:09 PM IST

विश्व पुस्तक मेले में पुस्तकप्रेमियाें को लुभा रही है हरियाणा ग्रंथ अकादमी

पानीपत/नई दिल्ली। हरियाणा ग्रंथ अकादमी हरियाणा के इतिहास संस्कृति और साहित्य के विभिन्न पक्षों को ग्रंथों में गूंथने के लिए प्रतिबद्ध है। इस दृष्टि से उच्च कोटि की पुस्तकों के प्रकाशन का सिलसिला जारी है। अकादमी के प्रकाशन सस्ती दरों पर उपलब्ध कराए जाते हैं। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के डिप्टी चेयरमैन और डायरेक्टर प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने रविवार को प्रगति मैदान में प्रारंभ हुए विश्व पुस्तक मेले में हरियाणा ग्रंथ अकादमी के स्टॉल का लोकार्पण करते हुए यह टिप्पणी की। 370 पुस्तकें प्रकाशित कर चुकी अकादमी...

- अकादमी के उपाध्यक्ष प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि अब तक हरियाणा ग्रंथ अकादमी स्कूल 370 पुस्तकें प्रकाशित कर चुकी है। इनमें हरियाणा की लोक संस्कृति इतिहास और साहित्य से जुड़े ग्रंथों के अलावा विश्वविद्यालय स्तर पर विद्यार्थियों के लिए उपयोगी मानक पुस्तके भी शामिल हैं।
- उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री और हरियाणा ग्रंथ अकादमी के अध्यक्ष मनोहर लाल के मार्ग निर्देशन में अकादमी ने अपने सभी प्रकाशनों के डिजिटल संस्करण तैयार करने का निर्णय लिया है।
- भविष्य में प्रकाशित होने वाली सभी पुस्तकें प्रकाशन के साथ ही डिजिटल प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराए जाने का प्रस्ताव है। हरियाणा ग्रंथ अकादमी के स्टॉल के लोकार्पण कार्यक्रम में प्रसिद्ध कवि डॉ. कुंवर बेचैन और हरीश नवल भी उपस्थित रहे।
- प्रोफेसर चौहान ने कहा कि विश्व पुस्तक मेले में हरियाणा ग्रंथ अकादमी का स्टॉल हरियाणा को जानने में रुचि रखने वाले पुस्तक प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र रहेगा।
- उन्होंने बताया कि हरियाणा ग्रंथ अकादमी ने विश्वविद्यालय स्तर पर विभिन्न विषयों की पढ़ाई हिंदी माध्यम से हो सके, यह सुनिश्चित करने के लिए इंजीनियरिंग डिप्लोमा की पुस्तकें हिंदी में तैयार कराने और उनका प्रकाशन करने का महत्वपूर्ण कार्य अपने हाथ में लिया है।
- उन्होंने कहा कि इंजीनियरिंग डिप्लोमा की करीब एक दर्जन पुस्तकें अगले शैक्षणिक सत्र से पूर्व विद्यार्थियों और शिक्षकों को उपलब्ध हो सकेंगी।
- हरियाणा ग्रंथ अकादमी के सदस्य और साहित्यकार डॉ. वेद व्यथित ने इस अवसर पर कहा कि प्रदेश में वर्तमान राज्य सरकार ने साहित्य समेत विभिन्न प्रकार के लेखन को बढ़ावा देने के लिए अनुकूल माहौल उपलब्ध कराया है।
- हिंदी माध्यम से उच्च शिक्षा की दिशा में हरियाणा ग्रंथ अकादमी के माध्यम से की गई पहल को उन्होंने एक क्रांतिकारी कदम करार दिया और कहा कि इसके दूरगामी सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे।
- इस अवसर पर हरियाणा उर्दू अकादमी के निदेशक डॉ. नरेंद्र उपमन्यु, सुलभ साहित्य अकादमी से अशोक कुमार ज्योति, वेदप्रकाश विद्यार्थी, विद्या भारती के नरेंद्र दत्त, सरनाम सिंह तोमर और सुरजीत सिंह नेहरा भी उपस्थित थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: vishv pustak mele mein pustakpremiyaaen ko lubhaa rhi hai hariyaanaa garnth akadmi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×