--Advertisement--

हनत४मतक ४इलज२३म ३हम२४२३ल

हनत४मतक ४इलज२३म ३हम२४२३ल

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2018, 06:09 PM IST
hommage to Pundit Deendayal Upadhyay on his death anniversary

करनाल। भारतीय जनता पार्टी की सरकारें पंडित दीनदयाल उपाध्याय द्वारा दिखाए गए एकात्म मानववाद और अंत्योदय की रास्ते पर चलकर नवीन भारत का निर्माण करने में जुटी हुई हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेता और हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने कैलाश गांव में पंडित दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में यह टिप्पणी की। कार्यक्रम की अध्यक्षता भाजपा किसान मोर्चा की प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य सतीश पोसवाल ने की।

- ग्रंथ अकादमी उपाध्यक्ष प्रो चौहान ने कहा पंडित दीनदयाल उपाध्याय भारतीय राजनीति के उन गिने चुने व्यक्तित्वों में शुमार हैं जिन्हें राजनेता कहने के बजाय राज ऋषि की संज्ञा दी जाती है।

- उन्होंने कहा कि एक गरीब और साधनहीन परिवार में जन्म लेकर दीनदयाल जी अपनी साधना और ज्ञान के बल पर उस समय के सबसे बड़े विपक्षी दल भारतीय जनसंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष के ओहदे पर पहुंचे।

- ग्रामोदय अभियान के संयोजक प्रो. चौहान ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजनीति और सार्वजनिक जीवन में ऊंचे आदर्शों की स्थापना करने के लिए याद किए जाते हैं। उनका जीवन गजब की सादगी से परिपूर्ण था और वे अर्थनीति समेत समाज जीवन के विभिन्न पहलुओं के विलक्षण मर्मज्ञ थे।

- पार्टी कार्यकर्ताओं और ग्राम वासियों से संवाद में प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वाधीन भारत के नव निर्माण की प्रक्रिया में सनातन भारतीय जीवन मूल्यों को जिंदा रखने और गांव और गरीब की तरक्की को राष्ट्र की उन्नति का आधार बनाए जाने के पक्षधर थे। वर्तमान केंद्र और राज्य सरकार की तमाम योजनाएं और कार्यक्रम गांव गरीब और समाज के कमजोर वर्गों के कल्याण पर ध्यान केंद्रित कर बनाए जा रहे हैं।

- भाजयुमो जिला उपाध्यक्ष विनय पोसवाल ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय को अद्भुत समाज सुधारक और विद्वान करार दिया।

- इस अवसर पर किसान मोर्चा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सतीश पोसवाल ,पूर्व सरपंच सतबीर सिंह, सुगन सिंह, गोविंद कैलाश, मोनू कुमार ,संदीप कैलाश, विपिन कैलाश ,ज्ञान प्रकाश, जगदीश धानिया ,सुमित चौहान ,संजीत सांगवान और जगदीप पोरिया आदि मौजूद थे।

X
hommage to Pundit Deendayal Upadhyay on his death anniversary
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..