--Advertisement--

नोटिस चिपका राम रहीम के गुरु का जन्मोत्सव नहीं मनाने की नसीहत, सीबीआई ने भी की छानबीन

नोटिस चिपका राम रहीम के गुरु का जन्मोत्सव नहीं मनाने की नसीहत, सीबीआई ने भी की छानबीन

Danik Bhaskar | Jan 15, 2018, 02:57 PM IST
सिरसा पुलिस ने डेरा सच्चा सौदा सिरसा पुलिस ने डेरा सच्चा सौदा

सिरसा। डेरा सच्चा सौदा सिरसा पर आए दिन शिकंजा कसता ही जा रहा है। एक तरफ पुलिस ने 25 जनवरी को राम रहीम के गुरु सतनाम सिंह का जन्मदिवस नहीं मनाने की नसीहत दी है। दूसरी ओर राम रहीम पर लगे 400 साधुओं को नपुंसक बनाने के आरोप के संबंध में सोमवार को सीबीआई की टीम राम रहीम का ड्राइवर रह चुके खट्टा सिंह को लेकर डेरे में पहुंची। यहां नए-पुराने डेरा परिसर में सीबीआई की टीम ने 4 घंटे तक छानबीन की। दूसरी ओर हिंसा के मामले की जांच कर रही एसआईटी ने डेरे से बरामद 65 हार्ड डिस्क की जांच बड़ी एजेंसी से कराने की तैयारी कर ली है। इस संबंध में डीजीपी को लेटर लिखा जा रहा है। थाना सदर पुलिस ने चिपकाया डेरे के बाहर नोटिस...

- बताते चलें कि 25 जनवरी को डेरा सच्चा सौदा में मौजूदा डेरा चीफ गुरमीत राम रहीम सिंह के गुरु एवं डेरे के दूसरे गद्दीनशीन रहे बाबा सतनाम सिंह का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस मौके पर हर साल बहुत बड़े लेवल का प्रोग्राम होता रहा है, जिसमें लाखों डेरा अनुयायी शामिल होते हैं।
- इस बार चूंकि डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को साध्वियों से यौन शोषण के मामले में सीबीआई कोर्ट सजा सुना चुकी है, ऐसे में डेरे में अनुयायियों का जुटना हिंसक न हो जाए, इसके चलते पुलिस प्रशासन फूंक-फूंककर कदम रख रहा है।
- इसी के चलते सोमवार को डेरे के बाहर थाना सदर सिरसा की तरफ से नोटिस चिपका दिए गए कि 25 जनवरी को डेरे में ऐसा कोई प्रोग्राम नहीं होना चाहिए।
- दूसरी ओर यह बात भी उल्लेखनीय है कि राम रहीम के खिलाफ डेरे के 400 साधुओं को नपुंसक बनाने का मामला भी कोर्ट में विचाराधीन है। इसको लेकर डेरे के पूर्व साधू रहे हंसराज समेत कई लोग गंभीर आरोप लगा चुके हैं।
- सोमवार को सीबीआई की एक टीम दिल्ली से डेरा सच्चा सौदा परिसर पहुंची। इस दौरान राम रहीम का ड्राइवर रह चुके एक पूर्व डेरा अनुयायी खट्टा सिंह को लेकर पहुंची टीम ने 4 घंटे तक नए और पुराने डेरा परिसर में लोगों से पूछताछ की।
- सीबीआई की टीम में इंस्पेक्टर विजय यादव, इंस्पेक्टर अरविंद और इंस्पेक्टर बलबीर समेत कई अधिकारी शामिल थे। दरअसल हंसराज ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर जबरन नपुंसक बनाने के मामले में कार्रवाई की मांग रखी थी। पहले यह जांच हरियाणा पुलिस को सौंपी गई और पुलिस ने कई लोगों के बयान भी दर्ज किए, लेकिन हरियाणा पुलिस की कार्रवाई पर हाईकोर्ट संतुष्ट नहीं हुआ और जांच सीबीआई के हवाले कर दी गई थी।

पुलिस ने की यह गलती, गुरु की जगह लिखा चेले का नाम

- हालांकि पुलिस की तरफ से चस्पा किए गए नोटिस में एक बहुत बड़ी खामी भी है। दरअसल इस नोटिस में 25 जनवरी को गुरमीत राम रहीम सिंह का जन्मदिन होने की बात प्रकाशित है, जबकि इस दिन गुरमीत राम रहीम सिंह की बजाय उसके गुरु सतनाम सिंह का जन्मोत्सव होता है।

बाबा गुरमीत राम रहीम को किस रेप केस में हुई सजा, क्या है पूरा मामला?

- 2002 में एक साध्वी ने गुमनाम चिट्ठी लिखी। इसमें बताया गया था कि कैसे डेरा सच्चा सौदा के अंदर लड़कियों का सेक्शुअल हैरेसमेंट होता था। यह चिट्ठी पंजाब और हरियाणा कोर्ट को भी भेजी गई थी। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के खिलाफ यौन शोषण का केस शुरू हुआ। सीबीआई ने जांच शुरू की। 15 साल बाद सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने गुरमीत राम रहीम सिंह को दोषी करार दिया।
- माना जाता है कि ये चिट्ठी राम रहीम के 20 साल ड्राइवर रहे रणजीत सिंह की बहन ने लिखी थी। बाद में रणजीत का मर्डर हो गया था। इसका शक भी बाबा समर्थकों पर जताया गया। यह केस भी पंचकूला की सीबीआई कोर्ट में चल रहा है।
- दो साध्वियों के रेप केस में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को CBI की स्पेशल कोर्ट ने 20 साल की सजा सुनाई। यानी डेरा चीफ को कुल 20 साल जेल में गुजारने होंगे।