--Advertisement--

ढ्ढ्रस् अफसरों को ब्लैकमेल कर मांगता था पैसे, पुलिस ने लिया ३ दिन के रिमांड पर

ढ्ढ्रस् अफसरों को ब्लैकमेल कर मांगता था पैसे, पुलिस ने लिया ३ दिन के रिमांड पर

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 06:05 PM IST

रेवाड़ी। आईएएस और आईपीएस अफसरों को ब्लैकमेल कर पैसे ऐंठने के गिरोह का मुख्य सरगना सीआईए रेवाड़ी पुलिस की गिरफ्त में आया है। पकड़ा गया आरोपी यूपी के जिला फैजाबाद के गांव पिकोरा भाट का कमलेश कुमार शर्मा है। मार्च 2017 में आरोपी ने रेवाड़ी के तत्कालीन डीसी से फोन पर आय से अधिक संपत्ति होने की बात कहकर डेढ़ लाख रुपए मांगे थे। आरोपी वर्तमान में किसी अन्य ठगी के मामले में लखनऊ जेल में बंद था। सीआई रेवाड़ी पुलिस ने आरोपी को अदालत से प्रोडक्शन वारंट पर लेकर 3 दिन के पुलिस रिमांड पर लिया है। वारदात में शामिल दो आरोपियों को पुलिस पहले कर चुकी है। डिप्टी कमिश्नर से मांगे थे एक लाख 50 हजार रुपए...

- ठगी करने वाले गिरोह ने मार्च 2017 में रेवाड़ी के तत्कालीन डिप्टी कमिश्नर डॉ.. यश गर्ग को फोन पर खुद को सरकारी विभाग का अधिकारी बताया तथा एक लाख 50 हजार रुपए रिश्वत देने की मांग की थी।
- 4 मार्च 2017 को डॉ. यश गर्ग के मोबाइल पर एक नंबर से दो बार मिस कॉल आई थी। दोपहर बाद उसी नंबर से एक एसएमएस मिला, जिसमें लिखा हुआ था डीओपीटी से संबंधित मामला है अभी बात करें।
- डीसी ने शाम के समय एसएमएस वाले नंबर पर संपर्क किया तो दूसरी ओर बोल रहे व्यक्ति ने अपना नाम एसपी गर्ग बताया था।
- आरोपी ने कहा था कि उनकी 225 पेज की पीएमओ कार्यालय से आय से अधिक संपत्ति की शिकायत है। तीन अधिकारी इस मामले को देख रहे हैं। यदि इस मामले को सैटल कराना चाहते हैं तो डेढ़ लाख रुपए देने होंगे।
- उपायुक्त ने डेढ़ लाख रुपये मांगने की जानकारी तुरंत ही पुलिस अधीक्षक संगीता कालिया को दी थी तथा पैसे देने के बहाने फोन करने वाले को रेवाड़ी बुला लिया था। जिला फैजाबाद के गांव रुदोली निवासी उपेंद्र कुमार पैसे लेने रेवाड़ी पहुंचा तो उसे बस स्टैंड पर ही गिरफ्तार कर लिया।
- पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर करवाई शुरू की थी। रिमांड पर लेकर मुख्य सरगना कमलेश शर्मा के बारे में जानकारी ली तथा अब उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी पर पहले भी केस दर्ज हैं।