--Advertisement--

युवक की मौत पर दूसरे दिन भी माहौल तनावपूर्ण, पुलिस को छोड़नी पड़ी आंसू गैस

युवक की मौत पर दूसरे दिन भी माहौल तनावपूर्ण, पुलिस को छोड़नी पड़ी आंसू गैस

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2017, 02:30 PM IST
यमुनानगर में रविवार को पुलिस क यमुनानगर में रविवार को पुलिस क

यमुनानगर। यमुनानगर के गांव अराइयांवाला में युवक की मौत के बाद रविवार को दूसरे दिन भी माहौल तनावपूर्ण रहा। परिजनों व ग्रामीणों ने मृतक का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया। ग्रामीणों ने आज भी जाम लगाने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने आंसू गैस गोले छोड़कर ग्रामीणों को वहां से खदेड़ा। फिर भी ग्रामीण सड़क पर आने लगे तो पुलिस ने कई राउंड हवाई फायर किए। इससे पहले शनिवार को भी माहौल तनावपूर्ण हो जाने के बाद लोगों ने एसएचओ को पीट दिया था। ये है पूरा मामला...

- बताते चलें कि शनिवार अलस्सुबह लाल टोपी घाट पर खिजराबाद पुलिस एसएचओ के नेतृत्व में खनन करने वालों पर कार्रवाई करने पहुंची।
- इसी दौरान ट्रैक्टर से नीचे गिरकर टायर के नीचे दबने से गांव अराइयांवाला निवासी 25 वर्षीय मोनू की मौत हो गई।
- परिजनों का आरोप है कि एसएचओ ने खनन कर रहे लोगों पर पथराव किया था, जिसमें से एक पत्थर मोनू की कनपटी पर लगा तो वह नीचे गिर गया और ट्रैक्टर के नीचे दब जाने से उसकी मौत हुई। इससे गुस्साए लोगों ने शनिवार को थाना खिजराबाद में पथराव किया।
- गुस्साए लोगों ने पुलिस जिप्सी के शीशे तोड़ दिए। जब परिजनों को समझाने के लिए एसएचओ छछरौली वीरेंद्र राणा मौके पर पहुंचे तो लोगों ने उन्हें भी पीट दिया। उन्हें अस्पताल ले जाया गया है।

जैसा कि प्रत्यक्षदर्शी ने बताया था
- मृतक युवक माेनू के दोस्त मोहम्मद याकिर की मानें तो वह रेत की ट्रॉली लेकर आ रहे थे, पुलिस ने रोककर उनके साथ पैसे वसूली के लिए बहस शुरू कर दी। हालंकि 200 रुपए दे भी दिए थेए लेकिन पुलिस वाले 500 पर अड़े हुए थे।
- इसी बहस के बीच अचानक पुलिस वाले पथराव पर उतर आए। थाना खिजराबाद के एसएचओ द्वारा फेंका पत्थर मोनू की कनपटी पर लगा और वह ट्रैक्टर से नीचे गिर गया। साथ ही ट्रैक्टर का पहिया उसके ऊपर से गुजर जाने से उसकी मौत हो गई।

ऐसे बरपा हंगामा
- घटना के बाद पांच घंटे तक लोगों ने नेश्नल हाईवे नंबर 73 को जाम रखा। प्रदर्शनकारियों ने थाना छछरौली के एसएचओ वीरेंद्र राणा को पीट दिया था।

- रविवार को फिर से उस वक्त माहौल तनावपूर्ण हो गया, जब परिजनों ने मोनू का अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया, वहीं ग्रामीणों ने आज भी जाम लगाने की कोशिश की।

- गांव की स्थिति को देखते हुए प्रशासन ने वहां धारा 144 लगा दी है। इसकी अनाउंसमेंट भी अधिकारियों ने लाउ डस्पीकर के द्वारा गांव में की गई।

- ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस ने गांव के कुछ लोगों को उठाया है, इसलिए पहले लोगों को छोड़ा जाए तभी अंतिम संस्कार किया जाएगा, लेकिन पुलिस ने ग्रामीणों की किसी भी शर्त को मानने से इन्कार कर दिया है।

X
यमुनानगर में रविवार को पुलिस कयमुनानगर में रविवार को पुलिस क
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..