--Advertisement--

पद्मावत पर हरियाणा में बैन लगना सही, इतिहास से छेड़छाड़ नहीं होने देंगेः प्रो. चौहान

पद्मावत पर हरियाणा में बैन लगना सही, इतिहास से छेड़छाड़ नहीं होने देंगेः प्रो. चौहान

Dainik Bhaskar

Jan 18, 2018, 11:44 AM IST
political comment on ban of Padmavat film

पानीपत। विवादों में घिरी संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत पर हरियाणा सरकार द्वारा लगाए गए बैन का जहां कुछ लोग स्वागत कर रहे हैं तो कुछ इसका विरोध भी कर रहे हैं। इसी कड़ी में हरियाणा ग्रंथ अकादमी के डिप्टी चेयरमैन और निदेशक प्रो. वीरेंद्र सिंह चौहान ने पद्मावत के हरियाणा में बैन लगाने का स्वागत किया है। चौहान ने कहा कि यह फिल्म भारत के गौरवशाली अतीत के अहम पन्नों के साथ सीधी खिलवाड़ करती प्रतीत होती है। उन्होंने इस प्रतिबंध को चित्तौड़ में मान-सम्मान की रक्षा के लिए रानी पद्मावती के साथ जौहर की ज्वाला में आत्म बलिदान करने वाली हजारों क्षत्राणियों के सम्मान में लिया गया निर्णय करार दिया।

- प्रो चौहान ने कहा कि फिल्म को बॉलीवुड के उन निर्माता-निर्देशकों की संकुचित और कलुषित सोच का उत्पाद माना जा सकता है जिन्हें भारत के इतिहास के साथ छेड़छाड़ करने में गौरव की अनुभूति होती है। उन्होंने व्यापक समाज हित में इस फिल्म के हरियाणा राज्य में प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगाने के हरियाणा की मंत्री परिषद के निर्णय को अभिनंदनीय कदम करार दिया।

- वीरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अगुवाई में भारतीय संस्कृति के मान बिंदुओं और महापुरुषों के सम्मान व गरिमा की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि भारत में कथित बुद्धिजीवियों का एक तबका ऐसा है जिसके लिए भारतीय परंपरा और मान्यताओं का उपहास करना फैशन बन गया है। इस तबके को विदेशी संस्कृति अपने देश की श्रेष्ठ उपलब्धियों के सामने कहीं अधिक भाती और लुभाती है।

- उन्होंने कहा कि भविष्य में भी समाज के किसी तबके की भावनाओं को सुनियोजित ढंग से आहत करने की ऐसी साजिशों को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।

X
political comment on ban of Padmavat film
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..