--Advertisement--

बअदअ उहीइअउ अहअइरिज हअरदहअइ

बअदअ उहीइअउ अहअइरिज हअरदहअइ

Danik Bhaskar | Jan 24, 2018, 01:35 PM IST

पानीपत। इनकम टैक्स विभाग के स्थानीय अधिकारियों की तरफ से द इंस्टीट्यूट आॅफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) की उत्तरी क्षेत्रीय परिषद की पानीपत शाखा में मंगलवार को जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। यहां बताया गया कि इनकम टैक्स भरने से लेकर रिटर्न फाइल करना सबकी जिम्मेदारी है। इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने पर आपकी आय लीगल हो जाती है। इनकम टैक्स जॉइंट कमिश्नर मोनिका सिंह ने बताया कि इनकम टैक्स समय से भरें। इसके बाद आईटीआर की फाइलिंग भी समय और अच्छे से करना जरूरी है। हो सकती है पेनल्टी...

- उन्होंने बताया कि जितना जरूरी है, इनकम टैक्स भरना, उतना ही जरूरी है इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना। यदि आप टैक्स रिटर्न फाइलिंग तय तारीख पर नहीं कर पाते तो आपको पेनल्टी भरनी पड़ सकती है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष की रिटर्न 31 मार्च तक जरूर कर फाइल कर दें।

आईटीआर फाइलिंग में इन बातों का रखें ध्यान

- इनकम टैक्स जॉइंट कमिश्नर ने बताया कि आईटीआर फाइलिंग सही तरीके और सही समय से करने से सही समय पर रिफंड (यदि बनता हो तो) में कोई दिक्कत नहीं आती। आईटीआर प्रॉसेस भी वक्त पर हो जाता है।

- बैंक डीटेल्स जैसे कि नाम, आईएफएससी कोड, अकाउंट नंबर (जिसमें रिफंड लेना चाहते हैं) सही तरीके से चेक करके भरें। आपकी नियोक्ता कंपनी यदि टैन यानी टैक्स डिडक्शन एंड कलेक्शन अकाउंट नंबर सही नहीं देती तब भी रिफंड और चुकाए गए टैक्स के संदर्भ में अन्य तकनीकी दिक्कत हो सकती है। अपने ईमेल आईडी, पोस्टल एड्रेस में किसी प्रकार की कोई गलती न करें।

जिले में चलाया जाएगा जागरुकता अभियान
- कार्यक्रम के दौरान इनकम टैक्स जॉइंट कमिश्नर मोनिका सिंह ने बताया कि इनकम टैक्स देने वालों के हितों का ध्यान रखना हमारा काम है। इसलिए हम अब पूरे जिले में जागरुकता कार्यक्रम चलाएंगे, जिसके लिए जगह-जगह पर कार्यक्रम किए जाएंगे।

- सेमिनार में सीए गिरिश आहूजा ने कहा कि बेनामी एक्ट लागू हो चुका है। बेनामी से अभिप्राय है कि वो सब अपनी ट्रांजेक्शन हैं, जिनकी पेमेंट दूसरे व्यक्ति के नाम पर है। बेनामी संपत्ति चल व अचल सभी प्रकार की होती है। आईसीएआई के वाइस चेयरमैन राजेश शर्मा व सीए मनमोहन ने ईमानदारी से टैक्स पे करने का आह्वान किया।