--Advertisement--

गैंगरेप पीड़िता से पंचायत में शादी का वादा कर ली जमानत, मेहंदी लगी युवती छोड़कर फरार

गैंगरेप पीड़िता से पंचायत में शादी का वादा कर ली जमानत, मेहंदी लगी युवती छोड़कर फरार

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 11:59 AM IST

हिसार। टोहाना की गैंग रेप पीड़िता से पंचायत के बीच शादी का वादा कर जमानत लेकर जेल से बाहर निकला दूल्हा बिना शादी किए ही अपने दो साथी आरोपियों के साथ फरार हो गया। मामला हिसार शहर के एक होटल का है। दरअसल टोहाना की गैंगरेप पीड़िता की यहां के होटल में आरोपी युवक के साथ रजामंदी से शादी तय थी। आरोपियों ने पंचायत के बीच वादा भी किया था कि उन्हें जेल से बाहर निकलवा दो उनमें से कोई एक पीड़िता से शादी कर लेगा। परिवार ने इस शर्त पर आरोपियों को कोर्ट बयान देकर जमानत दिलवा दी। पढ़िए पूरा मामला...

- जमानत के बाद जेल से रिहा होते ही उसी दिन एक युवक शादी कर लेगा। मगर जमानत मिलने के बाद जैसे ही तीनों आरोपी जेल से बाहर निकले उनके परिवार के 100 से अधिक 8 गाड़ियों में भरकर आए और तीनों आरोपियों को मौके से भगा कर ले गए।

अप्रैल 2017 में सिटी थाना टोहाना में हुआ था केस दर्ज
- पीड़िता के परिवार के लोगों ने बताया कि मामला 29 अप्रैल 2017 का है। आरोपी आकाश की पीड़िता के साथ बातचीत होती थी।
- पीड़िता को अचानक फोन कर होटल में बुला लिया। पीड़िता विश्वास कर चली गई। आकाश ने अपने दो साथियों को प्लानिंग के तहत मौके पर बुलाया हुआ था।
- तीनों ने मिलकर युवती की मुंह दबाकर बारी बारी कर रेप किया। किसी तरह युवती घर पहुंची। उसने मामला परिजनों को बताया तब सिटी थाना में पीड़िता के बयान पर केस दर्ज हुआ।
- तीन दिन बाद पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर लिया।

बेटी की आप बीती सुनाते-सुनाते पिता की आंखों में आंसू झलके
- बेटी के पिता ने जब आपबीती बताई तो पिता की आंखों में आंसू झलक पड़े। पिता ने कहा की बेटी का रो रोककर बुरा हाल है।
- पूरा परिवार व रिश्तेदार होटल में आ चुका था। ऐसी घटना होने के बाद परिवार सदमें में है। पिता ने कहा कि उन्हें ये भी समझ नहीं आ रहा कि आखिर किया क्या जाए। जो पंचायती थे उनमें से 6 लोग भी होटल में मौजूद थे।

पीड़ित के परिवार को जेल के अागे ही आरोपी के परिवार वालों ने घेरा
- पंचायती फैसले के अनुसार जमानत मिलते ही सीधे जेल से आने के बाद ही युवती से शादी की जान तय थी। मगर जैसे ही तीनों आरोपी जेल से बाहर निकले अचानक आठ गाड़ियों में आरोपी पक्ष के लोग बैठकर आए।
- उन्होंने पीड़ित परिवार के लोगों को घेर लिया और जबरदस्ती तीनों को अपनी गाड़ियों में बैठाकर फरार हो गए। पीड़िता के परिवार के लोग कम थे इसलिए विरोध भी नहीं कर पाए।