Hindi News »Haryana »Panipat» Story And Family Of Hockey Player Savita Punia

फोर्ब्स इंडिया ने यंग अचीवर्स चुना है इस खिलाड़ी को, मिलिए इनकी फैमिली से

फोर्ब्स इंडिया ने यंग अचीवर्स चुना है इस खिलाड़ी को, मिलिए इनकी फैमिली से

Manoj Kaushik | Last Modified - Feb 06, 2018, 04:03 PM IST

सिरसा। फोर्ब्स इंडिया ने 30 अंडर-30 लिस्ट जारी की है। यानी 30 साल से कम उम्र के 30 युवा, जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में बेहतरीन काम किया है। इस लिस्ट में एक नाम हरियाणा की हॉकी प्लेयर सविता पूनिया का भी है। जिसे यंग अचीवर्स की लिस्ट में शामिल किया गया है। भारतीय हॉकी टीम में बतौर गोलकीपर खेलने वाली सविता को एशिया कप में शानदार प्रदर्शन के लिए इस सूची में चुना गया है। करीब 150 इंटरनेशनल मैचों में जबरदस्त प्रदर्शन करने वाली सविता अभी भी बेरोजगार है। उसे अभी तक सरकारी नौकरी नहीं मिली है। पढ़िए सविता की पूरी स्टोरी...

- सविता सिरसा जिले के गांव जोधकां में 11 जुलाई 1990 को पैदा हुई। पिता महेंद्र पूनिया फार्मासिस्ट हैं। मां लीलावती हाउसवाइफ हैं तो भाई भविष्य बी-टैक के बाद कंप्यूटर शॉप चला रहा है।
- स्कूलिंग के दौरान ही सविता का खेलों की ओर रुझान हो गया था। सविता स्कूल से पढ़कर घर वापस आती और अपने खेत के टेढ़े-मेढ़े रास्तों पर खेलती थी। इस खेल में उसकी चचेरी बहन मंजू ने भी हमेशा उसकी मदद की। दो-तीन साल बाद ही कमर दर्द की वजह से मंजू ने भी सविता का साथ छोड़ दिया लेकिन वह खेलती रही।
- अपने प्रदर्शन की बदौलत ही सविता इस मुकाम तक पहुंच पाई।

सविता पूनिया की अचीवमेंट
- मात्र 18 साल की उम्र में ही सविता पूनिया ने हॉकी में भारत का प्रतिनिधित्व करना शुरू कर दिया था।
- सविता पूनिया एक बेहतरीन गोलकीपर रही हैं और उन्हीं की बदौलत भारतीय महिला हॉकी टीम पहले भी कई मैच और टूर्नामेंट जीतने में कामयाब हुई है। उन्हें बेस्ट गोलकीपर के खिताब से भी नवाजा जा चुका है।
- साल 2006 में दक्षिण अफ्रीका में आयोजित चार देशों की स्पार कप प्रतियोगिता में सविता पूनिया ने कांस्य पदक जीता।
- इसके बाद 2009 में सविता पूनिया ने प्रथम महिला चैलेंज्ड चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीता।
- 2010 में जर्मनी में आयोजित चार देशों की प्रतियोगिता में भी सविता पूनिया ने अपना दमखम दिखाया और ब्रोंज (कांस्य) मेडल जीता।
- इसके बाद 2011 में भी सविता पूनिया का जबरदस्त प्रदर्शन जारी रहा। पिछले तीन साल सविता पूनिया के लिए काफी अच्छे रहे। उस पीरियड में सविता पूनिया ने इंटरनेशनल मैचों को शतक पूरा किया।
- 2017 में भी सविता पूनिया स्टार बनकर उभरीं। वो बेस्ट गोलकीपर तो बनीं हीं साथ ही भारतीय महिला हॉकी टीम ने महिला हॉकी वर्ल्ड लीग राउंड-2 के फाइनल मैच में चिली को हरा वर्ल्ड लीग सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई किया तो सविता फिर से बेस्ट गोलकीपर रहीं....और एशिया कप 2017 में भारतीय टीम को शानदार जीत दिलाई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×