--Advertisement--

बर्थ-डे सेलिब्रेट करने आ रहे दिल्ली के ४ दोस्तों की मौत-दो गंभीर घायल

बर्थ-डे सेलिब्रेट करने आ रहे दिल्ली के ४ दोस्तों की मौत-दो गंभीर घायल

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 12:44 PM IST
दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर हुए स दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर पर हुए स

साेनीपत/दिल्ली। घने कोहरे के कारण रविवार अस्सुबह सड़क हादसे में हमने चार खिलाड़ी खो दिए। हादसा सिंधु बॉर्डर पर उस वक्त हुआ, जब दिल्ली के रहने वाले 6 पावरलिफ्टिंग प्लेयर्स इन्हीं में से एक का बर्थ-डे सेलिग्रेट करने यहां मुरथल आ रहे थे। इचानक इनकी स्विफ्ट डिजायर कार पहले हाइवे के डिवाइडर और फिर खंभे से टकरा गई। इसके चलते 4 की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि बाकी दो गंभीर रूप से घायल हैं। घटना के बाद सभी के घर मातम पसरा है। योगेश की मां कह रही है बार-बार एक ही बात-मना किया था बेटा इतनी रात को मत जा...

- मृतकों की पचान दिल्ली के तीमारपुर निवासी टीकमचंद (27), सूरज (18), योगेश उर्फ आकाश (24) और हरीश राय (20) के रूप में हुई है। इनमें से कोई स्टेट तो कोई नेशनल लेवल का पावरलिफ्टिंग प्लेयर था।
- वहीं हादसे के वक्त इनके साथ नांगलोई के इंटरनेशल पावरलिफ्टर सक्षम यादव और नेशनल प्लेयर राहुल उर्फ बाली भी थे। बताया जा रहा है कि कल बाली का बर्थ-डे था, जिसे सेलिब्रेट करने लिए ये सभी दोस्त मुरथल के एक ढाबे पर आ रहे थे।
- अलीपुर गांव के पास अचानक इनकी स्विफ्ट डिजायर कार हाईवे के डिवाइडर से टकरा गई। इसके बाद यह पलटियां खाती हुई बिजली के एक खंभे से जा टकराई। खंभे से टक्कर के तुरंत बद कार की छत अलग हो गई, वहीं हाईवे पर कई सौ मीटर तक मांस के लोथड़े बिखरे पड़े थे।
सूचना पाकर अलीपुर थाने की पुलिस ने मौके पर पहुंच डेड बॉडीज को पोस्टमॉर्टम के लिए और घायलों को उपचार के लिए नरेला के सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र अस्पताल में भिजवाया। हालांकि यहां से हालत ज्यादा गंभीर होने के चलते दोनों घायलों को दिल्ली के मैक्स अस्पताल रेफर करना पड़ा।

ये हैं इनकी उपलब्धि
- हादसे में सभी मारे गए और एक घायल राहुल उर्फ बाली राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी रह चुके हैं, वहीं सक्षम यादव इंटरनेशनल लेवल का खिलाड़ी है। उसने मॉस्को में हाल ही दिसंबर में हुई वर्ल्ड कप पावरलिफ्टिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतकर देश का नाम रौशन किया था।

अगले महीने शादी होने वाली थी इकलौते बेटे की शादी
- हादसे के बाद जहां सभी खिलाड़ियों के मातम का माहौल है, वहीं सूचना पाकर अस्पताल पहुंची मारे गए योगेश उर्फ आकाश की मां प्रेमलता के आंसू रोके नहीं रुक रहे। वह बार-बार एक ही बात कह रही है कि उसने बेटे को इतनी रात को नहीं जाने के लिए कहा था, पर वह नहीं माना।
- प्रेमलता ने बताया कि योगेश पेशे से फोटोग्राफर था और साथ ही उसे पावरलिफ्टिंग का भी शौक था। वह मेरा इकलौता बेटा था, जिसकी फरवरी में शादी करनी थी। बेटे की मौत के बाद मैं लुट गई। बर्बाद हो गई।