Hindi News »Haryana »Panipat» Cabinet Minister Of Haryana Anil Vij Comments On Delhi NCR Pollution

दिल्ली-एनसीआर का पॉल्यूशन: कल सीएम ने कहा था हम साथ हैं, अब मंत्री ने कसा ये तंज

दिल्ली-एनसीआर का पॉल्यूशन: कल सीएम ने कहा था हम साथ हैं, अब मंत्री ने कसा ये तंज

Balraj Singh | Last Modified - Nov 16, 2017, 04:18 PM IST

पानीपत। दिल्ली-एनसीआर में बढ़ते पॉल्यूशन पर हो रही राजनीतिक बयानबाजी थमने का नाम ही नहीं ले रही। पॉल्यूशन के लिए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने हरियाणा-पंजाब में पराली जलाए जाने की घटनाओं को जिम्मेदार बताया था। बुधवार को इस मसले पर चंडीगढ़ में हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की खास मीटिंग हुई। इन दोनों ही नेताओं ने समस्या को गंभीर मानते हुए साथ मिलकर काम करने की बात कही थी। मनोहर लाल ने कहा था कि यह किसी एक राज्य की समस्या नहीं है। दिल्ली-एनसीआर हम सबकी जिम्मेदारी है। गुरुवार को इस मामले पर कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने फिर से तंज कसा है। बोले-आखिर दिल्ली ही क्यों जाती है सारी प्रदूषित हवाएं...

- दिल्ली में फैले प्रदूषण को लेकर हाल ही में हुई सीएम खट्टर अौर केजरीवाल की बैठक पर कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने चुटकी लेते हुए कहा कि सारी प्रदूषित हवाएं आखिर दिल्ली ही क्यों जाती हैं। केजरीवाल को दिल्ली में ही प्रदूषण का कारण ढूंढना चाहिए।
- विज ने कहा कि पराली तो मात्र 10 दिन के लिए जलाई जाती है, लेकिन दिल्ली में सारा साल प्रदूषण रहता है, उसके लिए कौन जिम्मेदार है? क्या कर रही है वहां की सरकार? विज ने आरोप लगाया कि केजरीवाल वहां बैठकर प्रदूषण के लिए हरियाणा दोषी है, क्योंकि किसान पराली जलाते हैं। दूसरी ओर पंजाब में इनकी पार्टी के वर्कर खड़े होकर सरेआम पराली जलाते हैं। केजरीवाल की दो-मुंही बात ठीक नहीं।
- विज यहीं नहीं रुके उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि ये सारी धुएं वाली हवाएं दिल्ली ही क्यों जाती हैं, दिल्ली को ही पोल्यूट क्यों करती हैं। चंडीगढ़, पंजाब-हरियाणा के बीच में हैं वह कभी प्रदूषित नहीं हुआ क्योंकि अगर पराली ही कारण होता तो पंजाब हरियाणा के बीच में आने वाला चंडीगढ़ सबसे पहले प्रदूषित होता।
- इसके अलावा विज ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा केजरीवाल को प्रदूषण के मामले में बातचीत के लिए समय न देने को गलत बताया। उन्होंने कहा कि यह गलत है बातचीत करने का समय देना चाहिए। मिलकर बातचीत करने में कोई नुकसान नहीं है।

पॉल्यूशन पर 3 मुख्यमंत्रियों के बीच हुआ था विवाद

- 8 नवंबर केजरीवाल ने पॉल्यूशन पर बातचीत के लिए खट्टर और अमरिंदर को चिट्ठी लिखी थी।
- 10 नवंबर को अमरिंदर ने केजरीवाल के मीटिंग के प्रोपोजल को नकार दिया। उन्होंने कहा, "पॉल्यूशन को रोकने के लिए केजरीवाल ने कुछ भी नहीं किया। यह बहुत बड़ा मुद्दा है। पॉल्यूशन बढ़ने में सभी राज्यों का योगदान है। अरविंद केजरीवाल बहुत ही अजीब शख्स हैं। वह स्थिति को समझे बिना ही उस पर राय दे देते हैं।"
- वहीं, खट्टर ने केजरीवाल की चिट्ठी का जवाब देते हुए कहा कि दो दिन (12-13 नवंबर) दिल्ली में हूं, आप चाहें तो मिल सकते हैं। 14 नवंबर को चंडीगढ़ में रहूंगा।
- 14 नवंबर को केजरीवाल ने ट्वीट किया, "बुधवार को हरियाणा के सीएम से बात होगी। आप (अमरिंदर) भी आए। ये सभी के हित का मामला है।"
- इस पर अमरिंदर ने कहा, "मुझे यह बात समझ में नहीं आती कि इस मीटिंग से कुछ निकलने नहीं वाला, ये बात अच्छी तरह से जानते हुए भी दिल्ली के सीएम बार-बार क्यों मीटिंग की बात कर रहे हैं।"

खट्‌टर-केजरीवाल ने कहा था- मिलकर निकालेंगे समस्या के लिए रास्ता
- दोनों सीएम की मुलाकात में पराली जलाने के मुद्दे और पॉल्यूशन दूर करने के उपायों पर चर्चा हुई। इस दौरान खट्टर ने कहा कि आगे भी हम खुले दिल से बातचीत करने को तैयार हैं।
- वहीं, मंगलवार को हरियाणा सरकार के अफसर इस मीटिंग को लेकर तैयारी करते नजर आए। पर्यावरण, पंचायत और कृषि विभाग के अफसरों ने पराली और पॉल्यूशन से संबंधित पूरे डाटा निकाले।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×