Hindi News »Haryana »Panipat» Police Disclosed Big Conspiracy Of Dera Sacha Sauda Followers In Charge Sheet

कतचेुकचिट्तुकिे्तचु टकचिेु िचेतटुकिे्चटु

कतचेुकचिट्तुकिे्तचु टकचिेु िचेतटुकिे्चटु

Manoj Kaushik | Last Modified - Nov 13, 2017, 10:06 AM IST

सिरसा। गुरमीत राम रहीम को को 20 साल की सजा सुनाए जाने के बाद सिरसा में हुई आगजनी और हिंसा करने के आरोपियों से पुलिस की पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। इसकी रिपोर्ट चार्जशीट के रूप में पुलिस ने कोर्ट में दाखिल कर दी है। चार्जशीट में पुलिस की ओर से दिए गए हिंसा में घायल डेरा समर्थक ज्ञानी सिंह के बयान के मुताबिक गुरमीत सिंह को दोषी करार देने से पहले मीटिंग हुई थी। जिसमें फैसला लिया गया था कि अगर फैसला विरुद्ध आता है तो सिरसा को भारत के नक्शे से मिटा देना है। सभी को आगजनी और तोड़फोड़ करते हुए शहर में घुसना है। पढ़िए क्या लिखा है चार्जशीट में...
- चार्जशीट में लिखा है कि डेर समर्थकों का प्लान था कि तोड़फोड़ के बाद सरकारी और गैर सरकारी जो भी आगे आए उसको जला देना है। जब बाबा को दोषी करार दिया तो हजारों की संख्या में भारत विरोधी नारे लगाते हुए डेराप्रेमी निकले।
- जिनके हाथ में लाठियां, पेट्रोल बंब , लोहे की रॉड और अन्य प्रकार के हथियार थे। उसके हाथ में भी पत्थर थे। भीड़ ने पुलिस पर हमला बोल दिया। नाका तोड़ने का प्रयास किया गया।
- इस दौरान गोलीबारी हुई। जिसमें उसके कमर पर गोली लग गई। वह गिर गया। भीड़ में शामिल लोग भागने लगे। उसे डेरा के अस्पताल में भर्ती करवाया गया।
- वहां से अग्रोहा रैफर कर दिया। ज्ञानी सिंह के चार्जशीट में दिए गए बयान में बताया कि वह उस स्थान की निशानदेही करवा सकता है। जिसमें नाका तोड़कर सिरसा को आग लगाने की कोशिश की थी।
- ज्ञानी सिंह ने बताया कि वह 20 अगस्त को ही डेरा में आ गया था। उसका परिवार डेरे से जुड़ा हुआ है। उसने डेरे के आरे पर भी चार साल तक काम किया है।
उपद्रवियों ने बिजली घर में 7 और वीटा मिल्क प्लांट में 53 वाहनों को कर दिया था आग के हवाले
- गुरमीत सिंह को दोषी करार देते हुए डेरे से निकली उपद्रवियों की भीड़ के पास बंदूक, पिस्टल, पैट्रोल बंब, लाठी और लोहे के हथियार थे। सबसे पहले शाहपुर बेगू के बिजलीघर में तोड़फोड़ करते हुए वहां पर 7 वाहन फूंके।
- इसके अलावा ट्रांसफार्मर को भी गोली मारी। हाईकोर्ट में सौंपी रिपोर्ट के मुताबिक उसके बाद भीड़ फायरिंग करती हुई वीटा मिल्क प्लांट में घुसी। जहां पर तोड़फोड़ करते हुए 53 वाहनों को आग लगाई। एक रोड पर गाड़ी जलाई गई थी।
- उसके बाद पेपर मिल के पास लगाए गए नाके पर हमला बोला गया। उपद्रवियों की ओर से एंबुलेंस की टक्कर मारकर नाका तोड़ने का भी प्रयास किया गया था।
आगजनी और हिंसा में अब तक 102 आरोपी किए गिरफ्तार
- सिरसा पुलिस ने इस पूरे प्रकरण में आगजनी और हिंसा के 20 केस दर्ज किए। जिसमें एक हजार से अधिक अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया।
- सीसीटीवी की फुटेज के माध्यम से अब तक पुलिस ने 102 आरोपी गिरफ्तार कर रखे हैं। सोमवार को भी पुलिस ने दो आरोपियों को आगजनी और हिंसा करने सहित देशद्रोह की धारा के तहत गिरफ्तार किया है।
- पकड़े गए आरोपियों की पहचान प्रदीप कुमार पुत्र कृष्ण कुमार निवासी कल्याण नगर कॉलोनी व सुरजीत सिंह पुत्र गुरदीप सिंह निवासी प्रीत नगर कॉलोनी के रूप में हुई है।
आगे की स्लाइ्डस में देखें सिरसा में हुई हिंसा की फोटो.......
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×