Hindi News »Haryana »Panipat» Pradyuman Thakur Murder Case Ashok Appear In Court For Bail

प्रद्युम्न केस: कोर्ट में हुई आरोपी अशोक की पेशी, दोपहर बाद होंगे बहस

प्रद्युम्न केस: कोर्ट में हुई आरोपी अशोक की पेशी, दोपहर बाद होंगे बहस

Manoj Kaushik | Last Modified - Nov 16, 2017, 11:50 AM IST

प्रद्युम्न केस: कोर्ट में हुई आरोपी अशोक की पेशी, दोपहर बाद होंगे बहस

गुड़गांव। प्रद्युम्न मर्डर केस के आरोपी बस कंडक्टर अशोक को गुरुवार को कोर्ट से राहत नहीं मिल सकी। यहां कोर्ट ने सीबीआई से पूछा है कि किस आधार पर अशोक को अरेस्ट किया गया है। इस पर सुबह सीबीआई ने कोई रिस्पॉन्स नहीं दिया। दोपहर फिर से सुनवाई हुई तो सीबीआई ने कहा कि हालांकि अशोक के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं है, लेकिन मामले की जांच अभी जारी है। दूसरी ओर प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने भी अशोक को जमानत दे दिए जाने का विरोध किसा। इसी बीच कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई अब 20 नवंबर तय की है। 3 ग्राउंड पर मांगी थी अशोक के लिए बचाव पक्ष ने बेल...

- बताते चलें कि बीते 8 सितंबर को गुड़गांव के भोंडसी स्थित रेयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास के बच्चे प्रद्युम्न ठाकुर का गला रेतकर मर्डर कर दिया गया था।

- इस मामले में गुड़गांव पुलिस की जांच में स्कूल बस के कंडक्टर अशोक को आरोपी माना गया है तो दूसरी ओर सीबीआई ने इस मामले में 11वीं क्लास के एक स्टूडेंट को अरेस्ट कर कोर्ट में पेश किया तो वहां से उसे 22 नवंबर तक बाल सुधार गृह भेज दिया गया।

- इस मामले में गिरफ्तार बस कंडक्टर अशोक की बेल के लिए गुरुवार को कोर्ट में सुनवाई हुई, जिसमें बेल के लिए बचाव पक्ष ने 3 ग्राउंड पर अपनी दलील रखी।

पहला ग्राउंड:3 मिनट के सीसीटीवी फुटेज में अशोक की बेगुनाही का राज

- सीबीआई सूत्रों के मुताबिक, वारदात वाली सुबह सीसीटीवी फुटेज में टॉयलेट के पास अशोक की मौजूदगी का वक्त 4 मिनट के आसपास है, जबकि 11वीं क्लास के आरोपी स्टूडेंट की मौजूदगी 3 मिनट कुछ सेकंड की है।

- सीबीआई की हैदराबाद के साइंस एंड फोरेंसिक लैब से जो सीसीटीवी फुटेज क्लीयर होकर आई है, वह भी करीब 3 मिनट की है। इसी फुटेज में अशोक की बेगुनाही का राज है।

दूसरा ग्राउंड:टीचर ने कहा था जख्मी प्रद्युम्न को कार में रखवा दो

- स्कूल टीचर अंजू ने ही अशोक से प्रद्युम्न को फर्श से उठाकर कार में रखने को कहा था। इसी वजह से अशोक के कपड़ों पर खून लगा। हालांकि, जब अशोक ने सीबीआई को यह बात बताई, तब वह टीचर का नाम नहीं जानता था।

- इसके बाद सीबीआई ने स्कूल की कई टीचरों को अशोक के सामने लाकर खड़ा किया, तब उसने अंजू को पहचाना। इसके बाद सीबीआई ने अंजू से वारदात के वक्त हुई सारी गतिविधि की जानकारी ली।

तीसरा ग्राउंड: चाकू

- जिस चाकू से गला काटा गया, उसकी खरीदारी के लिए सोहना के दुकानदार तक सीबीआई का पहुंचना और चाकू की दोबारा बरामदगी शामिल है। ऐसा कहा जा रहा है कि सीबीआई ने इसी सबूत के आधार पर 11वीं क्लास के आरोपी स्टूडेंट को अरेस्ट किया है।

11 नवंबर को कोर्ट ने सीबीआई को दिया था नोटिस
- अशोक की बेल पिटीशन दायर होने के बाद कोर्ट की तरफ से सीबीआई को 11 नवंबर को नोटिस जारी किया गया था। ऐसा कहा जा रहा है कि सीबीआई अब अशोक की बेल पिटीशन का विरोध नहीं करेगी।

- बताया जा रहा है कि प्रद्युम्न मर्डर केस में सीबीआई को सही दिशा दिखाने वाला भी अशोक ही है। उसने सीबीआई को वे सब बातें बताईं, जिस कारण उसे जुर्म न करने के बावजूद जुर्म कबूल करना पड़ा। पुलिस ने जिस तरह अशोक को थर्ड डिग्री दी, वह सबकुछ उसने जांच एजेंसी के सामने बयां किया है।

- बचाव पक्ष के एडवोकेट मोहित वर्मा ने बताया- "सीबीआई इस केस में ज्यादातर सच सामने ला चुकी है। अशोक को जिन ऑफिसर्स ने जिनके कहने पर फंसाया, वह भी सीबीआई पता लगा चुकी है।"

डीसीपी पर गिरी गाज

- प्रद्युम्न मर्डर की जांच में शामिल रहे डीसीपी सिमरदीप सिंह के मंगलवार को ट्रांसफर के आदेश दिए गए। हालांकि इन आदेशों में 15 आईपीएस, तीन एचपीएस अधिकारियों के ट्रांसफर भी किए गए हैं पर डीसीपी सिमरदीप सिंह के ट्रांसफर की काफी चर्चा है।

- सीबीआई को जांच सौंपने के साथ ही भोंडसी थाना इन्चार्ज नरेंद्र का ट्रांसफर कर दिया गया था। वहीं, अब डीसीपी सिंह का तबादला भी इसी कड़ी का हिस्सा माना जा रहा है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Panipat

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×