--Advertisement--

शिकायत लेकर थाने पहुंची दो लेडी, एक खुद एड्स से पीड़ित तो दूसरा का पति संक्रमित

शिकायत लेकर थाने पहुंची दो लेडी, एक खुद एड्स से पीड़ित तो दूसरा का पति संक्रमित

Danik Bhaskar | Nov 29, 2017, 06:56 PM IST

यमुनानगर। एचआईवी की शिकायत लेकर दो महिलाएं बुधवार को पुलिस थाने पहुंच गई। एक खुद एचआईवी से पीड़ित है तो दूसरी ने अपने पति को एचआईवी पीड़ित बताया है। दोनों केस की जांच महिला थाना की प्रोटेक्शन आफिसर को दी गई है। अब दोनों पक्षों को बुलाकर बातचीत की जाएगी। प्रोटेक्शन आफिसर अरविंद्र जीत कौर ने बताया कि दोनों पक्षों को बातचीत के लिए समय दिया गया है। आमने-सामने दोनों पक्षों से बातचीत की जाएगी। जो भी बीच का रास्ता निकलेगा, वह निकाला जाएगा। ये दोनों ऐसे मामले हैं, जोकि एक गंभीर बीमारी के चलते पैदा हुए हैं, इन्हें दोनों परिवारों की सहमति से ही निपटाया जाएगा। बता दें एचआईवी पॉजिटिव के साथ संबंध बनाने से एचआईवी हो सकती है। इसलिए दोनों मामले यहां तक पहुंच गए।
पति को एचआईवी, शराब पीकर बच्चों के सामने करता है छेड़छाड़...

- जिले के एक गांव निवासी महिला ने महिला थाने में दी शिकायत में बताया कि उसकी शादी दस साल पहले हुई थी। शुरू से ही उसके पति का व्यवहार उसके पति ठीक नहीं था और दहेज की मांग करते थे। शराब पीकर वे बच्चों के सामने ही उनसे छेड़छाड़ करते थे।
- उसे शक है कि उसके पति के अपनी भाभी के साथ अवैध संबंध हैं। मुझसे ससुराल में मारपीट की जाती है। प्रोटेक्शन आफिसर के सहायक देवेंद्र शर्मा ने बताया कि इस शिकायत पर थाने में महिला के पति को मंगलवार को बुलाया गया था।
- दोनों पक्षों से बातचीत की तो महिला के पति ने कहा कि उसे एचआईवी है। वहीं इस पर महिला ने कहा कि वह अपने पति के साथ इसलिए नहीं हर सकती कि उसे एचआईवी है। वह उसके साथ जबरदस्ती करता है। अगर संबंध बनाए तो उसकी भी जिंदगी खराब हो सकती है।

मुझे एचआईवी, मैं ससुराल में नहीं रहना चाहती
- दूसरी शिकायत जगाधरी निवासी महिला ने दी है। महिला ने शिकायत में कहा कि उसकी शादी पांच साल पहले हुई थी। वह शुरु से किडनी की बीमारी से पीड़ित है।
- शादी से पहले उसने ससुरालियों को इस बारे में बता भी दिया था। ससुराल पक्ष उससे बेटा चाहते हैं, लेकिन शादी के बाद उसने बेटी को जन्म दिया।
- डिलीवरी के समय उसे गलत खून चढ़ने से एचआईवी हो गया था। उसकी सास उसे परेशान करती है।
- वह अब ससुराल में नहीं रहना चाहिए। वह अकेली जिंदगी जीना चाहती है। इस पर प्रोटेक्शन विंग के कर्मचारियों का कहना है कि महिला के ससुरालियों ने इलाज का पूरा खर्च उठाने की बात कही है, लेकिन महिला साथ नहीं रहना चाहती।