भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट: सीएम ने 309 व्यायामशालाओं का किया उद्घाटन, उनमें भी 40% तक अधूरा पड़ा काम / भास्कर ग्राउंड रिपोर्ट: सीएम ने 309 व्यायामशालाओं का किया उद्घाटन, उनमें भी 40% तक अधूरा पड़ा काम

3 साल पहले बनाई थी 401 व्यायामशाला शुरू करने की योजना, सीएम को गुमराह करते रहे अधिकारी।

May 06, 2018, 09:27 AM IST
तीन साल तक अधिकारी सीएम को काम तीन साल तक अधिकारी सीएम को काम

पानीपत. मुख्यमंत्री मनोहर लाल के जन्मदिन पर िजन 309 व्यायामशालाओं का उद्घाटन किया गया, उनमें से ज्यादातर में 40 फीसदी तक काम अधूरा पड़ा है। कहीं सिर्फ पोल खड़े हैं, लेकिन शेड नहीं डाली गई तो कहीं लाइटिंग का काम पूरा नहीं हो पाया है। 180 योग शिक्षकों की ही नियुक्ति हो पाई है। प्रदेश की भाजपा सरकार ने 2015 में प्रदेश में 401 व्यायामशालाएं बनाने की योजना बनाई थी। इनकी निगरानी का कार्य कृषि और पंचायती राज मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ को दिया था।

3 साल सीएम को गुमराह करते रहे अधिकारी

- तीन साल तक अधिकारी सीएम को काम पूरा होने का भरोसा देकर गुमराह करते रहे। इसके चलते सीएम ने हर जगह जाकर घोषणा कर दी कि वे 5 मई को एक साथ 401 व्यायामशालाओं का उद्घाटन करेंगे। अब 5 मई आई तो कुछ जिलों की सच्चाई सामने आ गई।

- इसके बाद सीएम ने कहा कि जिनका काम पूरा है, उनका ही उद्घाटन करवाएं, इसमें भी सीएम को गुमराह कर 309 व्यायामशालाओं का उद्घाटन करा दिया। जबकि इनमें से आधी ही पूरी तरह तैयार हो पाई हैं। जिस योजना का सरकार प्रचार कर रही थी। अधिकारियों की लापरवाही के चलते उसी ने किरकिरी करवा दी है।

- इस कार्यक्रम के लिए कई दिन से जिलों व चंडीगढ़ में काम चल रहा था। सीएम का कार्यक्रम हर जिले में लाइव दिखाने की व्यवस्था थी। कहीं मंत्री तो कहीं विधायकों के कार्यक्रम रखे थे, लेकिन सरकार ने जैसा सोचा था वैसा नहीं हो पाया और आधी अधूरी व्यायामशालाओं का ही सीएम से उद्घाटन करवा दिया गया।

रोहतक में बननी थी 45 व्यायामशाला, केवल 2 ही बन पाई

रोहतक: कुल 45 व्यायामशालाएं बननी थी, केवल 2 तैयार हुई हैं। शेष 43 व्यायामशालाएं तैयार नहीं हो पाईं। रोहतक के जसिया, सुंदरपुर, आसन, मदीना, घुसकानी, फरमाणा गांव में 6 योग वालंटियर तो नियुक्त कर दिए गए, लेकिन उन्हें योग कराने के लिए ठिकाना नहीं मिल पा रहा है। तीन साल में फंड न आने पर निर्माण अटका है।

पानीपत: 16 व्यायामशालाओं का उद्घाटन तो कर दिया, लेकिन 4 से 6 में ही कम पूरा हुआ है। शेष में कहीं 70 फीसदी तो कहीं 60 फीसदी काम पूरा हुआ है। गांजबड़ गांव में 4 एकड़ की व्यायामशाला के लिए 19 लाख मंजूर किए हैं। सरपंच पिंकी रानी ने बताया कि व्यायामशाला का काम 70 प्रतिशत पूरा है। ओपन जिम व लाइटें लगानी बाकी हैं। पंचायत भादड़ की सरपंच रीना रानी ने बताया कि ओपन जिम लगाना बाकी है।

चरखी दादरी: कुल 22 व्यायामशालाएं बननी थी। 17 का कार्य अभी चल रहा है, जिनमें टीन शेड का कार्यव बिजली सप्लाई शुरू नहीं हुई है। तीन पर जमीन पैमाइश का विवाद है।

हिसार: 36 व्यायामशालाएं बननी थीं, इनमें से 6 का कार्य अधूरा है। सिरसा में कुल 55 बननी थी, लेकिन 34 का फंड आया। चार गांवों में निर्माण हुआ है, इनमें भी खेल कोच नियुक्त नहीं हैं। अम्बाला में 9 बननी हैं, लेकिन 4 का ही काम पूरा हुआ है।

कई जिलों में केवल खाली मैदान ही पड़े

इन व्यायामशालाओं में ओपन हॉल, चेंजिंग रूम, दो से ढाई एकड़ में घास वाला ग्राउंड, कोच और योग शिक्षक और रात के लिए अच्छी लाइटों आदि व्यवस्था की प्लानिंग बनाई गई थी, लेकिन इनमें से ज्यादातर में अभी तक ये सुविधाएं नहीं हैं। कई जगह पर केवल खाली मैदान पड़े हैं, उन्हीं में प्रैक्टिस करेंगे।

जल्द पूरे कराएंगे काम

अधिकारियों से पहले ही काम पूरा करने के लिए कहा गया था कि िजनका काम पूरा हो, उनका ही उद्घाटन करवाएं, इसलिए 309 का शुभारंभ किया गया, फिर यदि इनमें काम अधूरा है, तो उसकी रिपोर्ट लेकर जल्द पूरा कराया जाएगा। -ओम प्रकाश धनखड़, पंचायती राज मंत्री।

X
तीन साल तक अधिकारी सीएम को काम तीन साल तक अधिकारी सीएम को काम
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना