पानीपत

--Advertisement--

​हरियाणा में 30 हजार सफाई कर्मचारी 3 दिन की हड़ताल पर, सफाई ठप, मंत्री बोली- नहीं कोई सूचना

फायरकर्मी भी हैं हड़ताल पर। पूरे प्रदेश में सफाई व्यवस्था पूरी तरह से ठप।

Danik Bhaskar

May 09, 2018, 12:37 PM IST
हड़ताल में शामिल फायर कर्मचारी। हड़ताल में शामिल फायर कर्मचारी।

पानीपत। नगरपालिका कर्मचारी संघ हरियाणाा के बैनर तले बुधवार को नगर निगमों, पालिकाओं एवं परिषदों में कार्यरत लगभग 30 हजार कर्मचारी तीन दिन की हड़ताल पर चले गए। इस वजह से पूरे प्रदेश में बुधवार को किसी भी वार्ड में सफाई नहीं हुई। इसमें फायर कर्मी भी शामिल हैं। सभी कर्मचारी नगर निकाय दरफ्तरों के बाहर धरने पर बैठे और अपनी मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया। वहीं जब इस संबंध में संबंधित महकमे की मंत्री कविता जैन से बातचीत की गई तो उनका कहना था कि मुझे ऐसी कोई सूचना नहीं, कर्मचारियों ने कोई नोटिस नहीं दिया है। वैसे भी आपदा प्रबंधन को लेकर नगर निकाय विभाग में इस सप्ताह छुटि्टयां रद्द की हुई है। हालांकि कर्मचारियों ने जनहित को ध्यान में रखते हुए जल आपूर्ति व अग्निशमन सेवाएं बाधित नहीं करने का फैसला लिया है। पढ़िए क्या हैं कर्मचारियों की मांगें...

- पालिका कर्मियों से की गई ठेका प्रथा समाप्त की जाए।
- कच्चे कर्मचारियों को पक्का किया जाए।
- 15 हजार न्यूनतम वेतनमान दिया जाए।

10 निगम, 16 नगर परिषद और 61 नगरपालिकाएं हो रहीं प्रभावित
- प्रदेश में 10 नगर निगम, 16 नगर परिषद व 61 नगरपालिकाएं हैं, जिनके कर्मचारी 9 मई से शुरू हो रही 72 घंटे की हड़ताल में शामिल होंगे।
- चेतावनी दी कि 10 मई की शाम 5 बजे तक सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया तो तीन दिवसीय हड़ताल अनिश्चितकालीन हो सकती है।
- प्रदेशव्यापी हड़ताल की निगरानी करने और कर्मचारियों का हौसला बढ़ाने के लिए 5 कर्मचारी जत्थों का गठन किया है। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा, सीआईटीयू, ग्रामीण सफाई कर्मचारी यूनियन ने हड़ताल का समर्थन किया है।

सरकार पर बातचीत न करने का आरोप
- नगरपालिका कर्मचारी संघ के प्रधान नरेश कुमार शास्त्री, वरिष्ठ उपप्रधान राजेंद्र सिनद, महासचिव जरनैल सिंह चिनालिया व उपमहासचिव शिवचरण आदि का कहना है कि विभाग की मंत्री कविता जैन व मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजेश खुल्लर के साथ हुए समझौतों को लागू नहीं किया गया है।
- बातचीत न करने की हठधर्मिता सरकार की बनी हुई है। करीब 1360 अग्निशमन विभाग में लगे फायरमैन व ड्राइवरों की सेवा विस्तार नहीं किया जा रहा है।
हड़ताल से यहां पड़ रहा असर
- प्रदेश में कचरा नहीं उठेगा। नगर निकायों के काम ठप हो जाएंगे। स्ट्रीट लाइट, कर वसूली, पानी के बिल, सीवरेज के काम, सभी प्रकार की पेंशन बनाने, वितरण के काम होंगे प्रभावित।

सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कर्मचारी। सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कर्मचारी।
मंत्री कविता जैन। (फाइल) मंत्री कविता जैन। (फाइल)
Click to listen..