--Advertisement--

स्कूल बस व ऑटो की भिड़ंत में तीन की मौत, पांच घायल

गांव राजगढ़ निवासी 36 वर्षीय कुलदीप उर्फ धर्मबीर बुधवार सुबह अपने ऑटो में सवारियां लेकर भिवानी आ रहा था।

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 02:19 PM IST

भिवानी। भिवानी-लोहारू मार्ग स्थित गांव धिराणा मोड़ के निकट बुधवार सुबह स्कूल बस व ऑटो की भिड़ंत हो गई। हादसे में ऑटो चालक व शिक्षा विभाग की क्लर्क सहित तीन की मौत हो गई, वहीं पांच घायल हो गए, जिनमें से एक को प्राथमिक उपचार के बाद रोहतक पीजीआइ रेफर किया गया है।

गांव राजगढ़ निवासी 36 वर्षीय कुलदीप उर्फ धर्मबीर बुधवार सुबह अपने ऑटो में सवारियां लेकर भिवानी आ रहा था। ऑटो में करीब 9 सवारियां बैठी हुई थी। इसी दौरान राजगढ़ के एक निजी स्कूल की बस भी गांव देवसर से स्कूली बच्चों को लेकर लौट रही थी। जब ऑटो धिराणा मोड़ के नजदीक पहुंचा तो अचानक उसका आगे का टायर निकल गया। जिस कारण चालक का ऑटो पर नियंत्रण नहीं रहा। इससे ऑटो व बस दोनों की भिड़ंत हो गई।

बस ऑटो को टक्कर मारते हुए सड़क किनारे खड़े पेड़ से जा टकराई। जिसमें ऑटो व स्कूल बस दोनों क्षतिग्रस्त हो गई। इस हादसे के बाद राहगीर घटनास्थल पर इकट्ठे हो गए और उन्होंने घायलों को संभाला। निजी वाहनों की मदद से घायलों को उपचार के लिए चौ. बंसीलाल नागरिक अस्पताल में लाया गया। बताया जा रहा है कि स्कूल बस में सवार बच्चे बाल-बाल बच गए, लेकिन इस हादसे के बाद स्कूली बच्चे भी सहमे हुए हैं।

जिला अस्पताल में पहुंचने पर चिकित्सकों दो को मृत घोषित कर दिया और दो की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें प्राथमिक उपचार के बाद रोहतक पीजीआइ रेफर कर दिया। हादसे में घायल युवती ने रोहतक पीजीआइ में ले जाते समय रास्ते में दम तोड़ दिया।

सड़क हादसे में ऑटो चालक राजगढ़ निवासी 36 वर्षीय कुलदीप उर्फ धर्मबीर, राजगढ़ निवासी 60 वर्षीय मूर्ति देवी मौत हुई है। वहीं शिक्षा विभाग में क्लर्क राजगढ़ निवासी 23 वर्षीय संगीता की रोहतक पीजीआइ में ले जाते समय मौत हो गई। संगीता का हाल ही में हुई क्लर्क भर्ती में चयन हुआ था।

सड़क हादसे में ऑटो सवार राजगढ़ निवासी हरियाणा पुलिस की जवान सविता, नवनियुक्त शिक्षा विभाग की क्लर्क राजगढ़ निवासी अनिता, राजगढ़ निवासी मधु व प्रमिंद्र तथा धिराणा निवासी बजरंग घायल हो गए। प्रमिंद्र को गंभीर हालत के चलते चिकित्सकों ने रेफर कर दिया। जिसे परिजन उपचार के लिए हिसार के एक निजी अस्पताल में ले गए।