Hindi News »Haryana »Pehowa» ई-पंचायत प्रणाली का विरोध, सरपंच व ग्राम सचिव का धरना जारी

ई-पंचायत प्रणाली का विरोध, सरपंच व ग्राम सचिव का धरना जारी

ई-प्रणाली के विरोध में सरपंचों व ग्राम सचिवों का बीडीपीओ कार्यालयों के बाहर धरना-प्रदर्शन रविवार को छुट्टी के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 02:40 AM IST

ई-पंचायत प्रणाली का विरोध, सरपंच व ग्राम सचिव का धरना जारी
ई-प्रणाली के विरोध में सरपंचों व ग्राम सचिवों का बीडीपीओ कार्यालयों के बाहर धरना-प्रदर्शन रविवार को छुट्टी के बावजूद जारी रहा। थानेसर बीडीपीओ कार्यालय पर सरपंच एसोसिएशन के ब्लॉक प्रधान शमशेर सिंह व महासचिव हरपाल के नेतृत्व में सरपंचों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर ई-प्रणाली व्यवस्था वापस लेने की मांग की।

इस दौरान वार्ड-13 से जिला परिषद सदस्य रीतू के पति राजेश बारना व वार्ड-17 से जिप सदस्य जसबीर सैनी ने भी धरने पर पहुंच सरपंचों व ग्राम सचिवों को समर्थन दिया। आलमपुर के सरपंच रजनीश कुमार, दयालपुर के सरपंच रजत कुमार, ईशाकपुर के सरपंच राजेश कुमार, नरकातारी सरपंच सतबीर सिंह, किरमिच सरपंच ओमप्रकाश व सुनेहड़ी सरपंच राजेश कुमार ने कहा सरकार द्वारा ग्राम पंचायत में ई-प्रणाली लागू न करने बारे ग्राम सभा में प्रस्ताव पास करने संबंधी जो सुझाव दिया गया है। इस सुझाव के अनुसार ई-प्रणाली न अपनाने पर पंचायत की वित्तीय शक्तियां दस लाख रुपए तक ही रहेंगी। जबकि ई-प्रणाली अपनाने वाली पंचायतों की वित्तीय सहायता 20 लाख रुपए रहेगी। लिहाजा यह फैसला सरपंचों को दोफाड़ करने का प्रयास है। सरकार की यह मंशा सरपंच कभी पूरी नहीं होने देंगे।

कुरुक्षेत्र | बीडीपीओ कार्यालय पर मांगों को लेकर रोष जताते सरपंच व अन्य।

सरपंच व ग्राम सचिवों ने सरकार के खिलाफ की नारेबाजी

पिहोवा | प्रदेश सरकार द्वारा लागू ई प्रणाली व ग्राम सचिवों को सस्पेंड करने के विरोध में सरपंचों ने लगातार दूसरे दिन भी बीडीपीओ कार्यालय के बाहर धरना दिया। धरने में सरपंचों के साथ ग्राम सचिवों ने भी हिस्सा लिया। सरपंच एसोसिएशन के प्रधान जगदीश सेठी, सरपंच जितेंद्र बबलू व सरपंच साधू सिंह ने बताया कि ई प्रणाली से पंचायतों को जोड़ने से सरपंचों को भारी परेशानी आएगी। उन्होंने मांग की है कि सरकार द्वारा लागू ई प्रणाली को वापस लिया जाए और जिन ग्राम सचिव को सस्पेंड किया गया है उन्हें बहाल किया जाए। इस मौके पर सरपंच मनजीत सिंह , साधू सिंह, सुभाष चंद, बोढ़ा से सरपंच पति सोमपुरी, राजकुमार , कर्मबीर सारसा, सरपंच पति परमजीत सिंह, दलबीर सिंह, सुरजीत सिंह, कर्मबीर, सरपंच ससुर ईसमा राम व सचिव जेपी, राजेश दहिया, महावीर, छबील दास, विक्रम, श्रवण, धर्मपाल, लखविंद्र , संजीव, अंकुश, दयाकिशन, राहुल, रणजीत, मदन लाल, प्रदीप मौजूद रहे।

ई-प्रणाली के विरोध में तीसरे दिन भी सरपंचों ने दिया धरना

लाडवा | लाडवा ब्लॉक के सरपंच और सचिव लाडवा के बीडीपीओ कार्यालय में तीसरे दिन भी धरने पर बैठे रहे।

गांव धनौरा के सरपंच बाबूराम ने कहा कि सरकार द्वारा सरपंचों के साथ जो अभद्र व्यवहार किया गया है उसका खामियाजा सरकार को 2019 के लोकसभा व विधानसभा चुनावों में भुगतना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि अपनी मांगों को लेकर पूरे हरियाणा के सरपंच प्रत्येक ब्लॉक स्तर पर धरने-प्रदर्शन कर रहे हैं, लेकिन सरकार तानाशाही रवैये के चलते सरपंचों की मांग पर ध्यान नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि सोमवार से बड़ी संख्या में सरपंच धरने प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे। इस अवसर पर जसविंद्र, बाबूराम, मनजीत बकाली, रामचंद्र बड़ोंदी, होशियार सिंह, सुरेश भूतमाजरा, राजपाल बपदा, अशोक खरकाली, फतेह सिंह सुलतानपुर, चानन राम बीड़ सोंटी, विकास जैनपुर, विकास लाठी धनोरा, मेवा सिंह जंधेड़ा, धर्मबीर बरोट, रघबीर बड़ोंदा, जोगिंद्र सूरा, गुरनाम सिंह, कुलदीप कालीरोनो और रामप्रसाद शहजादपुर मौजूद रहे।

इस्माइलाबाद में सरपंच भूख हड़ताल पर

इस्माइलाबाद | ई-प्रणाली के विरोध में धरने पर बैठे किसान व ग्राम सचिव।

इस्माइलाबाद | ई-प्रणाली के विरोध में बीडीपीओ कार्यालय के बाहर इस्माइलाबाद के सरपंचों ने भी धरना प्रदर्शन लगातार तीसरे दिन रविवार को भी जारी रखा। प्रदर्शन के दौरान खंड से एकजुट हुए सरपंचों ने ग्राम सचिव कर्मवीर सिंह, सरपंच इस्माइलाबाद संजीव अरोड़ा के नेतृत्व में सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। तीसरे दिन थांदड़ो के सरपंच सुरजीत सिंह, माजरी कलां के सरपंच रामपाल, कुम्हार माजरा के सरपंच कैप्टन मलूख सिंह और ग्राम सचिव कर्मवीर भूख हड़ताल पर बैठे रहे। लेकिन कोई भी अधिकारी व सरकार का प्रतिनिधि सरपंचों की सुध लेने के लिए बीडीपीओ कार्यालय नहीं पहुंचा। जिसके चलते सरपंचों में रोष है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pehowa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×