Hindi News »Haryana »Pehowa» 7 दिन में सामान्य से 108 % अधिक बारिश, अभी 2 दिन आसार

7 दिन में सामान्य से 108 % अधिक बारिश, अभी 2 दिन आसार

लाडवा | गीता मंडी के नजदीक पड़े करोड़ों रुपए के गेहूं के कट्टे बरसात के पानी की भेंट चढ़े हुए। बरसात से स्कूल व...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 05, 2018, 02:35 AM IST

  • 7 दिन में सामान्य से 108 % अधिक बारिश, अभी 2 दिन आसार
    +3और स्लाइड देखें
    लाडवा | गीता मंडी के नजदीक पड़े करोड़ों रुपए के गेहूं के कट्टे बरसात के पानी की भेंट चढ़े हुए।

    बरसात से स्कूल व घरों में घुसा पानी, लोगों को हुई परेशानी, थानेसर में सबसे ज्यादा 92 एमएम बरसात

    भास्कर न्यूज | कुरुक्षेत्र, झांसा

    बुधवार को जिलेभर में झमाझम बारिश हुई। हर ब्लॉक में 40 एमएम से ज्यादा बारिश हुई। थानेसर में मंगलवार और बुधवार को 92 एमएम बारिश हुई। शहर की सड़कों पर पूरा दिन जल भराव की स्थिति बनी रही। वहीं द्रोणाचार्य स्टेडियम व ताज पार्क तालाब बन गए। बुधवार को अधिकतम तापमान 31 डिग्री व न्यूनतम तापमान 25 डिग्री रहा। वहीं 72 प्रतिशत उमस रही। बारिश होने से खेतों में जलभराव होने लगा हैं। वहीं झांसा में खेतों में धान की फसल डूब गई।

    गांव के मुख्य चौराहे व गलिया तालाबों में तब्दील हो गई। घरों में पानी घुस गया। सरकारी स्कूल में जलभराव के कारण स्कूल का ग्राउंड तालाब बन गए। ग्राउंड में एक फुट तक पानी भर गया। बारिश से स्कूल के कमरों व साइंस लैब में पानी भर गया जिस कारण स्टाफ सदस्यों ने स्कूली बच्चों की समय से पहले ही छुट्टी करनी पड़ी। ग्राम पंचायत ने पानी निकालने के लिए स्कूल में पंप लगवाया।

    कहां कितनी हुई बारिश : पिहोवा में 42 एमएम, इस्माइलाबाद में 74, बाबैन में 97 एमएम, लाडवा में 74 एमएम, शाहाबाद में 65 एमएम बारिश हुई। पिहोवा में सबसे कम 42 एमएम बारिश हुई। वहीं थानेसर में सबसे ज्यादा 92 एमएम।

    सोमवार से दो दिन बारिश की संभावना : मौसम विशेषज्ञ श्याम सिंह ने कहा अभी चार दिन तक बादल छाए रहेंगे। उसके बाद सोमवार से दो दिन बारिश होने की संभावना हैं। कृषि अधिकारी कर्मचंद ने कहा कि बारिश के होने के कारण धान की रोपाई में तेजी आई हुई हैं। बारिश के कारण लगभग धान की रोपाई पूरी होने को हैं।

    बाबैन की वाल्मीकि बस्ती, अनाजमंडी व कई कॉलोनियों में घुसा बरसाती पानी-बुधवार अल सुबह हुई बरसात बाबैन में पानी की निकासी के लिए बने नाले अवरुद्ध हो गए। जिससे बरसाती पानी वाल्मीकि बस्ती, अनाज मंडी, पुरानी अनाज मंडी, इंदिरा कॉलोनी व नई कॉलोनी में घुस गया। बाबैन में पिछले 20 दिनों से सरपंच का पद खाली होने के चलते बरसात से पहले नालों की सफाई भी नहीं करवाई गई।

    पानी निकासी के लिए बने मुख्य नाले के निकासी द्वार पर दुकानदारों द्वारा पॉलीथिन व कचरा डालने और पब्लिक हेल्थ के ट्यूबवेल की बिल्डिंग बनने के कारण पानी निकासी बंद हो गई। इससे लोगों को अपने मकानों व दुकानों के गिरने का खतरा हो गया है। वहीं बरसात से बाबैन को जलमग्र हुआ देख बीडीपीओ कंवरभान नरवाल और ग्राम सचिव संजीव सैनी ने अर्थ मूविंग लगाकर कई स्थानों पर पानी निकासी में रोड़ा बने अतिक्रमण को हटवाया। बाबैन के मुख्य बाजार के बीचों-बीच स्टेट हाइवे नंबर सात गुजरता है, जिसके दोनों और पानी की निकासी के लिए नाले बने हुए हैं। इन नालों पर एक और तो दुकानदारों व दूसरी और खोखे वालों ने कब्जे किए हुए हैं। जिसके कारण नालों की सफाई भी नहीं हो पाती।

    अतिक्रमण को हटवाया बीडीपीओ : बाबैन बीडीपीओ कंवरभान नरवाल ने कहा कि नालों का पानी रोकने वाले अतिक्रमण को हटवाया गया है। नालों में बरसाती पानी की निकासी के रुकने का कारण पॉलीथिन है। उन्होंने दुकानदारों व ग्रामीणों से पॉलीथिन का प्रयोग बंद करने का आह्वान किया।

    लाडवा | गीता मंडी के नजदीक बरसाती पानी को निकालते विभाग द्वारा लगाए गए कर्मचारी।

    झांसा | बरसात के बाद स्कूलों में जमा हुआ पानी।

    बाबैन | झमाझम बरसात के चलते कॉलोनी में भरा पानी।

    करोड़ों रुपए की सरकारी गेहूं भीगा

    लाडवा | लाडवा में मंगलवार देर रात मानसून की बरसात ने लोगों को गर्मी से राहत दिलाई वहीं किसानों के चेहरे पर भी रौनक ला दी। वहीं महाराजा अग्रसेन चौक, लाडवा अनाज मंडी गेट, जिंदल पार्क और खेड़ा मार्केट सहित कई इलाकों में पानी भर गया। वहीं गीता मंडी के नजदीक खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा लगाई गई करोड़ों रुपए की सरकारी गेहूं बरसात के पानी की भेंट चढ़ गई। आनन-फानन में बुधवार सुबह खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारियों ने पानी निकालने का काम शुरु करवाया। लेकिन तब तक करोड़ों रुपए की गेहूं भीग चुकी थी। इसके अलावा लाडवा एसडीएम अनिल यादव और तहसीलदार हरीश कालड़ा ने शहर में जाकर जलभराव की स्थिति का जायजा लिया। इसके बाद अधिकारियों को बुलाकर अगली बरसात आने से पहले पानी निकासी की उचित व्यवस्था करने के निर्देश दिए। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा गीता मंडी के सामने बने गोदामों के अंदर सरकारी गेहूं के 35 स्टैग लगाए गए थे। एक स्टैग के अंदर 2737 गेहूं के कट्टे लगे हुए हैं जोकि बरसात के पानी में भीग गए। विभाग ने सुबह सात बजे पानी निकालने का काम शुरु किया और चार घंटे की मशक्कत के बाद पानी निकाला गया।

    नालों की नहीं हो पाई सफाई : खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के सब इंस्पेक्टर प्रेमपाल ने कहा कि नपा द्वारा नालों की सफाई न करने के कारण गोदाम में बरसात का पानी भर गया। जिसके कारण सरकारी गेहूं भीगा है। लाडवा नपा प्रधान साक्षी खुराना ने कहा कि नपा के पास इस समय 38 सफाई कर्मचारी हैं। उन्होंने कहा कि लाडवा शहर में 80 सफाई कर्मियों की जरूरत है। उन्होंने कहा कि नपा की ओर से बरसात को देखते हुए नालों की सफाई करवाई गई है। जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा सीवरेज की सफाई न करवाने के कारण समस्या हुई है।

    अधिकारियों को निकासी व्यवस्था बनाने के दिए निर्देश : एसडीएम अनिल यादव ने कहा कि बरसात के पानी की निकासी व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि जन स्वास्थ्य विभाग का जनरेटर खराब और बिजली न होने के कारण बरसाती पानी निकालने में परेशानी का सामना करना पड़ा। उन्होंने कहा कि संबंधित अधिकारियों को भविष्य में जलभराव की स्थिति न बनने के लिए निकासी के प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं।

  • 7 दिन में सामान्य से 108 % अधिक बारिश, अभी 2 दिन आसार
    +3और स्लाइड देखें
  • 7 दिन में सामान्य से 108 % अधिक बारिश, अभी 2 दिन आसार
    +3और स्लाइड देखें
  • 7 दिन में सामान्य से 108 % अधिक बारिश, अभी 2 दिन आसार
    +3और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pehowa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×