• Home
  • Haryana News
  • Pehowa
  • 40 मिनट में निकला 3 गांवों की 40 साल पुरानी समस्या का हल
--Advertisement--

40 मिनट में निकला 3 गांवों की 40 साल पुरानी समस्या का हल

तीन गांवों में सिंचाई के पानी को लेकर चली आ रही समस्या शुक्रवार को समाधान की तरफ बढ़ी। डीसी डॉ. एसएस फुलिया ने लोगों...

Danik Bhaskar | Jun 16, 2018, 02:40 AM IST
तीन गांवों में सिंचाई के पानी को लेकर चली आ रही समस्या शुक्रवार को समाधान की तरफ बढ़ी। डीसी डॉ. एसएस फुलिया ने लोगों की आपसी सहमति के साथ लगभग 40 मिनट में निपटाया दिया। किसान रेस्ट हाउस में गुमथलागढू, थैमल बोड़ा और कैथल के गांव पबाला के दर्जनों लोगों की बैठक हुई। डीसी डॉ. एसएस फुलिया ने सभी पक्षों की बातों को सुना। पबाला गांव के लोगों का कहना था कि लगभग 40 वर्षों से सिंचाई के लिए उन्हें पानी नहीं मिल रहा हैं। गुमथलागढू और थैमल बोड़ा के लोगों का कहना था कि पहले पानी की सप्लाई पर्याप्त मात्रा में आती थी, लेकिन अब पानी की सप्लाई कम है। लोग यही चाह रहे थे कि गुमथला माइनर से पानी की सुचारू सप्लाई अपने-अपने हिस्से के अनुसार हो जाए। गुमथला और थैमल बोड़ा की तरफ से रघबीर सिंह चट्ठा, साहब सिंह, हरजिन्द्र सिंह, अमरीक सिंह और कर्ण सिंह उपस्थित थे। जबकि पोबाला गांव की तरफ से अमरजीत सिंह, इन्द्र जीत सिंह, जोगा सिंह, शेर सिंह, गुरजंट सिंह उपस्थित थे। पोबाला गांव के इन्द्र जीत सिंह का कहना था कि गुमथला मोगे पर उनकी लगभग 350 एकड़ जमीन लगती है। पानी मिलने से हम अपनी फसल को अच्छी तरह से पोषित कर सकेंगे।

डीसी ने मौके पर उपस्थित काडा और सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ-साथ दोनों पक्षों से सुझाव मांगे। बीच में यह सुझाव भी आया कि गुमथला की तरफ से जो सड़क पोबाला की तरफ जाती है उसके साथ-साथ पाइप लाइन डालकर पानी पोबाला के खेतों तक पहुंचाया जा सकता है। वैसे भी वहां पर कुछ खेतों में कच्चा नाला बना है।

पिहोवा | किसान रेस्ट हाऊस में ग्रामीणों की समस्याएं सुनते डीसी डॉ. एसएस फुलिया।

सर्वे के बाद बनेगा प्रपोजल

सुझावों पर डीसी ने तुरंत सिंचाई विभाग के एक्सईन, एसडीएम पिहोवा और तहसीलदार को निर्देश दिए कि संबंधित क्षेत्र का सर्वे करवाया जाए। दस दिनों में सर्वे होना चाहिए। रोजाना इस बारे में अपडेट करें। सर्वे के बाद प्रपोजल बनाकर अगली कार्रवाई बिना किसी देरी के अमल में लाई जा सके। इस पर बैठक में उपस्थित दोनों पक्षों ने सहमति जताई। डीसी ने कहा कि इसे प्रशासन सही कराएगा। इस विषय को लेकर जब एसडीओ काडा से बात की गई तो उन्होंने कहा कि डीसी ने उनकी ड्यूटी फिजिबिलिटी चैक करने की लगाई है। साइट क्लियर मिलती है तो वे अपनी रिपोर्ट 10 दिन से पहले दे देंगे।