• Hindi News
  • Haryana News
  • Pehowa
  • प्रकृति का हरा भरा स्वरूप को सहेजना हमारी जिम्मेदारी : प्रो. रणधीर
--Advertisement--

प्रकृति का हरा भरा स्वरूप को सहेजना हमारी जिम्मेदारी : प्रो. रणधीर

पिहोवा | विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर गांव छैलों में ग्रामीणों की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें...

Dainik Bhaskar

Jun 06, 2018, 02:45 AM IST
प्रकृति का हरा भरा स्वरूप को सहेजना हमारी जिम्मेदारी : प्रो. रणधीर
पिहोवा | विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर गांव छैलों में ग्रामीणों की ओर से कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसमें समाजसेवी प्रो. रणधीर सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि हिस्सा लेकर पौधारोपण कार्यक्रम की शुरुआत की। प्रो. रणधीर ने कहा कि प्रकृति के जिस स्वरूप को आज हम देख रहे हैं। इसे तैयार होने में लाखों वर्ष का समय लगा है, लेकिन मानव ने विकास की दौड़ में कंक्रीट का ऐसा जाल बिछाया जिससे पर्यावरण व प्रकृति को बड़ा नुकसान हो रहा है। इसका खामियाजा आने वाली पीढिय़ों को बाढ़, भूकंप व सूखा जैसी प्राकृतिक आपदाओं के रूप में भुगतना होगा। इस बर्बादी से बचने का केवल एक ही तरीका है कि अधिक से अधिक पौधे लगाए जाएं। साथ ही वन्य प्राणियों, पक्षियों और जीव जंतुओं का संरक्षण किया जाए। क्योंकि जीव श्रृंखला में से यदि एक भी जीव कम हुआ तो मानव सहित सभी प्रजातियां प्रभावित होंगी। इस मौके पर रणधीर सिंह, सुरेंद्र कुमार, रमेशचंद्र, जगमेल, जयमल, सिकंदर , रुद्र, रमेश कुमार, बलविंद्र वाल्मीकि, नसीब राम, जसमेर, गुरमीत, जोनी, प्रमोद, मनोज, होशियार सिंह, कुलविंद्र , मीता, रवि, गुरमीत, मनीष व रिंकू व अन्य मौजूद रहे।

X
प्रकृति का हरा भरा स्वरूप को सहेजना हमारी जिम्मेदारी : प्रो. रणधीर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..