• Home
  • Haryana News
  • Pipli
  • ऊंटसाल में डीसी ने किया निरीक्षण, मनरेगा के हाजिरी रजिस्टर में 81, मौके पर मिले 62 मजदूर
--Advertisement--

ऊंटसाल में डीसी ने किया निरीक्षण, मनरेगा के हाजिरी रजिस्टर में 81, मौके पर मिले 62 मजदूर

भास्कर न्यूज | कुरुक्षेत्र-पिपली गुरुवार देर शाम डीसी डॉ. एसएस फुलिया ने गांवों में मनरेगा के कामों का औचक...

Danik Bhaskar | Jun 15, 2018, 02:30 AM IST
भास्कर न्यूज | कुरुक्षेत्र-पिपली

गुरुवार देर शाम डीसी डॉ. एसएस फुलिया ने गांवों में मनरेगा के कामों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान ऊंटसाल में साइट पर रजिस्टर के मुताबिक कम मजदूर मिले। जिस पर सरपंच और एबीपीओ को फटकार लगाई। साथ ही दोनों को कारण बताओ नोटिस दिया।

गांव अढोन में 3 पोंड सिस्टम के निर्माण में ईंटों की गुणवत्ता के लिए सैंपल भरवाए। सैंपल जांच को एनआईटी देने के आदेश दिए। रिपोर्ट आने तक उक्त मार्का की ईंटों के प्रयोग पर रोक लगाई। गुरुवार शाम को डीसी डॉ. फुलिया व एडीसी अनीस यादव ने गांव अढोन, ऊंटसाल और सुनहेड़ी खालसा का निरीक्षण किया। अढोन में मनरेगा के तहत तालाब की खुदाई कर रहे मजदूरों की हाजरी चेक की। सुविधाओं बारे पूछताछ की। तालाब के लिए पौने दस लाख रुपए का भुगतान होना है। हालांकि यहां कोई अनियमितता नहीं मिली।

कमी दिखी तो ईंटों के भरे सैंपल, रोका काम

अढोन में ही 3 पौंड सिस्टम के निर्माण कार्य जांचा। ईंटों की गुणवत्ता सही नहीं दिखी। जिस पर सैंपल भरवा कर जांच को एनआईटी भेजने के आदेश दिए। जबतक रिपोर्ट नहीं आती तब तक निर्माण में ईंटों का प्रयोग नहीं किया जाएगा। सरपंच रमेश ने कामों बारे बताया। इसके बाद ऊंटसाल में तालाब की खुदाई के कार्य देखने पहुंचे। यहां पर हाजिरी रजिस्टर के अनुसार 81 में से 62 मजदूर ही मौके पर मिले। डीसी ने एक-एक मजदूर को नाम से बुलाकर रिकार्ड चेक किया। मौके पर जगह की पैमाइश भी करवाई। मजदूरों की कम संख्या बारे सरपंच सुखविन्द्र वालिया संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए। एडीसी यादव को इन सभी को कारण बताओ नोटिस देने को कहा।

गर्मी के चलते नहीं आए, पुराना रिकॉर्ड होगा चेक

सरपंच सुखविन्द्र ने अपना पक्ष रखा। कहा कि गर्मी के वजह से मजदूर सुबह ही अपना कार्य पूरा कर लेते हैं, लेकिन डीसी उक्त जवाब से संतुष्ट नहीं हुए। एडीसी को निर्देश दिए कि ऊंटसाल में मनरेगा के तहत चल रहे कार्य के पुराने हाजिरी रजिस्टर को भी चेक करें। कमी मिले, तो कार्रवाई की जाए। मौके पर पंचायती राज के एसडीओ सतपाल, मनोज कुमार आदि भी मौजूद रहे।

निरीक्षण करते डीसी डॉ. एसएस फुलिया।