• Hindi News
  • Haryana News
  • Pundri
  • 46 दिन बाद फल्गु मेला, प्रशासन की तरफ से कोई तैयारी नहीं
--Advertisement--

46 दिन बाद फल्गु मेला, प्रशासन की तरफ से कोई तैयारी नहीं

फरल के फल्गु तीर्थ पर लगने वाले ऐतिहासिक मेले में मात्र 46 दिन शेष रह गए हैं। 24 सितंबर से 8 अक्टूबर तक लगने वाले मेले...

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 02:51 AM IST
46 दिन बाद फल्गु मेला, प्रशासन की तरफ से कोई तैयारी नहीं
फरल के फल्गु तीर्थ पर लगने वाले ऐतिहासिक मेले में मात्र 46 दिन शेष रह गए हैं। 24 सितंबर से 8 अक्टूबर तक लगने वाले मेले के लिए प्रशासन व सरकार द्वारा अभी तक कोई तैयारियां शुरू नहीं की गई हैं। मेले के दौरान किए जाने वाले कई कार्य ऐसे होते हैं जो कई महीने पहले शुरू कर दिए जाते हैं जैसे तीर्थ को जोड़ने वाली लगभग आधा दर्जन सड़कें, ढांड-पूंडरी मुख्य मार्ग सड़क जगह-जगह से टूट चुकी है। जिसमें एक से दो फुट के गड्ढे पड़ चुके हैं। तीर्थ में गंदा पानी जमा है, जिसे निकालकर स्वच्छ पानी डालना होता है। जिसके निकालने में ही 15 से 20 दिन लग जाते हैं और पानी भरने में भी इतना ही समय लगता है। तीर्थ के घाटों के पत्थर टूटे हैं। जिनकी मरम्मत करने के लिए भी पानी का निकालना जरूरी है। तीर्थ के चारों तरफ फैली गंदगी की सफाई करवाई जानी है। पीने के पानी व बिजली की समुचित व्यवस्था की जानी है। गांव में तीर्थ की तरफ बने तालाब के साथ सड़क पट चुकी है जिस पर मिट्टी डलवाई जानी है। नहीं तो कोई भी दुर्घटना घट सकती है। मेले के आयोजन तक ऐसे कार्य हो पाना असंभव है। मेले से पूर्व अगर तैयारी नहीं की जाती है तो बाहर से आने वाले 10 से 12 लाख श्रद्धालुओं को समस्याओं का ही सामना करना पड़ेगा। ग्रामीण शीशपाल, सेवा सिंह, रतिराम, राजा राम, कंवरपाल, हरिकिशन, वेदप्रकाश, सतपाल व दिनेश कुमार ने बताया कि पूर्व में लगे मेलों के दौरान कई महीने पहले से ही तैयारियां शुरू कर दी जाती थी।

इस बार डीसी कैथल द्वारा 3 जुलाई को प्रशासनिक अधिकारियों के साथ तीर्थ का दौरा किया गया था लेकिन महीना बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई।

गांव के सरपंच स. अमरेंद्र सिंह ने बताया कि मेले के आयोजन के लिए अभी तक कोई ग्रांट मंजूर होकर नहीं आई है। इस बारे वे भी उच्चाधिकारियों से मिलेंगे।

पूंडरी | फल्गु तीर्थ पर फैली गंदगी।

X
46 दिन बाद फल्गु मेला, प्रशासन की तरफ से कोई तैयारी नहीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..