--Advertisement--

सबसे बड़ी शक्ति मां बगलामुखी:आचार्य

मां बगलामुखी मंदिर पूंडरी में दुर्गा अष्टमी के शुभ अवसर पर हवन व भंडारे का आयोजन किया गया। मंदिर संचालक आचार्य...

Danik Bhaskar | Jul 21, 2018, 02:55 AM IST
मां बगलामुखी मंदिर पूंडरी में दुर्गा अष्टमी के शुभ अवसर पर हवन व भंडारे का आयोजन किया गया। मंदिर संचालक आचार्य राजीव शर्मा ने बताया कि मां बगलामुखी मां महागौरी की दस महाविद्यायों में आठवीं महाविद्या माता बगलामुखी हैं। इन शक्ति रूपा की पूजा-अर्चना करने से शत्रु, रोग, कष्ट व कर्ज आदि पर विजय प्राप्त होती है। संसार का कोई ऐसा संताप नहीं है। जिसका निवारण इनकी अराधना से संभव न हो। जीवन में अगर कभी ऐसा समय आए जब शत्रुओं के भय से आप बेहाल हो सभी रास्ते बंद हो और कानूनी मामलों में आप दलदल की तरह फंसकर रह जाएं। तब ब्रह्मांड की सबसे बड़ी शक्ति मां देवी बगलामुखी की पूजा से आप अपने जीवन को सफल बनाकर मनचाही दिशा दे सकते हैं। संपूर्ण ब्रह्मांड की शक्ति इनमें समाई हुई है। मां की जयंती के दिन अथवा प्रत्येक बृहस्पति इनकी आराधना करने से शत्रुनाश, वाकसिद्धि, वाद-विवाद में विजय, शत्रुओं और बुरी शक्तियों का नाश तथा जीवन में समस्त प्रकार की बाधाओं से मुक्ति मिलती है। पूजा करने के लिए पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठे। थोड़ी सी पीली हल्दी का ढेर बनाएं उस पर मां के स्वरूप के समक्ष दीप जलाएं। मां के स्वरूप पर पीले वस्त्र अर्पित करने से बड़ी से बड़ी बाधा का नाश होता है। बगलामुखी देवी के मंत्रों का जाप करने से दुखों का नाश होता है।

पूंडरी| मां बगलामुखी मंदिर में हवन करते हुए।