--Advertisement--

भगवान की लीला लौकिक जगत से परे : डाॅ. रमनीक

पूंडरी | जगत सद्भावना संस्थान के सानिध्य में दानामल धर्मशाला पूंडरी में आयोजित श्रीमद्भगवत कथा के सातवें दिन...

Dainik Bhaskar

Aug 04, 2018, 03:06 AM IST
पूंडरी | जगत सद्भावना संस्थान के सानिध्य में दानामल धर्मशाला पूंडरी में आयोजित श्रीमद्भगवत कथा के सातवें दिन सद्भावना दूत भगवताचार्य डाॅ. रमनीक कृष्ण जी महाराज ने प्रेम की पावनी रास पंचाध्यायी की कथा श्रवण कराते हुए भगवान की ये लीला लौकिक जगत से परे हैं। केवल भगवान से प्रेम करने वाला व परमात्मा पे विश्वास करने वाला ही इस लीला को समझ सकता है क्योंकि जो इस लीला को संसार की दृष्टि से देखता है। उसमें उसे जगत ही दृश्यमान होगा और जो इस लीला को अलौकिक दृष्टि से देखता है, उसे इसमें केवल पूर्णपुरुषोत्म चिदानंद भगवान की ही सत्ता का आभास होगा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..