Hindi News »Haryana »Ratia» रतिया में एक माह में एक मीटर गिरा भू-जलस्तर

रतिया में एक माह में एक मीटर गिरा भू-जलस्तर

जिले में भू जल स्तर लगातार नीचे खिसक रहा है। रतिया क्षेत्र में पिछले एक माह में एक मीटर भू जल स्तर नीचे खिसक गया।...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 01, 2018, 03:00 AM IST

रतिया में एक माह में एक मीटर गिरा भू-जलस्तर
जिले में भू जल स्तर लगातार नीचे खिसक रहा है। रतिया क्षेत्र में पिछले एक माह में एक मीटर भू जल स्तर नीचे खिसक गया। गिरते भू जल स्तर का पता लगाने को लेकर सोमवार को हाइड्रोलॉजिस्ट व ग्रांउड वाटर लेवल विभाग के हाइड्रोलॉजिस्ट राकेश कुमार के आदेशानुसार हिसार की टीम ने ट्रेसर सुनील कुमार के नेतृत्व में जिले भर मे वाटर लेवल प्वाइंटों से पानी के सैंपल व भू जल स्तर की रिपोर्ट तैयार की। शुरूआत रतिया बीडीपीओ कार्यालय में में भू-जल स्तर विभाग द्वारा लगाए गये बोर से पानी के लेबल के नमूने लिए। विभाग द्वारा बारिश से पहले व बारिश के बाद भू जल स्तर लेवल की जांच के साथ हर माह पानी का लेवल व गुणवत्ता को लेकर जांच की जाती है। पानी के नमूने व रिपोर्ट हिसार लैब में भेजी जाएगी जहां पिछली रिपोर्ट के साथ सैंपल का मिलान किया जाएगा।

ये है जिले की रिपोर्ट

ग्राउंड वाटर लेवल विभाग के ट्रेसर सुनील कुमार के अनुसार रतिया क्षेत्र में वाटर लेवल लगातार नीचे जा रहा है। ताजा रिपोर्ट के अनुसार रतिया में वाटर लेवल 51 मीटर, फतेहाबाद में 18 मीटर, भूना में 18.6, भट्टू कलां में 3.30, टोहाना में 18 मीटर, धांगड़ में 12 मीटर, सूलीखेड़ा में 4.85 मीटर, बरवाला में 9 मीटर, नारनौंद में 18 मीटर, टोहाना में 18 मीटर, जाखल में 36 मीटर पर वाटर लेवल मिला है। रतिया में पिछले एक माह में एक मीटर वाटर लेवल नीचे चला गया। जो कि चिंता का विषय है। पिछली बार रतिया शहर में वाटर लेवल 50 मीटर था।

विभाग के अनुसार साल 1996 में रतिया का वाटर लेवल 36 मीटर पर था जो कि खिसक कर अब 51 मीटर तक पहुंच गया है। इसी प्रकार तब जाखल का वाटर लेवल 22 मीटर था जो अब 36 पर पहुंच गया है। टोहाना में तब वाटर लेवल 12 मीटर था जो अब 18 मीटर पर पहुंच गया है। टोहाना में नहरों का जाल बिछा होने के कारण पानी का लेवल कम खिसकता है। फतेहाबाद में साल 1996 में वाटर लेवल तब 18 मीटर पर था जो कि अब करीब 49 मीटर पर पहुंच गया है।

भू-जल के नमूने लेता ट्रेसर सुनील कुमार।

भट्टू कला में कम पानी दोहन

रिपोर्ट के अनुसार क्षेत्र में पंजाब सीमा के साथ लगते गांव सौत्र भट्टू में भू जल स्तर सबसे नीचे है यहां जल स्तर 54.70 मीटर पर है जबकि करनौली में 54.51 पर है। भट्टू कला में कम पानी दोहन के कारण जल स्तर 3.30 मीटर पर है।

ट्यूबवेल कनेक्शन पर रोक

विभाग के अनुसार ज्यादा ट्यूबवेल व पानी दोहन से जलस्तर नीचे जा रहा है। कोई क्षेत्र डार्क जोन में आता है तो वहां पर ट्यूबवेलों के कनेक्शन पर रोक लगा दी जाती है ताकि भू जल स्तर नीचे न जाए।

जिले भर में लिए सैंपल : ट्रेसर

भू जल स्तर विभाग हिसार के ट्रेसर सुनील कुमार ने कहा कि हमने जल स्तर का लेवल जांचने व गुणवत्ता को लेकर बोर लगाए हुए है। पानी के सैंपल लेकर रिपोर्ट तैयार की गई है। पानी के सैंपल के नमूने जांच के लिए लैब में भेजे है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ratia

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×