--Advertisement--

आईपीएस के दबाव में रामकरण छोड़ा आरोपी नहीं पकड़े गए तो लगाएंगे जाम

वकील प्रॉपर्टी डीलर सत्यवान मलिक की हत्या के मामले में परिवार ने पुलिस प्रशासन को 2 दिन का अल्टीमेटम दिया है।

Danik Bhaskar | Dec 23, 2017, 08:09 AM IST

रोहतक। शीलाबाईपास पर 11 दिसंबर को हुई वकील प्रॉपर्टी डीलर सत्यवान मलिक की हत्या के मामले में परिवार ने पुलिस प्रशासन को 2 दिन का अल्टीमेटम दिया है। परिवार ने मामले में कार्रवाई आरोपियों की गिरफ्तार होने पर सड़क जाम करने की चेतावनी दी है।


बसंत विहार में पत्रकारों से बातचीत में सत्यवान मलिक की पत्नी परविंद्र मलिक ने कहा कि वारदात 11 दिसंबर की रात को हुई। पुलिस दी गई एफआईआर में कैप्टन रामकरण पहलवान समेत कई लोगों के नाम दिए थे। पुलिस ने कार्रवाई करते रामकरण को पकड़ा। बाद में एक आईपीएस के दबाव में छोड़ दिया, जबकि नामजद आरोपी को छोड़ना गलत है। परविंद्र ने आरोप लगाया कि आईपीएस अफसर रामकरण के माइनस के काम में पार्टनर है। यह अफसर जांच में बाधा डाल रहा है। आईपीएस अफसर के कारण मामले में तो आरोपी पकड़े गए हैं और ही आगे कार्रवाई हो रही है। हालात ऐसे हैं कि आरोपियों से हमारे परिवार को जान का खतरा है। कभी भी किसी के साथ कुछ भी हो सकता है। इसके लिए आईपीएस अफसर रामकरण जिम्मेदार होगा। पुलिस ने दो दिन में कार्रवाई नहीं की तो 25 दिसंबर को सड़क जाम कर देंगे।

राजेश बवाना है प्रोडक्शन वारंट पर, बिहार में छापेमारी
बसंतविहार निवासी प्रॉपर्टी डीलर सत्यवान मलिक की शीला बाईपास पर 11 दिसंबर को स्कार्पियो सवारों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद स्कार्पियो ओमेक्स सिटी से बरामद हो गई थी। पुलिस ने परिजनों की शिकायत पर सोनीपत निवासी संदीप बड़वासनी के परिजनों जानकारों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया। इस मामले में पुलिस भोंडसी जेल से राजेश बवाना को प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई हुई है। सोनीपत के अलावा बिहार में भी शूटरों को पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है।