--Advertisement--

3 दुकानदारों को आया फोन-पेटीएम से पेमेंट करूंगा, OTP पूछ खातों से निकाले 41 हजार

एक व्यक्ति ने फोन कर साढ़े 4 घंटे के अंदर तीन दुकानदारों से पेटीएम का ओटीपी नंबर पूछा और करीब 41 हजार रुपये निकाल लिए।

Dainik Bhaskar

Dec 19, 2017, 07:35 AM IST
cyber fraud case in rohtak

रोहतक. शहर में साइबर क्राइम की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही हैं। तीन दिन पहले पुलिस ने एटीएम क्लोनिंग के मामले का खुलासा कर राहत की सांस ली थी। अब फिर सोमवार को एक गिरोह ने नए तरीके से ठगी को अंजाम दिया। एक व्यक्ति ने फोन कर साढ़े 4 घंटे के अंदर तीन दुकानदारों से पेटीएम का ओटीपी नंबर पूछा और करीब 41 हजार रुपये निकाल लिए। दो मोबाइल विक्रेताओं से आरोपी ने डॉक्टर बनकर फोन किया और उनके खाते से 26 हजार 725 रुपये निकाल लिए। वहीं, एक टायर विक्रेता से आरोपी ने ग्राहक बनकर बात की और उसके खाते से 15 हजार रुपए निकाल लिए। आशंका जताई जा रही है कि यह काम एक ही व्यक्ति का है। उसने एक दुकानदार को नाम लेकर भी बोला। इससे अनुमान है कि या तो वह कोई जानकार है या फिर उसने पहले रेकी की है। इन मामलों में हर बार की तरह पुलिस का एक ही रटारटाया जवाब है ये केस ट्रेस नहीं होते। इन वारदात से गोहाना अड्डा बाजार के दुकानदारों में हड़कंप मचा रहा। देर शाम तक इन्हीं घटनाओं की चर्चा बाजार में रही।

1. सुबह 09:30 बजे : डॉक्टर बोल रहा हूं, पेटीएम से फोन की पेमेंट करूंगा, ओटीपी बताओ
गोहाना अड्डा बाजार पर मोबाइल फोन विक्रेता अशोक ने बताया कि उसके भाई अमरजीत के फोन पर सोमवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे एक फोन आया। फोन करने वाले ने खुद को डॉक्टर बताया। उसने कहा कि भाई अमरजीत, मैंने एक नोकिया एक्स फोन लेना है, कितनी कीमत है। उन्होंने फोन की कीमत बताई तो बोला लड़का भेज रहा हूं। ओटीपी नंबर बताओ, पेटीएम से रुपए डाल देता हूं। उसने फोन पर अाया ओटीपी नंबर बता दिया। इसके बाद उसके फोन पर 12,400 रुपये निकलने का मैसेज आया। इसके बाद वह सचेत हो गया।

2. सुबह 10:00 बजे : डॉक्टर बोल रहा हूं, नोकिया फोन लेना है, ओटीपी बताओ
गोहाना अड्डा पर ही दसमेश मोबाइल शॉप के संचालक परविंद्र ने बताया कि उसके पास साहिल नाम का लड़का दुकान पर काम करता है। सुबह साहिल के मोबाइल पर एक व्यक्ति का फोन आया और बोला कि भाई डॉक्टर बोल रहा है, नोकिया एक्स फोन लेना है। इसकी कीमत कितनी है। साहिल ने 15 हजार रुपए बताए। बोला, ठीक है पेटीएम से पेमेंट करके फोन लेने के लिए लड़के को भेज देता हूं। जल्दी ओटीपी नंबर बताअो। साहिल ने ओटीपी नंबर बताया तो एकदम खाते से 14 हजार 325 रुपये की नकदी उड़ गई।

3. दोपहर 02:00 बजे : तीन मिनट तक फोन भी छोड़ गया काम करना
हुडा कांप्लेक्स स्थित एमआरएफ टायर दुकान के संचालक अंकुर दुआ ने बताया कि उसके पास दोपहर करीब दो बजे एक व्यक्ति का फोन आया कि भाई साहब एक्टिवा के टायर लेने हैं। कुछ समय पहले लड़का टायर देखने भी आया था। इतनी बात सुनते ही उसे विश्वास हाे गया कि ग्राहक होगा। फिर बोला, भाई साहब टायर लेने लड़के को भेज रहा हूं और पेमेंट पेटीएम से करूंगा, ओटीपी नंबर बताओ। उसने पेटीएम नंबर बता दिया। इसके बाद दो-तीन मिनट तक अंकुर का फोन हैंग हो गया। इसके बाद जब फोन चला तो खाते से 15 हजार रुपये निकलने का मैसेज आया हुआ मिला।

रुपए निकलवाने में होता है ओटीपी नंबर का प्रयोग
साइबर एक्सपर्ट अरूण हुड्डा का कहना है कि पेटीएम पर यदि ओटीपी मांगा जाता है, तो वह रुपए निकालने के लिए होता है। ठग आपका पेटीएम नंबर जानता है। उसे किसी ट्रांजेक्शन में यूज करेगा तो वह ओटीपी नंबर पूछेगा।

पुलिस बोली, ऐसे मामले में कुछ भी नहीं हो सकता

तीन दुकानदारों के खाते से रुपये निकलने के बाद जब वे शिकायत लेकर पुलिस के पास पहुंचे तो पुलिस बोली कि ऐसे मामलों में कुछ नहीं होता। आरोपी किसी और के खाते में रुपये डलवाते हैं और किसी अन्य व्यक्ति का ही नंबर प्रयोग करते हैं। ऐसे अपराधी पकड़ में आने मुश्किल हैं।

cyber fraud case in rohtak
X
cyber fraud case in rohtak
cyber fraud case in rohtak
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..